कहते हैं कि एक रिश्ता दो पहिए की गाड़ी की तरह है। अगर गाड़ी का एक भी पहिया जरा सा भी डगमगाता है तो रिश्ते की गाड़ी अपनी पटरी से उतर जाती है। कोई भी रिश्ता दो लोगों से मिलकर बनता है। इसलिए रिश्ते में दोनों की खुशी शामिल होना बेहद जरूरी है। पर अमूमन ऐसा कम ही देखने में मिलता है कि लोग अपने पार्टनर की भावनाओं का ख्याल रखें और यही कारण है कि आजकल रिश्ते बनने से पहले ही टूट जाते हैं। पर क्या आपने कभी गौर किया है कि आज के समय में ब्रेकअप या तलाक के मामले इतना बढ़ते क्यों जा रहे हैं। नहीं न, तो चलिए आज मैं आपको इसके पीछे की एक ऐसी बात के बारे में बता रही हूं, जो देखने या सुनने में तो भले ही आपको छोटी सी लगे, लेकिन वास्तव में वही आपके रिश्ते को बना या बिगाड़ सकती है। 

इसे जरूर पढ़ें- जब गुस्से में हो पार्टनर तो खुद को ऐसे रखें शांत

दरअसल, आज के समय में लोग अपने पार्टनर की बात सुनने में कोई इंटरस्ट नहीं रखते। हर कोई अपने मन की बात तो कहना चाहता है, लेकिन पार्टनर की बात को सुनने की फुरसत उनके पास नहीं होती। जिसके कारण आपके रिश्ते सिर्फ सतही ही रह जाते हैं और जीवन में थोड़ी सी भी उथल-पुथल आपके रिश्ते को बिखेर देती है। अब आप सोच रही होंगी कि यह इतना क्यों जरूरी है। तो चलिए आज इस लेख में मैं आपको बताउंगी कि आपके लिए एक अच्छा श्रोता होना क्यों जरूरी है और यह आपके रिश्ते को किस तरह प्रभावित करता है-

बेहतर समझ

art of listening in relationship

आपको शायद पता ना हो लेकिन जब आपमें धैर्य होता है और आप बेहद आराम से अपने पार्टनर की बात सुनती हैं तो आपके रिश्ते में आपसी समझ का स्तर भी सुधरता है। दरअसल, इस तरह आप यह समझ पाती हैं कि आपके पार्टनर की आपसे व इस रिश्ते से क्या उम्मीदे हैं या फिर वह कौन-कौन सी कमियां हैं, जो आपके रिश्ते को कमजोर बना रही हैं।

Recommended Video

जब आप अपने पार्टनर को सुनती हैं तो आपके अपने रिश्ते में मौजूद समस्याओं का पता चलता है और फिर आप उन सभी परेशानियों को आसानी से हल कर पाती हैं।

खुद को एक्सप्रेस करना

art of listening in relationship ()

जैसा कि मैंने पहले भी कहा कि आज के समय में हर कोई सिर्फ अपनी बात कहना चाहता है, दूसरे की सुनने में उन्हें कोई इंटरस्ट नहीं होता। लेकिन क्या आप जानती हैं कि आप खुद को भी तभी एक्सप्रेस कर पाती हैं, जब आप अपने पार्टनर की बात को ध्यान से सुनती हैं। कहा भी जाता है कि एक अच्छा श्रोता ही एक अच्छा वक्ता बन सकता है।

इसके अलावा जब आपका पार्टनर आपसे दिल खोलकर बातें कर लेता है और आप उसकी बात ध्यान से सुनती हैं तो फिर उसके मन में ऐसा कुछ नहीं होता, जो वह आपको कहना चाहे। उस समय आप अपनी बात व दिल की फीलिंग उसे बताएं, यकीन मानिए, वह भी उतने ही धैर्य से आपकी बात सुनेगा व समझने की कोशिश करेगा।

इसे जरूर पढ़ें- रिलेशन में फाइनेंशियल मुद्दों को सुलझाएं कुछ इस तरह, नहीं टूटेगा आपका रिश्ता

बेहतर कम्युनिकेशन

art of listening in relationship ()

यह तो हम सभी जानते हैं कि किसी भी रिश्ते को हैप्पी व मजबूत बनाने के लिए बेहतर कम्युनिकेशन होना बेहद जरूरी है और कम्युनिकेशन का अर्थ यही नहीं होता कि आप सिर्फ अपनी बात सामने वाले व्यक्ति को बता दें। आपको उतना ही पेशेंस के साथ उसकी बात भी सुननी होती है। जब आपके भीतर यह गुण आ जाता है तो आपके बीच होने वाले कई झगड़ों का समाधान तो आपको यूं ही मिल जाता है।