साल था 1965 और फिल्म था 'गाइड', जिसे विजय आनंद ने बनाया था। यह फिल्म हिट साबित हुई और साथ ही देव आनंद और वहीदा रहमान की सर्वश्रेष्ठ परफॉर्मेंस में से एक बनी। इस फिल्म के गानों को भी बहुत पसंद किया गया। लोगों ने जितना इस फिल्म को सराहा था, उतना ही नापसंद लेखक आर.के. नारायण ने किया था। दरअसल यह फिल्म उनके उपन्यास 'गाइड' का रूपांतरण थी, जिसे नारायण ने बकवास बताया था।

दूसरी दिलचस्प बात थी कि फिल्म देव आनंद साहब की पहली कलर फिल्म थी और इसे अंग्रेजी दर्शकों के लिए अंग्रेजी में बनाया गया था। वहीदा रहमान जिनकी इस फिल्म में बहुत ज्यादा तारीफ हुई, क्या आप जानते हैं कि वही इस फिल्म को करने से मना कर चुकी थीं? जी हां, जिस फिल्म को वहीदा रहमान अपनी सबसे अच्छी फिल्मों में से एक मानती हैं, उस फिल्म को करने से उन्होंने साफ इंकार कर दिया था। फिर कुछ ऐसा हुआ कि उनकी ही झोली में यह फिल्म गिरी और इतिहास के पन्नों में स्वर्ण अक्षरों से अंकित हो गई।

आइए आज बॉलीवुड किस्से में हम जानते हैं कि वहीदा रहमान ने इस फिल्म को करने से क्यों मना किया था और फिर कैसे वह इसे करने के लिए राजी भी हो गई थीं।

फिल्म में 'रोजी' के किरदार में थीं वहीदा रहमान

guide movie waheeda rehman

इस फिल्म में वहीदा रहमान ने एक डांसर रोजी का किरदार निभाया था, जो अपने पति के कहने पर अपनी तमन्ना को छुपाए रखती है, लेकिन जब उन्हें किसी और का साथ मिलता है, तो वह एक स्टार बन जाती हैं। फिल्म में वहीदा के किरदार से सभी प्रभावित हुए थे। उनके अभिनय को ही नहीं, बल्कि उनके डांस को भी बेहद पसंद किया गया था। मगर रोजी बनना उनके लिए आसान नहीं था और न ही वो पहले इसे करने के लिए तैयार हुई थीं।

इस कारण से नहीं करना चाहती थीं वहीदा यह फिल्म

waheeda rehman and raj khosla differences

इस फिल्म को पहले निर्देशक राज खोसला डायरेक्ट करने वाले थे। मगर वहीदा रहमान और राज खोसला के बीच में पिछली फिल्म को लेकर कुछ विवाद हुआ था, जिसके बाद से वहीदा उनके साथ काम नहीं करना चाहती थीं। रेडिफ के साथ एक इंटरव्यू में वहीदा ने बताया था, 'हुआ यूं कि शुरू में निर्देशक राज खोसला थे। राज खोसला और मेरे बीच पहले की एक फिल्म के दौरान मतभेद थे। मैंने उसके बाद कभी उनके साथ काम नहीं किया। और मैं गाइड या किसी अन्य फिल्म के लिए इसे बदलने के लिए तैयार नहीं थी।'

देव आनंद ने की थी मिन्नतें

dev anand rewuested waheeda rehman

देव आनंद इस फिल्म में हर हाल में सिर्फ वहीदा रहमान को चाहते थे, जब उन्हें पता लगा कि वहीदा यह फिल्म राज खोसला की वजह से मना कर रही हैं, तो उन्होंने वहीदा को फोन कर समझाने की कोशिश की। इसी इंटरव्यू में उन्होंने कहा था,  'मगर देव ने मुझे बहुत समझाया। एक रोज उन्होंने फोन किया और कहा-चलो वहीदा, अब जो हो गया सो हो गया। गलतियां सबसे होती हैं। मगर मैं नहीं मानी।' उन्होंने देव आनंद से पूछा था कि यह फिल्म उनके भाई गोल्डी यानी विजय आनंद क्यों नहीं कर रहे हैं, लेकिन गोल्डी 'तेरे घर के सामने' का निर्देशन करने में बिजी थे।

इसे भी पढ़ें :बॉलीवुड किस्सा : जब फिल्म 'आए दिन बहार के' में आशा पारेख के पास जाने से कतराते थे धर्मेंद्र

जब वहीदा को छोड़ प्रिया राजवंश और वैजयंती माला पर किया गया विचार

actresses asked to do film guide

देव चूंकि हर हाल में अपनी हीरोइन के तौर पर वहीदा को लेना चाहते थे, तो फिल्म के निर्देशक बदल गए। राज खोसला की जगह देव आनंद के भाई चेतन आनंद ने फिल्म की बागडोर संभाली, लेकिन फिर उन्होंने वहीदा के साथ काम करने से मना कर दिया। वह चाहते थे कि फिल्म में प्रिया राजवंश हों, क्योंकि वह अच्छी अंग्रेजी बोलना जानती थीं, जो फिल्म के अंग्रेजी वर्जन के लिए काम आता। कहा तो ऐसा भी जाता है कि एक समय पर यह फिल्म वैजयंती माला को भी ऑफर हुई थी। वहीदा रहमान ने इस पर कहा था, 'एक निर्देशक ऐसा है, जिनके साथ मैं काम नहीं करना चाहती और दूसरा मेरे साथ काम नहीं करना चाहता।'

इसे भी पढ़ें :वहीदा रहमान की इस हरकत को देखने के बाद पिता समझने लगे थे उन्हें पागल

तो फिर ऐसे बनी बात

waheeda rehman in guide

इन सबके बावजूद देव आनंद साहब ने ठान लिया था कि यह फिल्म वहीदा रहमान के साथ ही बनेगी। प्रिया राजवंश को इसलिए लिया नहीं जा सका क्योंकि वह उतना डांस करना नहीं जानती थीं। यह फिल्म फिर आखिर में गोल्डी यानी विजय आनंद को मिली और तब वहीदा रहमान इस फिल्म में काम करने के लिए तैयार हुईं। रेडिफ के इंटरव्यू में वहीदा रहमान ने बताया था,  'मुझे लगता है कि चेतन साहब प्रिया राजवंश जी को चाहते थे, लेकिन देव अड़े थे। उन्हें एक डांसर की जरूरत थी और प्रिया जी डांस नहीं कर सकती थीं। आखिरकार, गोल्डी ने गाइड का निर्देशन किया। इस तरह मुझे 'गाइड' मिली। बाकी, आप जानते हैं यह एक ऐसी फिल्म है जिस पर मुझे बहुत गर्व है।'

Recommended Video

इस फिल्म से जुड़े ऐसे ही कई किस्से हैं, जो बहुत दिलचस्प हैं। यह फिल्म आखिरकार बनी और बहुत पसंद की गई। यह वहीदा रहमान की आइकॉनिक फिल्मों में से एक थी। सोचिए अगर यह फिल्म वहीदा ने नहीं की होती तो कितनी अलग होती?

हमें उम्मीद है आपको यह किस्सा सुनकर बेहद मजा आया होगा। यह फिल्म अगर आपने अब तक नहीं देखी है, तो यह फिल्म जरूर देख डालें। इस लेख को लाइक और शेयर करें और ऐसे ही बॉलीवुड के किस्से सुनने के लिए विजिट करते रहें हरजिंदगी।

 

Image Credit: google searches