समय के साथ-साथ लोगों ने बाहर निकलना शुरू कर दिया है। धीरे-धीरे लोगों ने घूमने के प्लान भी बना लिए हैं। लगातार घर में बैठे रहने और काम करने से मन और तन दोनों थक चुके हैं, तो ऐसे में उन्हें आराम देने के लिए कहीं आसपास जाना बेहतर है। शांत हिल स्टेशन, रोमांचकारी ट्रेक, ऑफबीट डेस्टिनेशन, रिवर घाट और भी बहुत कुछ दिल्ली के आसपास मौजूद है, जो शायद आपने न देखा हो। कम बजट में आप इन डेस्टिनेशन को अच्छी तरह एक्सप्लोर कर सकते हैं। हम आपको इस भागदौड़ की स्थिति में थोड़ा सुकून पाने के कुछ लाजवाब ठिकाने बताने जा रहे हैं।

तो, अब और इंतजार न करें और बजट के तहत दिल्ली की इन 5 रोमांचक डेस्टिनेशन्स के बारे में जानें और अपने दोस्तों, परिवार या किसी विशेष के साथ यहां जानें का प्लान कर सकते हैं।

माउंट आबू

mount abu around delhi

माउंट आबू अरावली पहाड़ियों के हाईएस्ट पीक पर स्थित एक शानदार पहाड़ी स्थल है। प्राचीन झरने और झीलों के साथ हरी-भरी पृष्ठभूमि में स्थित, राजस्थान का यह हिल स्टेशन आपको एकरसता से बहुत राहत देगा।

माउंट आबू में आप ब्रिटिश शैली के कई बंगलों और आवासों को देख सकेंगे। मानसून में तो यहां की प्राकृतिक खूबसूरती के नजारे पर्यटकों के लिए खास आकर्षण का केंद्र बने रहते हैं। यहां घूमने के लिए कई सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थल हैं। आप यहां नक्की झील जो चारों तरफ से अरावली पहाड़ियों से घिरी हुई है, का आनंद ले सकते हैं। इसी के पास टोड रॉक भी है, जो मेंढक के आकार में बना पहाड़ है, यह एक छोटे से ट्रैक जैसा है। अगर आप भी माउंट आबू घूमने की प्लानिंग कर रहे हैं तो आपको सितंबर से मार्च के बीच ट्रैवलिंग का प्लान बनाना चाहिए। 

पंगोट

pangot, nainital near delhi

आपने नैनीताल तो देखा ही होगा? नैनीताल से बस 15 किलोमीटर दूर पंगोट नाम का छोटा सा गांव है। यहां से गुजरते हुए आप नैना पीक, और स्नो पीक का खूबसूरत नजारा देख सकते हैं। अगर आप एकांत की तलाश में हैं, तो यह डेस्टिनेशन आपको लिस्ट में शामिल करनी चाहिए। प्रसिद्ध किलबरी पक्षी अभयारण्य, पंगोट में सबसे अधिक देखी जाने वाली जगहों में से एक है। यहां 580 से ज्यादा पक्षियों की प्रजातियां पाई जाती है। इसके अलावा अगर आपको ट्रैकिंग का शौक है, तो नैनी पीक से बेहतर ट्रैक आपके लिए कुछ नहीं हो सकता है। इस जगह का वातावरण अत्यधिक सुहाना है। पंगोट में आप ट्रैकिंग , कैंपिंग , पैराग्लाइडिंग आदि अन्य चीज कर सकते है।  वैसे तो यहां साल में कभी भी जाया जा सकता है लेकिन यहां जाने का सही समय मार्च से जून और अक्टूबर से जनवरी है।

बड़ोग

barog himachal pradesh to visit

चीड़ और देवदार के जंगलों से घिरा हुआ बड़ोग हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में स्थित है। यह पर्यटकों के बीच ज्यादा चर्चित नहीं है, लेकिन इसकी खूबसूरती किसी को भी मंत्रमुग्ध कर सकती है। बड़ोग सुरंग यूनेस्को विरासत कालका-शिमला रेलवे के मार्ग पर 103 परिचालन सुरंगों में से सबसे लंबी है, जो 1143.61 मीटर लंबी है। यह लोकप्रिय हिल रिट्रीट शांत शिवालिक पहाड़ियों और अत्यंत शांति के अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करता है। बड़ोग रात भर कैंपिंग, हाइकिंग और अन्य के लिए विकल्प भी प्रदान करता है। बड़ोग जाने का सबसे अच्छा मौसम मानसून है। बड़ोग का सर्दियों का मौसम आमतौर पर अक्टूबर से जनवरी तक के महीनों तक रहता है।

इसे भी पढ़ें : दिल्ली से जाना है घूमने? 5 हज़ार से कम में हो सकती हैं ये 5 Trips

डीग

deeg rajasthan

डीग भरतपुर जिले में स्थित एक छोटा लेकिन दिलचस्प शहर है। यदि आप भरतपुर के आसपास के क्षेत्र को अच्छी तरह से देखना चाहते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप इस शहर की यात्रा करें। डीग के दो सबसे अच्छे आकर्षण इसका महल परिसर और सितंबर के महीने में आयोजित होने वाला तीन दिवसीय डीग उत्सव है। डीग महल पारंपरिक राजस्थानी शैली में निर्मित एक भव्य संरचना है। यह एक अनोखे तरीके से बनाया गया है जिसमें अनगिनत जल उद्यान और महल हैं, जो चारबागों की एक श्रृंखला के भीतर आपस में जुड़े हुए हैं। डीग किला, जिसे जल महल के नाम से भी जाना जाता है, एक अन्य स्थल है जो अपनी जटिल और सुखद वास्तुकला के साथ इस क्षेत्र में कैरेक्टर जोड़ता है।

इसे भी पढ़ें : गुरुग्राम के रहने वाले हैं तो इस बार वीकेंड में घूम सकते हैं ये 5 जगहें

Recommended Video


कुरुक्षेत्र

kurushetra haryana

भारत के हरियाणा राज्य में स्थित कुरुक्षेत्र एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है। यह भगवद्गीता की भूमि भी है। कुरुक्षेत्र दिल्ली से लगभग 170 किमी उत्तर में स्थित है और इसे ब्रह्मक्षेत्र (ब्रह्मा की भूमि), उत्तर देवी, ब्रह्मदेवी और धर्मक्षेत्र (पवित्र शहर) जैसे कई नामों से भी जाना जाता है। यह स्थान हिंदू महाकाव्य महाभारत में कौरवों और पांडवों के बीच युद्ध के लिए जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह वह स्थान है जहां कृष्ण ने अर्जुन को भगवत गीता का पाठ किया था। प्राचीन अभिलेखों के अनुसार कुरुक्षेत्र विद्या और वैदिक सभ्यता का केंद्र था। ऐसा कहा जाता है कि ऋग्वेद की हिंदू रचना, दर्शन और सिद्धांत कुरुक्षेत्र में रचे गए थे। यहां आप साल के किसी भी जा सकते हैं।

इन जगहों पर आप अपने बजट में घूम सकते हैं। खाने-पीने का खर्च, आने-जाने का किराया सब आपके बजट में होगा। आप इनमें से किसी जगह घूम चुके हैं, तो हमारे फेसबुक पेज पर कमेंट कर जरूर बताएं। आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें। इन तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit: untravel, freepik & wikipedia