• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

कोट की स्लीव्ज में क्यों होते हैं तीन बटन, क्या आपको पता है इनका नाम

क्या आप जानते हैं कि आखिर क्यों सूट की स्लीव्स में हमेशा बटन लगे होते हैं? इसके बारे में आज हम आपको बताते हैं। 
author-profile
Published -01 Jul 2022, 08:00 ISTUpdated -01 Jul 2022, 12:24 IST
Next
Article
why suit sleeves have button

जहां तक कपड़ों का सवाल है तो उनका इतिहास बहुत ही ज्यादा रोचक रहा है और हमने ये देखा है कि पिछले कई दशकों में किस तरह से पहनावे में बदलाव आया है। हर 10 सालों में फैशन बहुत बदल जाता है। 2010 में जिस तरह के कपड़े पहने जाते थे वो 2012 में नहीं पहने जाते हैं। जहां तक कपड़ों का सवाल है तो इसमें कई चीज़ें ऐसी भी होती हैं जिनका उपयोग क्या है वो समझ ही नहीं आता है। उदाहरण के तौर पर ब्रा के सामने Bow क्यों लगा होता है इसके बारे में कई लोगों को जानकारी नहीं होती है और इसका अब इस्तेमाल नहीं होता है। 

ऐसे ही क्या आपने कभी सोचने की कोशिश की है कि कोट की स्लीव्स में 3 बटन क्यों दिए गए होते हैं? ये बटन कोट के बटन्स से भी अलग होते हैं तो फिर क्यों इन्हें स्लीव्स पर ऐसे लगवाया जाता है? इसके पीछे एक बहुत बड़ा कारण था और शुरुआती दौर में इनका बहुत ज्यादा इस्तेमाल होता था। तो चलिए आज आपको इनके बारे में ही बताते हैं कि आखिर क्यों कोट की स्लीव्स में तीन बटन रखे गए हैं। 

suit buttons and its types

इन्हें कहा जाता है किसिंग बटन्स-

इनका इतिहास बताने से पहले मैं आपको इनके नाम के बारे में बता दूं। इन बटन्स को दुनिया भर में किसिंग बटन्स के नाम से ज्यादा जाता है। जी हां, आप गूगल पर kissing buttons सर्च करेंगे तो आपके सामने यही बटन्स आएंगे। ये तीन होते हैं और आजकल ट्रेंड ये है कि कोट के बटन्स से मैच करते हुए ये बटन्स बनाए जाते हैं। पर फिर भी इन्हें कोट के वेस्ट बटन्स से रिप्लेस नहीं किया जा सकता है क्योंकि इनकी अलग जगह होती है। 

kissing buttons

इसे जरूर पढ़ें- क्या आप जानते हैं ब्रा का फुल फॉर्म? इन फैक्ट्स के बारे में शायद आपको न पता हो

सूट की स्लीव्स पर बटन्स की हिस्ट्री-

अब बात करते हैं सूट की स्लीव्स पर बटन्स की हिस्ट्री के बारे में। चर्चित कहानी मानती है कि ये मिलिट्री से ही शुरू हुए थे। इसकी शुरुआत सटीक तौर पर कब हुई ये तो नहीं बताया जा सकता है, लेकिन अगर हम बात करें प्रचलित कहानी की तो उसके अनुसार ये शुरुआती दौर में बहुत ही कारगर साबित होते थे। इसकी शुरुआत यूरोपीय देशों से हुई थी जहां पर सिपाहियों को कोट पहनने होते थे। इसके लिए कई ऐतिहासिक लोगों का नाम लिया जाता है जैसे क्वीन एलिजाबेथ I, फ्रेड्रिक 2 ऑफ पर्शिया, नेपोलियन एडमिरल नेल्सन आदि। 

माना जाता है कि इन्हीं में से एक ने इसकी शुरुआत की थी। कहानी के अनुसार, जब सेना प्रमुख सेना का मुआयना कर रहे थे तो उन्होंने देखा कि कई सिपाहियों के कोट की स्लीव्स गंदी थी। जब इसका कारण जानने की कोशिश की तो पता चला कि कई सिपाही अपनी नाक, मुंह या आंसू पोंछने के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं। (महिलाओं की जीन्स में जिपर क्यों होता है)

इस आदत के कारण सिपाहियों का लुक बहुत खराब होता था। अपने कोट की स्लीव्स को वो रुमाल की तरह ना इस्तेमाल करें इसलिए सिपाहियों की स्लीव्स में बटन लगाने की सलाह दी गई। ये तरीका सिर्फ सिपाहियों की आदत बदलने के लिए अपनाया गया था। 

इसे जरूर पढ़ें-  आखिर क्यों जीन्स की पॉकेट पर होते हैं छोटे बटन, जानें  

एक और चर्चित स्टोरी- 

एक और चर्चित स्टोरी जो इसे लेकर बताई जाती है वो ये कि विक्टोरियन जमाने में अधिकतर लोगों के कपड़ों की स्लीव्स खुली हुई रहती थीं। ऐसे में बटन और बटन होल रखना जरूरी था ताकि स्लीव्स खोलने की जरूरत महसूस हो तो फिर उन्हें खोला जा सके। इसके लिए, उस समय के टेलरों ने जैकेट में बटन लगाना शुरू किया।  

तो इस तरह हुई जैकेट में बटन लगने की शुरुआत। क्या आपको इस जानकारी के बारे में पता था? अगर नहीं तो इस जानकारी को दूसरों के साथ शेयर भी करें और इस स्टोरी को शेयर जरूर करें। ऐसी ही अनोखी जानकारी और फैक्ट्स हम आपके पास तक लाते रहेंगे। तो अपना जनरल नॉलेज बढ़ाने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से। 

 
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।