किसी भी सेलिब्रेशन जुड़ी कोई ऐसी परंपरा जरूर होती है, जो अलग-अलग देशों में सदियों से चलती आ रही है। अब आप क्रिसमस को ही लीजिए। क्रिसमस से पहले थैंक्सगिविंग आता है और उसी समय से अमेरिका में विंटर हॉलिडे शुरू हो जाती हैं।

क्रिसमस आते-आते तमाम इवेंट्स शुरू हो जाते हैं। कहीं क्रिसमस बॉल का आयोजन होता है, तो कई हॉलिडे कुकीज बनाई जाती हैं। सिर्फ अमेरिका ही नहीं ऐसे कितने देश हैं, जहां क्रिसमस को लेकर थोड़े अजीब, थोड़े गजब और काफी सारे ट्रेडिशन फॉलो किए जाते हैं।

कुछ जगहों पर लैन्टर्न फेस्टिवल का आयोजन होता है, तो कहीं केएफसी जाकर ही खाया जाता है। कुछ जगहों के लोग अपनी फैमिली के साथ रिश्तेदारों के घर जाकर पिकनिक मनाते हैं। क्रिसमस कैरोल गाते हैं और खूब मौज-मस्ती करते हैं। चूंकि क्रिसमस आने वाला है, इसलिए चलिए हम भी देश-विदेश में मनाए जाने वाले कुछ ट्रेडिशन पर एक नजर डालें।

फिलीपींस के लोग मनाते हैं लैन्टर्न फेस्टिवल

lantern festival on christmas in phillipines

अगर आपको लगता है कि अमेरिका क्रिसमस की सजावट में बहुत कुछ कर देता है, तो आपको देखना चाहिए कि फिलीपींस क्या करता है? हर साल, सैन फर्नांडो शहर में लिगलिगन पारुल (Ligligan Parul) (या जाइंट लैंटर्न फेस्टिवल) आयोजित किया जाता है, जिसमें चमकदार पैरोल (लालटेन) होते हैं जो बेथलहम के सितारे का प्रतीक हैं। इसी त्योहार ने सैन फर्नांडो को 'फिलीपींस की क्रिसमस राजधानी' बना दिया है।

आइसलैंड में जूतों को रखते हैं खिड़की पर

shoes to be kept near windows in christmas in iceland

यू.एस. में क्रिसमस के 12 दिनों के समान, आइसलैंड 13 मनाता है। क्रिसमस से पहले प्रत्येक रात, बच्चे अपने जूतों को सजाकर अपनी खिड़की के पास लटका देते हैं और सो जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि जो बच्चे साल भर अच्छा करते हैं, उन्हें कैंडी दी जाती है और जो बच्चे साल भर शैतानी करते हैं, उनके जूतों में सड़े हुए आलू भर दिए जाते हैं। इससे बच्चों को पूरे साल भर कुछ अच्छा और नया करने के लिए प्रेरित किया जाता है। 

नॉर्वे में छुपा देते हैं झाड़ू

hide broom in christmas in norway

नॉर्वे के लोग थोड़े अंधविश्वासी होते हैं और  वे लोग उस दिन अपने घर के झाड़ू और पोछे को छुपा देते हैं। ऐसा इसलिए नहीं, ताकि उन्हें साफ-सफाई न करनी पड़े, बल्कि इसलिए कि कोई बुरी आत्मा झाड़ू के द्वारा पृथ्वी पर न आ सके। जी हां, उनका मानना होता है कि क्रिसमस वाले दिन बुरी आत्माएं धरती पर लौट आती हैं और अगर झाड़ू को छुपा दिया जाए तो वह नहीं आती और ऐसे ही आसमान में भटकती रहती हैं।

इसे भी पढ़ें : इन 9 देशों में है न्यू ईयर के अलग रीति-रिवाज, कहीं तोड़ते हैं प्लेट तो कहीं करते हैं इससे भी अजीब काम

यूक्रेन में लगाते हैं स्पाइडर वेब्स

christmas spider webs in ukraine

आप मानो या न मानो लेकिन क्रिसमस स्पाइडर भी एक चीज है। यूक्रेन में, क्रिसमस ट्री को मकड़ी के जाले से सजाया जाता है। अरे घबराने की जरूरत नहीं, वो बस ऐसे आभूषण होते हैं जो मकड़ी के जाल की तरह दिखते हैं। ऐसा कहा जाता है कि ये आभूषण सौभाग्य लाते हैं। दरअसल इसके पीछे एक कहानी है कि एक गरीब बुढ़िया थी जिसके पास अपने क्रिसमस ट्री को सजाने के लिए कुछ नहीं था। जब वह सुब उठी तो उसने देखा कि उसका ट्री मकड़ी के जाले से ढका हुआ है और उसके पेड़ पर सूरज की किरणे पड़ने से सुंदर लग रहा है। आपको जानकर हैरानी होगी कि अन्य देश जैसे पोलैंड या जर्मनी में, क्रिसमस ट्री में मकड़ी या मकड़ी का जाला मिलने पर इसे सौभाग्य मानते हैं।

इसे भी पढ़ें :जानिए दुनिया भर के अजीबो-गरीब रीति-रिवाजों के बारे में

यूक्रेन और पोलैंड में तारों को देखकर खोलते हैं तोहफे

guiding stars in poland and ukraine

अब तोहफे मिलने के बाद कोई कितना ही इंतजार कर सकता है। कुछ लोग तो ऐसे होते हैं कि गेस्ट के जाने का भी इंतजार नहीं करते और उनके सामने उनका तोहफा खोलकर रिव्यू भी दे देते हैं। मगर ऐसा सब जगह नहीं होता है। आपको बता दें कि यूक्रेन और पोलैंड जैसे देशों में घर का सबसे छोटा बच्चे आसमान में पहला तारा देखने तक इंतजार करता है। जब पहला तारा आसमान में दिखता है, तो उसे गाइडिंग स्टार कहते हैं, जिसका अर्थ होता है कि अब सभी तोहफे खोले जा सकते हैं।

फिनलैंड में खाते हैं पुडिंग

porridge eating in finland on christmas

क्रिसमस की सुबह, फिनलैंड के कुछ परिवारों में ऐसा परंपरा है कि लोग सुबह होते हैं चावल और दूध से बने दलिया को दालचीनी, दूध या मक्खन के साथ खाते हैं। इस पुडिंग अंदर बादाम छुपाया जाता है और जो पहले बादाम को ढूंढ लेता है वो जीतता है (जानें 3 तरह की पुडिंग रेसिपीज)। हालांकि कुछ लोग बच्चों का दिल रखने के लिए चीटिंग करते हैं और उनकी डिश में खूब सारे बादाम डालकर रखते हैं। दिन के अंत में, सौना में एक साथ वॉर्म अप होने की भी प्रथा यहीं है।

देखा आपने हर देश में क्रिसमस के पीछे के कितने अतरंगी ट्रेडिशन फॉलो किए जाते हैं। आपको इन्हें पढ़कर कैसा लगा हमें जरूर बताएं। यह लेख पसंद आया तो इसे लाइक और शेयर करें। ऐसे अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।