• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

Hanuman Jayanti 2022: हनुमान जी के जीवन से जुड़े इन 8 रहस्यों के बारे में कितना जानते हैं आप

हिंदू धर्म के पूजनीय देवताओं में से एक हैं भगवान हनुमान जी, उनके जीवन से जुड़े कुछ ऐसे रहस्य हैं जिनसे आप सभी अंजान होंगे।  
Published -13 Apr 2022, 13:14 ISTUpdated -16 Apr 2022, 11:19 IST
author-profile
  • Samvida Tiwari
  • Editorial
  • Published -13 Apr 2022, 13:14 ISTUpdated -16 Apr 2022, 11:19 IST
Next
Article
lord hanuman interesting facts

भगवान हनुमान हिंदू धर्म में सबसे अधिक पूजे जाने वाले देवताओं में से एक हैं। उन्हें उनके साहस, शक्ति और उनकी सुरक्षा की दिव्यता के लिए माना जाता है। उनकी पौराणिक कथाओं का वर्णन रामायण में विस्तार से मिलता है और उनकी भूमिका सम्पूर्ण रामायण प्रसंग में मुख्य थी। उनके बारे में प्रचलित मान्यताओं में उनकी श्री राम के प्रति अटूट भक्ति, श्रद्धा भावना, उनकी बचपन की शरारतें और माता सीता को खोजने में प्रभु श्री राम की सहायता करना मुख्य रूप से वर्णित हैं।

सिर्फ रामायण ही नहीं बल्कि महाभारत और अन्य पुराणों में भी हनुमान जी की भक्ति का वर्णन किया गया है। ऐसी मान्यता है कि उनका जन्म चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को हुआ था, इसलिए इसी दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। हनुमान जी को पवनसुत, केसरी नंदन, बजरंगबली जैसे कई नामों से भी जाना जाता है। आइए जानें उनके जीवन से जुड़ी कुछ ऐसी बातों के बारे में जिनसे शायद आप सभी अंजान होंगे। 

हनुमान जी भगवान शिव के अवतार थे

पौराणिक कथाओं में इस बात का जिक्र है कि केसरी और अंजना के पुत्र,थे लेकिन वास्तविकता यह भी है कि वो भगवान शिव का अवतार थे और उन्हें शिव जी के अंश के रूप में भी पूजा जाता है। हनुमान जी को पवन पुत्र के रूप में भी जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि जब भगवान विष्णु ने पृथ्वी पर राम अवतार लिया तब भगवान शिव ने उनके साथ रहने के लिए पृथ्वी पर हनुमान रूप में अवतार लिया। 

इसे जरूर पढ़ें:Hanuman Jayanti 2022: जानें कब पड़ेगी हनुमान जयंती, पूजा का शुभ मुहूर्त और सुख समृद्धि के अचूक उपाय

हनुमान उनका जन्म से नाम नहीं था 

lord hanuman birth

हनुमान जी का नाम जन्म के समय हनुमान नहीं था बल्कि एक बार उन्होंने सूर्य को कोई मीठा फल समझकर निगल लिया था। तब इंद्रा ने सूर्य को मुक्त करने के लिए वज्र प्रहार किया और उनका जबड़ा सूज गया। तभी से उनका नाम हनुमान पड़ा क्योंकि हनुमान संस्कृत के हनुमत शब्द से बना है। हनुमत एक शब्द और एक प्रत्यय का जोड़ है। हनु या हनू का अर्थ है जबड़ा और मत प्रत्यय बन जाती है। तो, हनुमान का अर्थ है वह जिसका जबड़ा सूज गया हो या विकृत हो गया हो।

भगवान हनुमान के पांच भाई थे

ब्रह्माण्ड पुराण श्लोक 223 - 227 में कहा गया है कि अंजना और केसरी के कुल पांच पुत्र थे जिनमें से हनुमान सबसे बड़े थे। भगवान हनुमान के भाई-बहनों के जन्म के क्रम में उनके नाम मतिमान, श्रुतिमान, केतुमान और द्र्टिमान हैं। महाभारत काल में पांडु और कुंती पुत्र भीम को भी हनुमान जी का भाई कहा गया है।

हनुमान जी की मूर्ति का रंग लाल या नारंगी क्यों होता है 

इसकी एक पौराणिक कथा के अनुसार एक बार भगवान हनुमान ने सीता जी को माथे पर सिंदूर लगाते हुए देखा और पूछा कि यह उनके दैनिक अनुष्ठानों का हिस्सा क्यों है। तब सीता ने हनुमान को समझाया कि सिंदूर श्रीराम की लंबी उम्र, उनके पति के प्रति उनके प्रेम और सम्मान का प्रतिनिधि है। श्री राम के प्रति निष्ठावान भक्ति की वजह से हनुमान जी ने अपने पूरे शरीर को इस सिंदूर से लेपने का निर्णय लिया और हनुमान जी को सिंदूर से रंगा देखकर उनकी भक्ति से प्रभावित होकर भगवान श्री राम ने वरदान दिया कि जो लोग भविष्य में सिंदूर से हनुमान जी की पूजा करेंगे, उनकी सारी कठिनाइयां दूर हो जाएंगी और यही कारण है कि मंदिर में आज भी हनुमान जी की मूर्ति सिंदूर से रंगी होती है। 

ब्रह्मचारी हनुमान जी का एक पुत्र मकरध्वज था

lord hanuman son

भगवान हनुमान एक ब्रह्मचारी के रूप में जाने जाते हैं फिर भी उन्होंने मकरध्वज नाम के एक पुत्र को जन्म दिया। कहा जाता है कि अपनी अग्निमय पूंछ से लंका को जलाने के बाद उन्होंने अपनी पूंछ को ठंडा करने के लिए समुद्र में डुबो दिया। उस समय उनके शरीर का पसीना एक मछली ने निगल लिया और उसी मछली से मकरध्वज का जन्म हुआ।

इसे जरूर पढ़ें:Vastu Tips: घर की सुख समृद्धि कायम रखनी है, तो भूलकर भी ना रखें हनुमान जी की ऐसी तस्वीरें

रामायण ही नहीं महाभारत में भी थी हनुमान जी की उपस्थिति

पौराणिक कथाओं के अनुसार हनुमान जी की उपस्थिति राम के समय में यानी रामायण काल में मौजूद थी। लेकिन शायद ही किसी को ये ज्ञात हो कि हनुमान जी अर्जुन के रथ पर अपने चित्रित ध्वज के रूप में कुरुक्षेत्र के युद्ध के मैदान में भी उपस्थित थे। ऐसा उन्होंने भगवान कृष्ण की श्रद्धा के रूप में किया था। भगवान कृष्ण भी विष्णु जी का दसवां अवतार थे और इसी वजह से हनुमान जी उनके साथ उपस्थित थे। हनुमान जी की उपस्थिति ने कुरुक्षेत्र युद्ध में रथ और उसके निवासियों को सुरक्षा प्रदान की और जैसे ही युद्ध में विजय मिली हनुमान जी वापस अपने मूल रूप में आ गए। 

Recommended Video

क्यों रखा पंचमुखी हनुमान का रूप 

panchmukhi hanuman

ऐसा कहा जाता है कि भगवान हनुमान ने राम (भगवान राम से जुड़े कुछ सवाल)और लक्ष्मण का अपहरण करने वाले पाताल के राक्षस राजा को मारने के लिए पंचमुखी हनुमान का रूप धारण किया था। हनुमान को इस बात का पता लगा कि अहिरावण को मारने के लिए उनको एक ही समय में पांच दीपकों को बुझाने की जरूरत है क्योंकि उनके भीतर राक्षस राजा की आत्मा रहती है। इसलिए भगवान हनुमान पांच सिरों में रूपांतरित हो गए। पंचमुखी हनुमान के रूप में केंद्र में हनुमान जी मौजूद थे। दक्षिण में नरसिम्हा जी थे जो शेर के रूप में थे, पश्चिम में गरुड़ जी, उत्तर में सुअर का सिर और आकाश के सामने एक घोड़े का सिर था।

भगवान हनुमान अमर हैं

हिंदू ग्रंथों में आठ चिरंजीवियों का उल्लेख है और भगवान हनुमान उनमें से एक हैं। ऐसा कहा जाता है कि वह कलयुग के अंत तक श्री राम के नाम और कहानियों का जाप करते हुए इस धरती पर चलेंगे। हनुमान जी को इस युग में भी पूजनीय माना जाता है और उन्हें अमर मानते हुए ही उनकी पूजा की जाती है। 

वास्तव में भगवान हनुमान के जीवन से जुड़े ये कुछ ऐसे रहस्य हैं जिनसे आप सभी शायद अंजान होंगे। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: wallpaper cave.com 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।