आज के समय की व्यस्तता और तनाव भरी जिंदगी में चैन की नींद आना काफी ज्यादा चैलेंजिंग हो गया है। बहुत सी महिलाएं रात में सोने के लिए जूझती रहती हैं। दिनभर काम करके थक जाने के बावजूद कई बार नींद नहीं आ पाती। अगर आप भी इसी मुश्किल से जूझ रही हैं तो अपने बेड रूम के वास्तु पर ध्यान दें, क्योंकि बेड रूम में वास्तु दोष होने पर यह नेगेटिव एनर्जी पैदा करता है, जिससे आपको अच्छी तरह नींद नहीं आ पाती। अगर नींद पूरी ना हो, तो सुबह उठने पर ताजगी महसूस नहीं होती और दिनभर आलस महसूस होता रहता है। अगर आप चाहती हैं कि आपकी रातें सुकूनभरी और दिन ताजगी से भरपूर हों तो अपने बेड रूम को वास्तु अनुरूप अवश्यक बनाएं। वास्तु एक्सपर्ट नरेश सिंगल से आइए जानते हैं कि आप कैसे अपने बेडरूम को वास्तु सम्मत बनाकर आराम से सो सकती हैं-

  • बेड रूम में बेड इस प्रकार लगाएं कि सिरहाना दक्षिण की तरफ रहे। यदि किसी कारणवश बेड को किसी और दिशा में रखा है तो पूर्व-पश्चिम की तरफ सिर करके सोया जा सकता है। भूलकर भी उत्तर की तरफ सिर करके न सोएं। 
vastu tips for sound sleep dont sleep on stomach side inside
 
  • बड़ों के लिए शयन कक्ष दक्षिण अथवा पश्यिम में बनाया जा सकता है।
  • किशोरों के लिए शयन कक्ष दक्षिण-पूर्व में बनाना बेहतर रहता है। 
  • सोते समय पैर ठीक दरवाजे के सामने न हों।
  • सोते समय शरीर का कोई भी हिस्सा दर्पण में न दिखाई दे, अन्यथा बुरे सपने व बदन दर्द होने की आशंका बढ़ सकती है।
  • बीम या गार्डर के नीचे न सोएं। इस हेल्थ प्रॉब्लम्स के साथ-साथ वंशवृद्धि में बाधा उत्पन्न हो सकती है।
  • बेड पर लाल रंग की चादर न बिछाएं, बल्कि आरेंज, गुलाबी, हल्के बादामी रंग की चादर बिछाएं। ये रंग आंखों को ठंडक देते हैं। परदे इत्यादि भी हल्के रंग के लगाएं।
  • आलमारी दक्षिण या पश्चिम में रखें।
  • टीवी और एयरकंडीशनर की व्यवस्था दक्षिण-पूर्व में करें।
  • ड्रेसिंग टेबल पूर्व में रखें।
  • बेडरूम में पानी से संबंधित शो पीस, फिश-एक्वेरियम या फव्ववारे इत्यादि न लगाएं।
  • पीने का पानी टेलीफोन या टेलीविजन के पास न रखें। उसमें प्रवाहित होने वाली विधुत तरंगों से पानी दूषित हो जाता है। 
  • वास्तु का जीवन पर गहरा प्रभाव डालता है। अगर बेड रूम को वास्तु के अनुकूल बना लिया जाए तो इससे रात में अच्छी नींद आने के साथ-साथ दिनचर्या भी अच्छी बनी रहती है।