सोनम कपूर इन दिनों अपनी आनेवाली फ़िल्म 'पैड मैन' को लेकर चर्चाओं में हैं। सोनम ने हाल ही में इंजस्ट्री में दस साल पूरे किये हैं और सोनम यह कहती हैं कि उनके लिए यह जर्नी बेहद खास रही है। सोनम की यह खास बात है कि वह जब भी बात करती हैं तो हर मुद्दे पर बेहिचक अपने विचार रखती हैं। कुछ ऐसा ही उन्होंने इंडस्ट्री में हीरो और हीरोइन की पे स्केल को लेकर भी रखी है। सोनम का मानना है कि उनके घर में कभी भी इस बात को लेकर डिस्क्रीमिनेशन नहीं होते थे कि हर्षवर्धन यानि उनके भाई को अधिक तवज्जो मिल जाये और लड़की हूं तो मुझे नहीं।

हीरोज़ की हाई Pay-Scale देखकर आया था सोनम को गुस्सा  

इस बारे में आगे बात करते हुए सोनम ने कहा, "पापा( अनिल कपूर) ने कभी कोई भेद नहीं रखा। हम तीनों भाई बहन को बराबर की पॉकेट मनी मिलती थी। घर में पहले मैं और रिया रूम शेयर करते थे, फिर रिया और हर्ष ने शेयर किया। सबसे पहले मुझे बड़ा कमरा और सिंगल कमरा मिला, क्योंकि मैं बड़ी थी। लेकिन, जब इंडस्ट्री में आयी तो पे स्केल में देखा कि हीरो हैं तो उन्हें अधिक फीस मिलेगी, बड़ा कमरा मिलेगा, मुझे नहीं मिलेगा! तो मुझे गुस्सा आया, यह तो गलत बात है।" सोनम ने इंडस्ट्री में जेंडर बायसनेस को लेकर भी हमसे खुलकर बात की। सोनम ने कहा, "आप काम के आधार पर फीस तय करें, न कि जेंडर बायसनेस को लेकर। यह सच है कि दुनिया में हर फील्ड में जेंडर बायसनेस है। लेकिन, हम लड़कियों को ही इस पर आवाज उठानी चाहिए, बात करनी चाहिए।" 

padman actress sonam kapooro n gender biasness inside

पापा अनिल कपूर ने दी है सोनम को हर चीज़ की छूट

सोनम कपूर कहती हैं कि उन्हें उनके पापा ने तो यहां तक आजादी दे रखी है कि अगर मैं न चाहूं तो मैं शादी नहीं भी कर सकती हूं, जिससे चाहूं शादी कर सकती हूं, जो चाहे हर तरह की बातें कर सकती हूँ अपने पापा से। सोनम कहती हैं कि अनिल कपूर को तो तीसरा बच्चा भी लड़की ही चाहिए थी। चूंकि उन्हें बेटियों से बहुत लगाव है। सोनम कहती हैं कि डायनिंग टेबल पर भी हम हर तरह की बात करते हैं और यही वजह है कि हमारे बीच विचारों का आदान प्रदान है। आपको बता दें कि सोनम के घर में उनके भाई-बहनों में सबसे अधिक उनकी ही चलती है।  क्योंकि, वह सबसे बड़ी हैं, हर बात में उनकी राय ली जाती हैं।

padman actress sonam kapooro n gender biasness inside

अपनी आयडेंडिटी को हमेशा साथ लेकर चलेंगी सोनम

सोनम कपूर कहती हैं कि मैं वही स्वंतत्रता अपनी प्रोफेशनल लाइफ में भी रखना चाहती हूं। इसलिए जो भी लगता है, उसके बारे में खुल कर बातें करती हूं। सोनम का मानना है कि हर लड़की को ऐसा होना भी चाहिए। तभी आप खुद को बराबरी का दर्जा दिला पायेंगे। किसी से दबने या किसी की बेवजह की बातें सुनने की कोई ज़रूरत नहीं है। सोनम कहती हैं कि मैंने कभी परिणामों की परवाह नहीं की है। इसलिए अपने स्कूल के वक्त भी मुझमें लीडरशीप क्वालिटी रही थी। यही वजह है कि मैं अवार्ड को भी लाइफ में खास तवज्जो नहीं देती हूं। यही वजह है कि मैंने अपनी जर्नी में हर दिन को जिया है और उसी अंदाज में आगे भी बढ़ना चाहती हूं। मैं अपने मन लायक काम करती रहूंगी और अपनी आइडेंटिटी को साथ रख कर ही काम करूंगी। 

Read More: अब भी बॉलीवुड के लिए महिलाएं 'Eye Candy' से ज्यादा कुछ नहीं

मां सुनीता कपूर ने बच्चों पर ज़िन्दगी कुर्बान की है

सोनम कपूर व्यक्तिगत तौर पर फन लविंग हैं और अपनी मम्मी की फैन हैं। वह कहती हैं कि अगर उनकी मॉम नहीं रहतीं, तो वह इतनी समझदार नहीं बन पातीं। उनकी मम्मी सुनीता कपूर ने पूरी जिंदगी बच्चों पर कुर्बान कर दी है चूंकि, जब अनिल घर पर नहीं होत तब सुनीता ही उनका ख्याल रखती थीं। उनकी हर जरूरत को पूरा करती थी। खास बात यह भी है कि सुनीता को लाइमलाइट में रहना बिल्कुल पसंद नहीं है। सोनम अपनी मां से यही सीखना चाहती हैं कि उनकी मम्मी ने हमेशा परिवार को तवज्जो दिया है। सोनम कहती हैं कि वह सेंसिटिव हैं, अपने दोस्तों और परिवार को लेकर और यह इमोशन उन्हें अपनी मम्मी से ही मिले हैं। 

 

Read More: ‘Inequality in pay’ पर कंगना से लेकर इंदिरा नुई तक ने उठाई आवाज