• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

क्या आपको पता है क्यों पहना जाता है जनेऊ?

आपने अक्सर लोगों को जनेऊ पहने देखा होगा। इस आर्टिकल में जानें लोग जनेऊ क्यों पहनते हैं।  
author-profile
Published -09 Sep 2022, 11:56 ISTUpdated -10 Sep 2022, 11:07 IST
Next
Article
significance of wearing janeu

हिंदू धर्म में अलग-अलग संस्कारों का पालन किया जाता है। इनमें से एक यज्ञोपवीत संस्कार भी है। यज्ञोपवीत को लोग आमतौर पर जनेऊ के नाम से जानते हैं। आपने भी बहुत बार लोगों को जनेऊ पहने देखा होगा। यह क्यों पहना जाता है, इस बारे में लोगों को जानकारी नहीं होती है। इस आर्टिकल में हम आपको इसी बारे में बताने वाले हैं। 

क्या होता है जनेऊ? 

अगर आप जनेऊ के बारे में नहीं जानते हैं तो बता दें कि यह तीन धागों से बना एक सूत्र होता है, जिसे बाएं कंधे के ऊपर से दाईं बाजु के नीचे पहना जाता है। शास्त्रों में इसे पहनने के बहुत से नियमों का उल्लेख किया गया है। इन नियमों का पालन करने वाले लोग ही जनेऊ पहन सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंः आखिर शगुन के लिफाफे पर क्यों लगा होता है 1 रुपए का सिक्का?

क्यों माना जाता है पवित्र

जनेऊ 3 धागों से बना होता है, जिनका कुछ अर्थ होता है। इन तीनों धागो को देवऋण, पितृऋण और ऋषिऋण का प्रतीक माना जाता है। इतना ही नहीं ऐसा भी कहा जाता है कि यह धागे  सत्व, रज और तम को दर्शाते हैं। 

जनेऊ में होते हैं कुल 9 सूत्र

यूं तो जनेऊ में कुल 3 सूत्र होते हैं लेकिन एक सूत्र के साथ 3 धागे लगे होते हैं। इस हिसाब से एक जनेऊ में कुल 9 सूत्र होते हैं। यह 9 सूत्र शरीर के नौ द्वार 1 मुख, 2 नासिका, 2 आंख, 2 कान, मल और मूत्र के लिए माने जाते हैं। 

why we wear janeu

महिलाएं पहन सकती हैं जनेऊ? 

बहुत सी परिस्थिति में पुरुषों की तरह महिलाएं भी जनेऊ पहन सकती हैं। हालांकि कुछ रिपोर्ट्स में बताया गया है कि महिलाओं को जनेऊ नहीं पहनना चाहिए। ऐसा वास्तव में है या नहीं इस बारे में तो कोई एक्सपर्ट ही बता सकता है। 

इसे भी पढ़ेंः ट्रेन के डिब्बों पर लिखे नंबर का क्या होता है मतलब?

जनेऊ डालने के नियम 

  • जनेऊ पहनने के कुछ नियम होते हैं जिनका पालन करना बहुत जरूरी होता है। जैसे जनेऊ को कभी भी गंदे हाथों से नहीं छूना चाहिए। 
  • सूतक और लंबे अंतराल के बाद जनेऊ को बदलते रहना चाहिए। बहुत लंबे समय तक एक ही जनेऊ पहना गलत माना जाता है। 
  • जनेऊ को मल-मूत्र विसर्जन के समय दाहिने कान पर चढ़ा लेना चाहिए। माना जाता है कि मल-मूत्र के दौरान जनेऊ ऊपर ना करने से अपवित्र हो जाता है। (सूर्य ग्रहण में सूतक का मतलब क्‍या होता)

जनेऊ पहनने से क्या लाभ होता है

लंदन में हुए एक रिसर्च के मुताबिक, जनेऊ पहनने से हृदय रोग और ब्लड प्रेशर की दिक्कत नहीं होती है। साथ ही शरीर में खून का प्रवाह भी सही रहता है। इस रिसर्च में जनेऊ पहनने को भी रक्तचाप के लिए भी फायदेमंद बताया गया है। 

तो ये थी जनेऊ से जुड़ी सारी जानकारी। आप इस विषय से जुड़ी कोई और जानकारी के लिए इस आर्टिकल के कमेंट सेक्शन में सवाल कर सकते हैं। 

Recommended Video

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Photo Credit: Facebook,Twitter

 


 

 

 

 

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।