एडिकशन या लत एक ऐसी बीमारी है, जिसे आप चाहकर भी छोड़ नहीं पाते। आप एक ही चीज के पीछे दिन भर लगे रह सकते हैं। लत जुएं की हो सकती है, शराब की हो सकती है, ड्रग्स की हो सकती है, सोशल मीडिया की लत हो सकता है। एडिकशन किसी तरह के सबस्टेंस या गलत बिहेवियर में इंगेज होने की असमर्थता है। आपको पता होता है कि यह आपको मनोवैज्ञानिक और शारीरिक तौर पर नुकसान पहुंचा रहा है,. लेकिन आप चाह कर भी कुछ नहीं कर पाते। यह एक क्रॉनिक कंडीशन है, जिसके कारण आपको मेडिकेशन पर रहना पड़ सकता है। आप कैसे अपने एडिकशन पर काबू पा सकते हैं, उसके लिए क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट डॉ. भावना बर्मी कुछ तरीके बता रही हैं। इससे पहले आइए एडिकशन के बारे में थोड़ा विस्तार से जान लें।

क्या है एडिकशन?

what is addiction

अमेरिकन सोसाइटी ऑफ एडिकशन मेडिसिन ने एडिकशन को 'एक उपचार योग्य, क्रॉनिक मेडिकल डीजिज के रूप में परिभाषित किया है जिसमें ब्रेन सर्किट, जेनेटिक्स, पर्यावरण और एक व्यक्ति के जीवन के अनुभवों के बीच कॉम्प्लेक्स इंटरैक्शन होता है। एडिकटेड लोग पदार्थों का उपयोग करते हैं या ऐसे व्यवहार में इंगेज होते हैं जो बाध्यकारी हो जाते हैं और अक्सर हानिकारक परिणामों के बावजूद उसे छोड़ नहीं पाते।' बहुत से लोग, नशीली दवाओं का उपयोग करना शुरू करते हैं या पहले स्वेच्छा से किसी गतिविधि में शामिल होते हैं। इस तरह धीरे-धीरे यह लत आत्म-नियंत्रण को छीन लेती है। 

कितने प्रकार के होते हैं एडिकशन?

जैसा कि हमने आपको बताया कि एडिकशन कई प्रकार के हो सकते हैं। इनमें मुख्य रूप से दो तरह के एडिकशन देखने को मिलते हैं, जो शारीरिक या व्यवहारिक हो सकता है। शारीरिक या फिजिकल एडिकशन पदार्थों का सेवन होता है, जो या तो इंजेस्ट किए जाते हैं या व्यक्ति अलग तरीके से लेता है। इसमें अल्कोहल, तंबाकू, शराब, ड्रग्स, आदि एडिकशन होते हैं। वहीं व्यावहारिक या बिहेवरियल एडिकशन वो होता है जिसमें आप कुछ चीजों के प्रति अपना काबू नहीं रख पाते हैं। इसमें आपको एक्सरसाइज, खाने-पीने की, सेक्स, शॉपिंग, गैंबलिंग, काम करने आदि की लत लगती है। एडिकशन आपके मानसिक स्वास्थ्य के साथ खेलता है। 

how to deal with addiction by expert tips

एडिकशन के क्या हैं साइन?

sign of addiction

एडिकशन अधिकांश लक्षण किसी व्यक्ति की आत्म-नियंत्रण बनाए रखने की क्षीण क्षमता से संबंधित होते हैं। आपको इस तरह के बदलाव देखने को मिल सकते हैं-

  • ऐसी जगहों को तलाश करना जो आपको ऐसे पदार्थ या गलत बिहेवियर में इंगेज होने का मौका मिले।
  • स्वास्थ्य संबंधी, जैसे अनिद्रा या मेमोरी लॉस होना
  • अपनी गलतियों के लिए दूसरों को ब्लेम करना।
  • चिंता, अवसाद और उदासी के स्तर में वृद्धि होना।
  • भावनाओं को पहचानने में परेशानी होना।

कैसे पाएं काबू?

डॉ. भावना बर्मी कहती हैं, 'आदतें हमारे दैनिक कार्यों को प्रभावित करके हमें बना या बिगाड़ सकती हैं और यहां तक कि हम अपने बारे में कैसा महसूस करते हैं, ये भी बदल सकते हैं। प्रलोभनों से दूर रहने की हमारी इच्छा शक्ति हमें एडिकशन से मुक्त होने में मदद कर सकती है।' इसके साथ ही अगर आप अपनी आदतों को बदलना चाहें, तो ये कर सकते हैं-

कॉग्नेटिव-बिहेवियरल थेरेपी की मदद लें

coginitive behaviour therapy

उन लोगों की सहायता कर सकता है जो मादक द्रव्यों के आदी हैं, उन्हें हानिकारक विचारों और कार्यों को नोटिस करने और उनसे बचने के लिए प्रशिक्षण देकर उनकी लत को दूर करने में मदद कर सकता है। कॉग्नेटिव-बिहेवियरल थेरेपिस्ट एक मरीज को उन कारको को समझाने में मदद करेगा कि जो दवा, शराब या निकोटीन की लालसा पैदा करते हैं, और फिर उन ट्रिगर्स से बचने और नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।

इसे भी पढ़ें : मेंटल हेल्थ से जुड़े इन मिथ्स की सच्चाई के बारे में जानने के लिए पढ़ें यह लेख

मोटिवेशनल इंटरव्यूइंग कर सकता है मदद

लोगों को अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करने के लिए मोटिवेशनल इंटरव्यूइंग का उपयोग किया जा सकता है। स्ट्रक्चर्ड टॉक्स रोगियों को मादक द्रव्यों के सेवन को छोड़ने के लिए उनकी प्रेरणा को बढ़ावा देने में मदद करती है। उदाहरण के लिए, यह उनको यह अंतर समझने में मदद करता है कि वे अभी कैसा जीवन व्यतीत कर रहे हैं और आगे भविष्य में कैसा जीवन जीना जाते हैं।

इसे भी पढ़ें : अगर आपके अंदर भी हैं ये 'self-destructive'आदतें, तो इन्हें तुरंत बदलें

कंटिंजेंसी मैनेजमेंट

how to control with addiction by expert

इस तरीके का इस्तेमाल करते हुए, एडिकशन काउंसलर मरीजों को नशीली दवाओं से दूर रहने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए टेंजिबल इंसेंटिव प्रदान करते हैं।

Recommended Video

एक्सरसाइज की मदद लें

जब आप किसी लत पर काबू पाने के लिए काम कर रहे हैं, तो खुद को प्रोत्साहित करें। इसके साथ-साथ अपनी एनर्जी लेवल को बनाने के लिए एक्सरसाइज करें। मेडिटेशन का सहारा लें , ताकि आप बार-बार इन चीजों के करीब जाने से बचें।

किसी चीज के लिए एक हद से ज्यादा आगे बढ़ना खतरनाक हो सकता है। इससे आप ही नहीं, बल्कि आपके आस-पास के लोग भी प्रभावित होते हैं। अगर आपको किसी तरह की लत से गुजर रहे हैं, तो किसी न किसी की मदद जरूर लें।

हमें उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा। इसे आगे बढ़ाने के लिए शेयर करें और लाइक करें। हेल्थ से जुड़े ऐसे लेख पढ़ते रहने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit: freepik, drugabuse.gov, everydayhealth