घर की हर चीज़ को वास्तुशास्त्र के हिसाब से रखना घर के लोगों के लिए अच्छा तो माना हो जाता है और घर में सुख समृद्धि का कारण भी बनता है। ऐसा माना जाता है कि वास्तु के अनुसार अगर घर में वस्तुएं गलत जगह पर रखी होती हैं तो नकारात्मकता का सामना भी करना पड़ सकता है। जिस तरह घर में किचन, मंदिर और बेडरूम में रखी हुई चीज़ों के लिए वास्तु जरूरी होता है उसी तरह घर में रखी शू रैक यानी जूतों की अलमारी की भी एक निश्चित दिशा होती है। ऐसा माना जाता है कि जूतों या चप्पलों का इधर-उधर बिखरे रहना या फिर गलत तरीके से शू रैक का रखा होना घर में अशांति का कारण भी बन सकता है। 

वास्तु के हिसाब से जूते पृथ्वी की श्रेणी में आते हैं। इसलिए शू रैक की ऊंचाई फर्श से छत तक की ऊंचाई के एक तिहाई से अधिक नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा ऐसा माना जाता है कि शू रैक हमेशा कम हाइट की रखने से ही घर के सदस्यों के बीच सामंजस्य स्थापित हो सकता है। जूतों के लिए इस्तेमाल होने वाली ऊंची अलमारियां परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य में भी बाधा डाल सकती हैं। आइए जानी मानी एस्ट्रोलॉजर और वास्तु स्पेशलिस्ट डॉ आरती दहिया जी से जानें कि घर में शू रैक रखते समय किन बातों का ध्यान रखते हुए इसकी उचित दिशा और स्थान निर्धारित करना चाहिए। 

शू रैक रखने की सही दिशा 

vastu for show rack

घर में जब भी आप शू रैक रखें इसे पश्चिम या दक्षिण-पश्चिम दिशा में रखें। यदि आप शू रैक को हॉल या बरामदे में रखते हैं तो इस स्थान का दक्षिण -पश्चिम कोना इस तरह की रैक के लिए एक आदर्श स्थान माना जाता है। मान्यता है कि शू रैक में कभी भी गंदे जूते नहीं रखने चाहिए अन्यथा ये घर में नकारात्मक ऊर्जा को लाते हैं। जब भी शू रैक में जूते रखें उन्हें व्यवस्थित ढंग से ही रखें। कभी भी जूतों को शू रैक के बाहर बिखराकर न रखें। व्यवस्थित तरीके से रखे गए जूते स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक प्रभाव डालते हैं। जूते के रैक को कभी भी उत्तर, दक्षिण-पूर्व या पूर्व दिशा में न रखें। 

Vastu Tips: धन हानि से बचना है, तो घर पर भूलकर भी न रखें यें चीज़ें

aarti dahiya quote

बेड रूम में न रखें शू रैक 

वास्तु के हिसाब से शू रैक कभी भी घर के बेड रूम में न रखें। ऐसा करना घर के लोगों के लिए लड़ाई झगड़े का कारण बन सकता है। जूते चप्पल बेडरूम में रखने से इससे उत्पन्न होने वाली नकारात्मकता इतनी तीव्र हो सकती है कि यह विवाह के संबंधों में भी बाधा उत्पन्न कर सकती है। ऐसा करना आपके स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर सकता है। वास्तु की न भी माने तब भी इस जगह पर शू रैक को रखना बेडरूम में सीमित स्थान होने के कारण इसे भद्दा रूप दे सकता है और आपके स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर सकता है। 

घर के मुख्य द्वार पर न रखें शू रैक 

shoe rack placement tips

कभी भी प्रवेश द्वार पर शू रैक न लगाएं क्योंकि यह समृद्धि और अच्छे वाइब्स का द्वार है। यदि जूते या जूतों द्वारा बनाई गई व्यवस्था से मुख्य दार प्रतिबंधित होता है, तो यह घर में प्रवेश करने वाली अच्छी ऊर्जा में हस्तक्षेप कर सकता है। यदि वास्तव में आपके पास अन्य कोई विकल्प नहीं है, तो शू रैक को मुख्य द्वार से थोड़ा दूर या घर के भीतर, मुख्य द्वार से दूर करके रखें। शू रैक को दक्षिण -पश्चिम और पश्चिम -उत्तर, उत्तर पूर्व और पूर्व क्षेत्रों में रखने से बचें।

Recommended Video

सीढ़ियों के नीचे न रखें शू रैक 

आमतौर पर लोग घरों में बने हुए सीढ़ी वाले स्थान का उपयोग करने के लिए इस जगह पर शू रैक रख देते हैं। ऐसा करना वास्तु के हिसाब से गलत है क्योंकि इस जगह पर शू रैक रखना बीमारियों का कारण बन सकता है। घर की सीढ़ियां उन्नति को दिखाती हैं और इसके नीचे जूते रखने से सकारात्मक ऊर्जा प्रभावित होने लगती है। 

इसे जरूर पढ़ें:Vastu Tips: सुख-समृद्धि के लिए घर से मिटाएं ये 10 वास्तु दोष

इस स्थान पर भूलकर भी न रखें शू रैक 

shoes rack  in main gate

  • अपने घर के अंदर सकारात्मकता और ऊर्जा को बढ़ाने के लिए, कुछ विशेष स्थान हैं जहां शू रैक लगाने से हमेशा बचना चाहिए। घर के प्रवेश द्वार पर कभी भी शू रैक नहीं रखनी चाहिए क्योंकि ऐसा माना जाता है कि मुख्य द्वार वह है जहां देवी "लक्ष्मी" निवास करती हैं।
  • प्रवेश द्वार पर शू रैक रुकावट पैदा कर सकती है और मन में तनाव पैदा कर सकती है और धन को अवरुद्ध करने का कारण बन सकती है। 
  • शू रैक रसोई में या प्रार्थना कक्ष के बहुत पास भूलकर भी न रखें। रसोई में जूते रखने से अंततः खराब स्वास्थ्य हो सकता है और यदि पूजा घर के निकट इसे रखा गया तो ये कलह का कारण बन सकती है। घर के मंदिर और जूतों के स्टैंड के बीच उचित दूरी बनाए रखनी बहुत जरूरी है। 
  • परिवार के सदस्यों को घर के आसपास अव्यवस्थित ढंग से जूते नहीं रखने चाहिए । इससे घर में झगड़े हो सकते हैं।
  • बंद शू रैक, खुले शू स्टैंड या रैक की तुलना में बहुत बेहतर हैं क्योंकि बंद रैक नकारात्मकता को फैलने नहीं देती हैं।
  • घर के उत्तरी और पूर्वी सेक्शन को जितना हो सके साफ रखने की कोशिश करें और जूतों की रैक जैसी चीजों को यहां रखने से बचें।

उपर्युक्त सभी बातों का ध्यान रखकर घर में शू रैक रखने से घर के लोगों के बीच सामंजस्य बना रहता है और स्वास्थ्य पर भी इसका अच्छा असर होता है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and shutterstock