भारत में अगर किसी सिंगर को पॉप, क्लासिकल, जैज़, इंडीपॉप आदि के लिए जाना जाता है तो उसमें सबसे ऊपर नाम आता है ऊषा उत्थुप का। 8 नवंबर 1947 को जन्मी ऊषा जी आज अपना 72वां जन्मदिन मना रही हैं। ऊषा की दमदार आवाज़ और संगीत की लय के कारण उनके लाखों फैन्स हैं। ऊषा उत्थुप की बिंदी, उनकी साड़ियां ही नहीं उनके कांजीवरम स्नीकर्स भी काफी चर्चा में रहते हैं। कारण ये है कि उनके स्नीकर्स खास तौर पर वो अपनी साड़ी के कपड़े से ही बनवाती हैं। ऊषा उत्थुप के जन्मदिन पर आज जानते हैं उनके बारे में कुछ फैक्ट्स।  

साड़ी के कपड़े से बनते हैं स्नीकर्स-  

ऊषा उत्थुप ने एक इवेंट में स्टेज पर ही जूतों के लेकर गाना गाया था और वहीं अपने मोची सुषील और मिस्री दास को धन्यवाद भी दिया था जो उनके लिए सालों से कांजीवरम स्नीकर्स बनाते आ रहे हैं। ऊषा की साड़ी के कपड़े से ही उन स्नीकर्स को बनाया जाता है। तभी वो खास होते हैं और इतने सालों से कांजीवरम साड़ी वाले ये स्नीकर्स काफी प्रसिद्ध होते आ रहे हैं।  

usha uthup albums

इसे जरूर पढ़ें- Weight Loss Routine: 1 महीने तक Green Tea पीने के बाद मेरी स्किन, बालों और पेट पर ऐसा रहा असर 

usha uthup daughter

फिल्मों में गाने से पहले गाती थीं होटल में गाना-  

ऊषा 20 साल की थीं तभी उन्होंने साड़ी में चेन्नई के माउंट रोड स्थित जेम्स नाम के एक छोटे से नाइट क्लब में गाना शुरू किया था। उसी समय नाइटक्लब के मालिक ने ऊषा को एक हफ्ते के ट्रायल पीरियड पर रखा था।  

usha uthup gender

इसके बाद ऊषा ने मुंबई के 'टॉक ऑफ द टाउन' और कोलकाता के 'ट्रिनकस' क्लब में भी गाना गाया। इसके बाद उन्हें दिल्ली के ओबेरॉय होटल में गाना गाने का मौका मिला।  

शशि कपूर ने दिया था ब्रेक- 

शशि कपूर और ऊषा की मुलाकात दिल्ली के ओबेरॉय होटल में ही हुई थी। वहां शशि कपूर उनकी गायकी से इतने प्रभावित हुए कि फिल्म में गाने का मौका दे दिया।  

usha uthup songs

फिल्म में पहला गाना- 

ऊषा उत्थुप ने 1970 में आई फिल्म बॉम्बे टॉकीज में एक अंग्रेजी गाना गाया था। फिर उन्हें फिल्म हरे रामा हरे कृष्णा में भी गाने का मौका मिला था। फिल्म में दम मारो दम गाने की कुछ लाइन अंग्रेजी में गाई थीं। 

usha uthup darling 

25 भाषाओं में गाने गाए हैं ऊषा ने-  

ऊषा जी ने 8 विदेशी और 17 भारतीय भाषाओं में गाने गाए हैं। 50 सालों से अपने संगीत के जरिए अपने फैन्स को लुभा रही हैं। 

इसे जरूर पढ़ें- विराट और अनुष्का की भूटान ट्रिप रही कुछ खास, अगर आप जाना चाहती हैं तो ये टिप्स करेंगे मदद

बचपन में म्यूजिक क्लास से निकाला गया था ऊषा को-

बचपन में स्कूल की म्यूजिक क्लास से ऊषा को इसीलिए निकाल दिया गया था क्योंकि उनकी आवाज़ सही नहीं लग रही थी। ऊषा की आवाज़ बाकी लड़कियों से अलग थी। फिर भी उनके म्यूजिक टीचर को लगा कि ऊषा में थोड़ा बहुत संगीत है इसलिए उन्हें इंस्ट्रूमेंट्स बजाने के लिए रख लिया। ऊषा उत्थुप ने कभी संगीत में कोई आधिकारिक ट्रेनिंग नहीं ली है, लेकिन फिर भी उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी में इतने गाने गाए हैं जितने बड़े सिंगर्स भी नहीं गा पाए। 

लुक्स और आवाज़ को लेकर लोगों ने चिढ़ाया- 

ऊषा उत्थुप की आवाज़ और लुक्स को लेकर उन्हें भी बॉडी शेमिंग और वॉयस शेमिंग का शिकार होना पड़ा है। ऊषा ने कपिल शर्मा के शो में बताया कि उनकी आवाज़ के कारण लोग उन्हें मर्दाना समझते थे और यही आवाज़ ही है जिसने उन्हें इतनी शोहरत दिलाई है।