कुछ समय पहले तक यह समझा जाता था कि स्ट्रेस केवल बड़ों की जिन्दगी का ही एक हिस्सा है। लेकिन वर्तमान में स्थिति काफी बदल चुकी है। तनाव अब बड़ों के अलावा छोटे बच्चों यहां तक कि टीनेजर्स की जिन्दगी में भी पसर चुका है। हालांकि इसके बारे में कई बार पैरेंट्स को पता ही नहीं चलता। वैसे तो स्ट्रेस को हैंडल करना किसी के लिए भी बेहद मुश्किल होता है। लेकिन किशोरावस्था में अक्सर बच्चे इस तनाव के चलते कुछ गलत कदम भी उठा लेते हैं। ऐसे में यह पैरेंट्स की जिम्मेदारी है कि वह बच्चों के बढ़ते तनाव पर नजर रखें और उसे कम करने के लिए हरसंभव प्रयास करें। हो सकता है कि आपका बच्चा भी तनाव में हो। उसकी इस स्थिति को समझने के लिए आप कुछ संकेतों को समझ सकती हैं। दरअसल, जब बच्चे तनाव में होते हैं तो उनके लक्षण साफतौर पर नजर आते हैं, बस जरूरत है कि पैरेंट्स उन लक्षणों को समझें। तो चलिए आज हम आपको उन संकेतों के बारे में बता रहे हैं, जो अक्सर टीनेजर्स के स्ट्रेस में होने पर नजर आते हैं-

सिरदर्द और पेट दर्द

 stress inside

जब एक टीनेजर तनाव में होता है तो उसे अक्सर सिरदर्द व पेट दर्द की शिकायत होती है। दरअसल, उसके मन के तनाव का विपरीत असर उसकी सेहत पर पड़ता है और पैरेंट्स उसे समझ ही नहीं पाते। अगर आपकी लाडली को भी यह समस्या बार-बार होती है तो उसे नजरअंदाज ना करें।

नींद से जुड़ी समस्याएं

 stress inside

किशोरावस्था में तनाव होने पर बच्चों में नींद से जुड़ी समस्याएं देखने को मिलती हैं। हो सकता है कि वह रात को बिस्तर पर लेटी रहे और उसे नींद ही ना आए। ऐसा अक्सर टेंशन की वजह से होता है। इसके अलावा यह भी हो सकता है कि वह हर वक्त सोना चाहे ताकि वह तनाव को खुद से कुछ वक्त के लिए दूर रख सके। वह तनाव को हैंडल नहीं कर सकते और ऐसे में वह सोकर अपने तनाव से दूर भागना चाहते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: साड़ी ही नहीं कांजीवरम स्नीकर्स भी पहनती हैं ऊषा उत्थुप, जानिए उनके बारे में कुछ फैक्ट्स

पढ़ाई में परेशानी

 stress inside

अगर आपकी लाडली के ग्रेड दिन ब दिन गिरते जा रहे हैं और पढ़ाई में उसकी परफार्मेंस खराब होती जा रही हैं तो इसके पीछे का एक मुख्य कारण तनाव भी होता है। अमूमन, बहुत अधिक तनाव का असर उनकी पढ़ाई पर पड़ता है। हरवक्त होने वाली चिंता के कारण बच्चों का मन पढ़ाई में नहीं लगता और फिर वह खराब रिजल्ट के रूप में सामने आता है।

इसे जरूर पढ़ें: बॉलीवुड की ये 10 एक्ट्रेसेस 35 साल की उम्र के बाद बनीं मां

चिड़चिड़ापन

 stress inside

आमतौर पर, टीनेज में बच्चे थोड़े मूडी होते हैं, लेकिन अगर वह तनावग्रस्त हैं तो इससे वह अधिक चिड़चिड़े बना जाते हैं। वे आसानी से किसी भी चीज़ को लेकर गुस्सा हो जाते हैं या रोने लगते हैं। किसी भी छोटी सी स्थिति को संभाल नहीं पाते हैं।

Recommended Video

ध्यान ना लगा पाना

 stress inside

जब एक टीनेजर तनावग्रस्त होता है तो उसके लिए किसी भी चीज पर पूरी तरह से ध्यान लगा पाना बेहद ही मुश्किल हो जाता है। यहां बात सिर्फ उनकी पढ़ाई की ही नहीं है, बल्कि वह अन्य चीजों को लेकर भी ध्यान केन्द्रित नहीं कर पाते। जिसके कारण कई बार चोटिल हो जाते हैं या फिर खुद को नुकसान भी पहुंचा लेते हैं। इसलिए उनके इन लक्षणों को बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik