महिलाओं को एनर्जी से भरपूर रहने के लिए हेल्दी डाइट लेना बहुत जरूरी है। पोषक तत्वों से भरपूर डाइट हमें रोजमर्रा के काम अच्छी तरह से पूरी करने में मदद करती है। लेकिन रोजाना ओट्स, दलिया, स्प्राउट्स जैसी हेल्दी डाइट लेते हुए आपको बोरियत हो सकती है। अगर आपकी डाइट में कोई स्पाइसी फूड हो जो आपको टेस्टी भी लगे तो कैसा रहे? हम बात कर रहे हैं डोसा की। जी हां वही डोसा, जिसे खाने के नाम से ही आपका मूड बन जाता है। फेमस साउथ इंडियन डोसा खाने से आपको ना सिर्फ एसेंशियल न्युट्रिएंट्स मिलते हैं, बल्कि यह आपका एनर्जी लेवल भी बरकरार रखता है। तो आइए जानते हैं कि डोसा किस तरह से आपको हेल्दी बनाए रखने में मदद करता है।

dosa health benefits gives carbohydrates inside

पचाने में होता है आसान

डोसा चावल और उड़द की दाल को खमीर उठाकर बनाया जाता है, जिससे यह पचने में आसान हो जाता है। इसीलिए इसे खाने के बाद हैवी फील नहीं होता और खाने का स्वाद भी जबान पर बरकरार रहता है। 

इसे जरूर पढ़ें: ये 5 विटामिन भारतीय महिलाओं के लिए हैं सबसे ज्यादा जरूरी

कार्बोहाइड्रेट्स से भरपूर

डोसा कार्बोहाइड्रेट्स का अच्छा स्रोत है। डोसा खाने से प्रचुर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स मिलते हैं, जिससे बॉडी को इंस्टेंट एनर्जी मिलती है

अगर आप वेटलॉस के लिए ट्राई कर रही हैं तो डोसा इसमें आपकी मदद कर सकता है। 

dosa health benefits low calories inside

प्रोटीन से भरपूर

डोसा का बैटर उड़द दाल से बनता है और यह प्रोटीन से भरपूर होती है। ज्यादा प्रोटीन होने की वजह से इसे खाने के बाद लंबे समय तक पेट भरा होने का अहसास होता है। वेजीटेरियन्स अपनी डाइट में प्रोटीन की मात्रा बढ़ाना चाहते हैं तो उनके लिए यह एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें: कोलेस्ट्रॉल को काबू में रखेंगी तो नहीं होगा अल्जाइमर का खतरा

लो कैलोरी है डोसा

ऐसा फूड खाने में अच्छा है जो लो कैलोरी हो और आपकी भूख को भी शांत कर दे। डोसा इस लिहाज से परफेक्ट है, जो आपकी टेस्ट बड्स को भी शांत करता है और हल्का भी है। एक प्लेन डोसा में 37 कैलोरी, ओट्स डोसा में 304 कैलोरी, मसाला डोसा में 415 कैलोरी, पनीर डोसा में 200 कैलोरी, मैसूर मसाला डोसा में 171 कैलोरी होती हैं। 

मिनरल्स का खजाना

डोसा में आयरन और कैल्शियम जैसे मिनरल्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। डोसा में विटामिन सी भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो शरीर के विकास के लिए और घाव हो जाने या चोट लग जाने के बाद ब्लड वेसल्स की मेंटेनेंस के लिए जरूरी है।