बारिश के मौसम में ज्‍यादातर लोग बीमारी का शिकार होते हैं। खासतौर पर वायरल फीवर और ड्राई कफ हर किसी को अपनी चपेट में ले लेता है। इस मौसम में हवा इतनी खराब हो जाती है कि बुखार के कारण पूरी बॉडी में दर्द भी बना रहता है और सूखी खांसी के कारण  रात को नींद नहीं आती है। और फिजीकल एक्टिविटी एकदम शून्‍य हो जाती है। खांसी और बुखार के कारण बॉडी बहुत कमजोर हो जाती है। हालांकि हम में से अधिकांश तुरंत डॉक्टरों के पास जाते हैं, लेकिन जो उपाय सबसे अच्छा काम करते हैं वे हैं पारंपरिक 'दादी-मां' के नुस्‍खे। हालांकि ये नुस्‍खे थोड़े कड़वे होते हैं, लेकिन बेहद उपयोगी होते हैं और आपकी खांसी को तुरंत ठीक करने में हेल्‍प करते हैं। आइए ऐसे ही कुछ 'दादी-मां' के नुस्‍खों के बारे में जानें जो निश्‍चित रूप से आपको फैलने वाले वायरल फीवर और सूखी खांसी से काफी राहत देंगे।

इसे जरूर पढ़ें: बारिश का भरपूर मजा लें लेकिन फ्लू से बचें, जानिए एक्‍सपर्ट की राय

दालचीनी, नींबू और शहद का काढ़ा

viral fever ayurvedic kadha inside

आधा चम्मच शहद लें, इसमें नींबू की कुछ बूंदें और एक चुटकी दालचीनी मिलाएं। जल्‍द राहत पाने के लिए इस सिरप को दिन में दो बार लें। नींबू और शहद आपके गले की खराश को एक सूदिंग इफेक्‍ट देता है और इससे आपको बहुत राहत मिलती हैं।

गुड़ का काढ़ा

viral fever ayurvedic kadha inside

यह नुस्‍खा भी गले की खराश से छुटकारा दिलाने में आपकी पूरी हेल्‍प करता है। इसके लिए आप थोड़ा पानी उबालें, उसमें गुड़, काली मिर्च और जीरा डालें। दिन में दो बार इस सिरप का सेवन करें और फिर देखें कमाल।

तुलसी काढ़ा

viral fever ayurvedic kadha inside

यह एक पुराना उपाय है जो आपके पूरे सिस्‍टम को साफ करने में मदद करता है। इस उपाय को बनाने के लिए एक कटोरी थोड़े से तुलसी के पत्ते, थोड़ा सा गुड़, काली मिर्च, अदरक, पुदीने के पत्ते और नींबू की बूंदें डालें। सारी चीजों को उबाल लें फिर इसे पीएं। इसे रोजाना पीएं और फिर खुद में बदलाव देखें।

नींबू और शहद का काढ़ा

viral fever ayurvedic kadhainside

अगर आप तुरंत राहत चाहती हैं तो दादी मां की बताई खट्टी और मीठी चाय आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकती है जो टेस्‍टी और फायदेमंद है। लगभग 2 मिनट के लिए थोड़े से शहद के साथ पानी उबालें, अब इसमें थोड़ी सी चीनी और तुलसी के पत्ते मिलाएं। इसे एक ग्लास में डालें और आधा नींबू निचोड़ें। जल्‍द राहत पाने के लिए इसे दिन में दो बार पियें।

अदरक-तुलसी का काढ़ा

viral fever ayurvedic kadha inside

अदरक का इस्‍तेमाल भी आप गले के खराश को दूर करने में हेल्‍प करता है। यह बात तो आप जानती ही हैं। लेकिन अगर दोनों चीजों को मिला दिया जाए तो सोने पर सुहागा हो जाता है। जी हां समस्‍या से बचने के लिए एक इंच अदरक से रस निकालें और इसे थोड़े से पानी में उबालें। अब इसमें कुचले हुए तुलसी के पत्ते और थोड़ा सा शहद मिलाएं। इसे लगभग 30 सेकंड तक उबालें और आंच बंद कर दें। जल्‍द राहत पाने के लिए दिन में दो बार काढ़ा या सिरप का सेवन करें।

इसे जरूर पढ़ें: दवाओं से नहीं बल्कि घर में मौजूद इन 5 हर्ब्‍स से दूर होगा वायरल फीवर, जानिए कैसे

यह मौसम बिल्कुल भी भरोसेमंद नहीं होता है इसलिए हमारा यही सुझाव है कि आप जितना हो सके अपना ख्याल रखें। इन घरेलू उपायों को अपनाते रहें और सुनिश्चित करें कि आप बाहर का खाना ज्यादा नहीं खाएं और हर्बल चाय का सेवन करते रहें।

स्‍वतंत्रता दिवस और रक्षा बंधन के अवसर पर HerZindagi महिलाओं के लिए एक exclusive वर्कशॉप प्रस्‍तुत कर रहा है। हमारे #BandhanNahiAzaadi अभियान का हिस्सा बनने के लिए आज ही फ्री रजिस्ट्रेशन करें। सभी प्रतिभागियों को मिलेगा आकर्षक इनाम।

Image Source: Pxhere.com