हम सभी की इच्छा होती है कि हमारा घर सदैव धन धान्य से भरा रहे और माता लक्ष्मी की कृपा सदैव हम पर बनी रहे। इसी कामना के साथ हम सब माता की पूरे श्रद्धा भाव से आराधना करते हैं। माता लक्ष्मी को भगवान विष्णु की अर्धांगिनी के रूप में पूजा जाता है और इन्हें धन की देवी माना जाता है। यही वजह है माता लक्ष्मी के रुष्ट हो जाने से घर में धन धान्य की कमी हो जाती है और परेशानियां बढ़ने लगती हैं। वहीं यदि माता लक्ष्मी प्रसन्न हो जाती हैं, तो घर धन-धान्य से परिपूर्ण हो जाता है और घर में किसी भी तरह का कोई कष्ट नहीं आता है। इसीलिए माता की पूजा आराधना पूरे श्रद्धा भाव से और पूरे विधि विधान के साथ की जाती है। माता लक्ष्मी की पूजा के दौरान हमें कुछ बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए। आइए जानें क्या हैं वो बातें -

पूजा के दौरान ध्यान रखें ये बातें 

कैसे हों वस्त्र 

lakshmi pujan ()

ऐसी मान्यता है कि मां लक्ष्मी को गुलाबी और श्वेत रंग अत्यंत पसंद है। इसलिए मां लक्ष्मी को लाल, गुलाबी या फिर पीले रंग के  रेशमी वस्त्रों से सुसज्जित करें साथ ही पूजा करने के दौरान इन्हीं रंगों के वस्त्र धारण करने से माता लक्ष्मी की कृपा बरसती है। 

Recommended Video

किस समय करें पूजन 

lakshmi pujan ()

वैसे तो माता की पूजा श्रद्धा भाव से कभी भी करने से माता प्रसन्न होती हैं लेकिन  मां लक्ष्मी की पूजा का उत्तम समय गोधूलि बेला यानी कि संध्या काल को माना गया है। इसके अलावा मध्य रात्रि में भी माता का पूजन अत्यंत लाभकारी होता है। 

इसे जरूर पढ़ें : सपने में भगवान गणेश को देखने का क्या है मतलब

कैसी हो माता की प्रतिमा 

lakshmi pujan ()

मान्यतानुसार मां लक्ष्मी की उस प्रतिमा की पूजा करनी चाहिए, जिसमें वह गुलाबी रंग के पुष्प पर बैठी हों। ऐसी प्रतिमा की पूजा (कैसी हो माता लक्ष्मी की प्रतिमा) करने से माता अत्यंत प्रसन्न होती हैं।  वहीं जिसमें माता खड़ी हुई अवस्था में हों ऐसी मूर्ति की पूजा करना वर्जित है। इसके अलावा माता की खंडित मूर्ति की पूजा कभी नहीं करनी चाहिए। 

पूजा के दौरान क्या अर्पित करें 

lakshmi pujan ()

पूजा के दौरान मां लक्ष्मी को कमल का पुष्प अर्पित करना शुभ माना जाता है, साथ ही माता को अन्य पुष्प , मिठाई ,नैवेद्य आदि अर्पित करके पूरे श्रद्धा भाव से उनकी पूजा करनी चाहिए। ऐसा करने से घर धन धान्य से भर जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें : Mahalaxmi Vrat 2020: महालक्ष्मी के व्रत और पूजन से पूरी होंगी सभी मनोकामनाएं

क्या है पंडित जी की राय 

lakshmi pujan (

माता लक्ष्मी के पूजन हेतु हमें किन बातों का ध्यान रखना चाहिए इस बारे में अयोध्या के जाने माने पंडित श्री राधे शरण शास्त्री जी का कहना है कि लक्ष्मी पूजन के दौरान मां लक्ष्मी का मुख पश्चिम दिशा की तरफ होना चाहिए और पूजा करने वाले का मुख पूर्व दिशा की और होना चाहिए। ऐसी अवस्था में पूजन करने से निश्चित ही फल की प्राप्ति होती है।  माता लक्ष्मी जी के पास कुमकुम मिश्रित अक्षत तथा पुष्प लेकर एक -एक करके आठ लक्ष्मियों का पूजन करें,1,ॐ आद्य लक्षम्यये नमः,2ॐ विद्या लक्षम्यये नमः,3ॐ सौभाग्य लक्षम्यये नमः,4,ॐअमृत लक्षम्यये नमः ,5 ॐ काम लक्षम्यये नमः,6,ॐ सत्य लक्षम्यये नमः,7,ॐ भोग लक्षम्यये नमः,8ॐ योग लक्षम्यये नमः,, धूप, दीप, नैवेद्य, आचमन, फल, ताम्बूल आदि अर्पित करें निश्चय ही घर धन धन्य से परिपूर्ण हो जाएगा। 

लक्ष्मी पूजन के दौरान इन बातों का ध्यान रख कर आप भी माता की पूर्ण कृपा पा सकती हैं। साथ ही घर धन धान्य से पूर्ण हो जाएगा और समस्त कष्टों का निवारण हो जाएगा। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:free pik