कच्छ एक ऐतिहासिक शहर है जहां कई प्राचीन जगहें मौजूद हैं। इतिहास के अनुसार कादिर नाम का कच्छ का एक द्वीप हड़प्पा की खुदाई में मिला था। कच्छ पर पहले सिंध के राजपूतों का शासन हुआ करता था, उसके बाद इस शहर पर लगभग 16वीं शताब्दी के अंत में मुगलों ने शासन किया था। फिर मुगलों के बाद में लखपतजी राजा और अंग्रेजों ने भी काफी समय तक राज किया था। इसलिए यहां घूमने के साथ-साथ कई ऐतिहासिक स्थान भी मौजूद हैं। अगर आप इतिहास में रुचि रखते हैं, तो एक बार कच्छ जिला क्षेत्र की इन जगहों पर जरूर घूमें। 

विजय विलास पैलेस

vijya vilas palces

यह कछ्च इस राज्य का सबसे प्रसिद्ध और खूबसूरत महल में से एक है। यह महल युवराज श्री विजय राज के नाम पर बनाया गया था। विजय विलास पैलेस लाल बलुआ पत्थर से बना है, जो कुछ बेहतरीन पत्थर की नक्काशी और टाइल्स को भी प्रदर्शित करता है। इसके अलावा, इस महल में धार्मिक सौंदर्य के साथ भारत के विभिन्न हिस्सों के कारीगरों का दृश्य भी देखने को मिलेगा। पर्यटकों को 45 एकड़ से अधिक भूमि में फैले इस महल में शानदार नज़ारे देखने को मिलते हैं।

रोहा किला

ऐतिहासिक सभ्यता का प्रतीक, रोहा किलालगभग 550 वर्षों के बाद भी कायम है। यदि आप अतीत के विवरण को जानना और इतिहास में रुचि रखते हैं, तो यह किला आपके लिए बेस्ट ऑप्शन है। पत्थर और पकी हुई ईंटों से निर्मित यह किला मंदिर जैसा दिखता है। अपनी खूबसूरत वास्तुकला के अलावा यह किला एक कवि के लिए भी प्रसिद्ध है। कलापी ने अपनी कविताओं की रचना शांति के कारण की थी। यहां का शांत वातावरण आपको बखूबी पसंद आएगा। इसके अलावा, मोर भी आपको देखने को मिलेंगे। 

कच्छ संग्रहालय

laibrary kutch

कच्छ स्कूल ऑफ आर्ट्स के रूप में स्थापित यह संग्रहालय लोक कलाओं, प्राचीन कलाकृतियों और आदिवासीलोगों की संस्कृति का बेहतर प्रदर्शन है। यहां आपको कई ऐतिहासिक चीजे भी देखने को मिलेंगी। आप यहां विज्ञान, संस्कृति, इतिहास आदि के बारे में भी कई सारी चीजें जानेंगे। अगर आपकी इतिहास में रूचि है तो आप यहां ज़रूर जाएं। 

इसे ज़रूर पढ़ें- भारत में मौजूद हैं मुगलों की यह खूबसूरत इमारतें, आप भी जानिए

धोलावीरा 

dholavira

धोलावीरा क्षेत्र में स्थित सिंधु घाटी सभ्यता का मुख्य शहरों में से एक है। धोलावीरा को मासर और मनहर दो नदी के मध्य में बसाया गया था। अगर आपके इतिहास पढ़ा है तो आप इस नाम से वाकिफ होंगे। आपको यह भी मालूम होगा कि धोलावीरा पुराने समय में मुख्य बंदरगाह का क्षेत्र था। यह देश विदेशों में व्यापार का माध्यम था यहां के मनके मेसोपोटामिया में भी पाए गए हैं।

मांडवी बीच 

मांडवी बीच देश का एकमात्र प्राइवेट बीच हैं। सफेद रेत दूर-दूर तक फैले समुद्र का ब्लू पानी, ठंडी हवा और किनारे लगाई गई पवनचक्की ( विंड फार्म ) ऊपर नीला आसमान का यह नजारा बहुत ही सुंदर है। मांडवी बीच गुजरात ही नहीं बल्कि पूरे भारत में मशहूर है, जो अपनी खूबसूरती के लिए जाना जाता है।

यहां की खूबसूरती और तट के आसपास का खूबसूरत नज़ारा आपको बहुत पसंद आने वाला है। यह उन पर्यटकों के लिए बेस्ट है, जो प्राकृतिक दृश्य से प्रेम करते हैं। यहां का शांत वातावरण और शाम को ठंडी हवाएं आपको बखूबी पसंद आएंगी। यहां पर आप बोटिंग, स्विमिंग, वॉटर स्पोर्ट आदि का भी लुत्फ उठा सकते हैं। 

इसे ज़रूर पढ़ें- एस्ट्रोनॉमी को समझना हो तो भारत के इन बेस्ट Planetariums की करें सैर

इन जगहों के अलावा आप यहां भुजिया किला, भुज हिल गार्डन, प्राग महल, मांडवी बीच आदि भी घूम सकते हैं। आपको ये लेख पसंद आया हो इसे लाइक और शेयर जरूर करें। साथ ही जुड़ी रहें हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- (@Gujarattravel)