हिंदू धर्म में शादी से पहले लड़का और लड़की की कुंडली मिलाने का रिवाज है। कुंडली मिलाते वक्त राशि और गुणों के मिलान के साथ-साथ यह भी देखा जाता है कि कहीं लड़का या लड़की में कोई मांगलिक तो नहीं है। दरअसल, ऐसा कहा जाता है कि अगर शादी से पहले मांगलिक दोष का निवारण न किया जाए तो शादी में अड़चन आती है और शादी के बाद भी लड़का और लड़की का दांपत्य जीवन सुखद नहीं होता है। 

कुछ लोग तो यह भी मानते हैं कि मांगलिक लोगों के जीवनसाथी को भी मांगलिक होना चाहिए। मगर भोपाल के ज्योतिषाचार्य एवं हस्तरेखार्विंद विशेषज्ञ शास्त्री विनोद सोनी पोद्दार इसे केवल एक मिथ बताते हैं। वह कहते हैं, 'कुंडली में मंगल दोष सदैव नहीं बना रहता है। यदि इस दोष को दूर करने के कुछ आसान उपाय कर लिए जाएं, मंगल शांत हो जाता है। ऐसा करने पर शादी के बाद जीवन सुखद रहता है।'

पंडित जी उन जातकों के लिए कुछ आसान उपाय भी बताते हैं, जिनकी मंगल दोष होने के कारण शादी नहीं हो पा रही है। 

इसे जरूर पढ़ें: Astro Tips: सुखी दांपत्य जीवन के 7 अचूक उपाय, पंडित जी से जानें

mangal  dosh  upay  for  female

शादी से पहले करें ये काम-  

आपने इस बारे में कई बार सुना होगा कि मांगलिक लड़की का विवाह किसी पेड़ या जानवर से करा दिया जाता है। हालांकि, शास्त्रों में पेड़ से विवाह की बात का जिक्र जरूर मिलता है, मगर किसी जानवर से इंसान का विवाह अनुचित है। इस विषय में पंडित जी कहते हैं, 'शास्त्रों में लड़कियों के अश्वत्थ विवाह, विष्णु प्रतिमा विवाह और कुंभ विवाह के बारे में बताया गया है। इन तीनों में किसी एक से विवाह पूर्व विवाह कर लेने पर मंगल दोष खत्म हो जाता है।' चलिए विवाह के इन तरीकों के बारे में विस्तार से जानते हैं। 

1. अश्वत्थ विवाह 

इस विवाह विधि में पीपल के वृक्ष ('पीपल के पेड़' की परिक्रमा करने के लाभ) से कन्‍या का विवाह कर दिया जाता है। पंडित जी कहते हैं, 'गीता में पीपल के वृक्ष को सबसे से श्रेष्‍ठ माना गया है क्‍योंकि इसमें हरी विष्णु और देवी लक्ष्मी का वास होता है। कन्या का यदि पीपल के वृक्ष से विवाह करा दिया जाए, तो उस पर से मंगल दोष टल जाता है।' पंडित जी यह भी कहते हैं कि जो लोग केले और तुलसी के पौधे से कन्‍या का विवाह करवा देते हैं, उसे उचित नहीं माना जाता है। अगर आप पीपल के वृक्ष के पास जा कर विवाह नहीं करवा पा रहे हैं तो पीपल की डाल घर ला कर उससे कन्‍या का विवाह करवा सकते हैं। 

2. विष्णु प्रतिमा विवाह

अगर आप भगवान विष्णु की प्रतिमा से कन्‍या का विवाह करवाते हैं, तो ऐसा करने पर मंगल दोष खत्म हो जाता है। पंडित जी कहते हैं, 'मंगल दोष के निवारण के लिए श्री विष्णु जी की सोने की प्रतिमा से कन्‍या का विवाह कराना सबसे लाभकारी होता है।'

इसे जरूर पढ़ें: Astro Tips: शादी में आ रही अड़चन दूर करने के उपाय, पंडित जी से जानें

mangal  dosh  nivaran  mantra

3. कुंभ विवाह 

कुंभ विवाह अर्थात कलश से विवाह। कलश को भी भगवान विष्णु का ही रूप माना गया है। यदि कन्या मांगलिक है, तो आप उसका कुंभ विवाह करवा कर मंगल दोष (मंगल दोष दूर करने के उपाय) को दूर कर सकते हैं। 

यदि लड़का हो मांगलिक तो क्या करें- 

यह भ्रांति है कि केवल लड़की ही मांगलिक होती है। लड़के की कुंडली में भी मंगल दोष हो सकता है, जो कन्या के जीवन पर भारी पड़ सकता है। ऐसे में लड़कों का अर्क विवाह कराया जाता है। पंडित जी बताते हैं, 'अर्क के वृक्ष से लड़के का विवाह हमेशा हस्‍त नक्षत्र में करवाना चाहिए। ऐसा करने पर उस पर से मंगल दोष खत्म हो जाता है।'

गणपति पूजा 

लड़का हो या लड़की, मांगलिक होने पर जो भी रोज गणपति जी की आराधना करता है तो मंगल दोष से उसे मुक्ति मिल जाती है। पंडित जी कहते हैं, 'सबसे अच्छा फल तब मिलता है, जब आप केसरिया गणपति जी की पूजा करते हैं।'

hanuman chalisa for mangal dosh

हनुमान चालीसा का पाठ 

हनुमान चालीसा का पाठ करने पर आप केवल निडर ही नहीं बनते बल्कि ऐसा करने पर आपकी शादी में आ रही अड़चन भी दूर हो जाती है। पंडित जी कहते हैं कि हर मंगलवार यदि हनुमान जी की पूजा और चालीसा का पाठ किया जाए, तो मंगल दोष दूर हो जाता है। इसके साथ ही आपको हर दिन 21 बार महामृत्युंजय मंत्र का जाप भी करना चाहिए। 

मंगल भात पूजा 

मांगलिक जातकों को विवाह से पूर्व भात पूजा जरूर करवा लेनी चाहिए। यह पूजा चावल से होती है। यह पूजा शिवलिंग रूपी मंगल देव की होती है। पंडित जी कहते हैं, 'भात पूजा वैसे तो कहीं भी कराई जा सकती है, मगर यदि यह पूजा मंगल देव की जन्मस्थली उज्जैन में बने उनके मंदिर में होती है, तो यह ज्यादा असरदार होती है।'

Recommended Video

मांगलिक दोष से मुक्ति पाने के मंत्र- 

पंडित जी बताते हैं, 'मंगल दोष से मुक्ति पाने के वैसे तो 108 मंत्र हैं। मगर इनमें से यदि आप नियमित 21 पवित्र मंत्रों का जाप कर लें तो मंगल दोष से छुटकारा पा सकते हैं।' ये मंत्र इस प्रकार हैं। 

1. ॐ मंगलाय नम:

2. ॐ भूमि पुत्राय नम:

3. ॐ ऋण हर्वे नम:

4. ॐ धनदाय नम:

5. ॐ सिद्ध मंगलाय नम:

6. ॐ महाकालाय नम:

7. ॐ सर्वकर्म विरोधकाय नम:

8. ॐ लोहिताय नम:

9. ॐ लोहितगाय नम:

10. ॐ सुहागानां कृपा कराय नम:

11. ॐ धरात्मजाय नम:

12. ॐ कुजाय नम:

13. ॐ रक्ताय नम:

14. ॐ भूमि पुत्राय नम:

15. ॐ भूमिदाय नम:

16. ॐ अंगारकाय नम:

17. ॐ यमाय नम:

18. ॐ सर्व रोग प्रहार नम:

19. ॐ सृष्टिकर्ता नम:

20. ॐ प्रहर्त्रे नम:

21. ॐ सर्वकाम फलदाय नम:।

मंगल दोष को दूर करने के यह आसान उपाय आप भी एक बार जरूर आजमाएं। इसी तरह ज्‍योतिष शास्‍त्र से जुड़े और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।