Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    पिंक से लेकर थप्पड़ तक समाज में महिलाओं की ताकत को दर्शाती हैं ये फिल्में

    आज हम आपको कुछ ऐसी फिल्मों के बारे में बताएंगे जिसमें महिलाओं की क्षमता और ताकत को दुनिया के सामने पेश किया गया है। 
    author-profile
    Updated at - 2023-01-23,15:39 IST
    Next
    Article
    movies which shows women empowerment

    कभी मां तो कभी बड़ी बहन बन कर दुनिया में हर स्री अपना एक अहम किरदार निभाती है। आज महिलाएं हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं और देश का नाम भी रोशन कर रही हैं। महिलाओं की इस क्षमता को बॉलीवुड फिल्मों में भी दर्शाया गया है। तो चलिए जानते हैं उन सभी फिल्मों के बारे में जिसमें महिलाओं की ताकत को हमारे समाज के सामने रखा है। 

    थप्पड़

    thappad movie

    इस फिल्म में घरेलू हिंसा के विषय को समाज में उजागर किया गया है इसके साथ-साथ यह भी दिखाया गया है कि किस तरह से फिल्म में एक ऐसी महिला अपने हक के लिए खड़ी होती है। यह फिल्म महिलाओं के लिए सामाजिक हीनता को दिखाती है और रूढ़िवाद सोच रखने वाले लोगों के ऊपर एक तमाचा भी है।

    फिल्म में तापसे पन्नू ने बहुत शानदार एक्टिंग की है इस फिल्म के दर्शकों ने भी इस तरह के संवेदनशील विषय को उठाने के लिए उनके साहस को खूब सराहना दी है। यह फिल्म इस बात पर कड़ा संदेश देती हैं कि घरेलू हिंसा का सामना करने वाली महिलाओं को अपनी आवाज कैसे उठानी चाहिए।

    पिंक

    pink movie

    यह फिल्म यह दर्शाती है कि एक महिला की अगर किसी चीज में रजामंदी नहीं तो इसमें किसी तरह की जबरदस्ती नहीं होनी चाहिए। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह क्या कपड़े पहनती हैं या वह किस की लाइफ स्टाइल को अपनाती है लेकिन उन्हें उनकी मर्जी के खिलाफ कुछ भी करने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है।(असल जिंदगी और सच्ची घटनाओं पर आधारित हैं बॉलीवुड की ये फिल्में, आप भी जानें)

    इस फिल्म ने असल में 'ना' शब्द का मतलब लोगों को समझाया है और यह भी दिखाया है कि कैसे एक एडवोकेट परिवार के बिगड़े लड़कों के खिलाफ कानूनी लड़ाई में फंसी लड़कियों के लिए लड़ता है और उन्हें जीत दिलाता है। 

    छपाक

    मेघना गुलज़ार की तरफ से डायरेक्ट की गई इस फिल्म में एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल की जिंदगी और उनकी जीत को दिखाया गया है। फिल्म में दर्शाया गया है कि कैसे एक एसिड अटैक सर्वाइवर महिला अपने चेहरे को लेकर समाज के सामने आती है और अपनी लड़ाई में एसिड की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने में कामयाब होती है।

    यह फिल्म उन सभी लड़कों के मुंह पर तमाचा है जो एसिड अटैक जैसी घटना को अंजाम देते हैं और यह सोचते हैं कि इससे वह लड़की के पूरे जीवन को खत्म कर देंगे। 

    इसे जरूर पढ़ें-ये हैं बॉलीवुड की 10 ऑल टाइम बेस्ट फिल्में, जिन्हें आपको एक बार जरूर देखना चाहिए

    आर्टिकल 15

    इस फिल्‍म में आयुष्मान खुराना को पुलिस ऑफिसर के किरदार में दिखाया गया है। फिल्म में दलित समाज के साथ हो रहे अन्याय को भी दर्शाया गया है। आपको बता दें कि फिल्म में गांव से तीन दलित बच्चियां लापता हो जाती हैं और कुछ समय बाद तीन में से दो बच्चियों की लाश पेड़ से लटकी पाई जाती है।

    पुलिस की पूछताछ में सामने आता है कि एक वर्ग उनकी औकात दिखाने के लिए ना केवल उनकी बच्चियों के साथ सामूहिक बलात्कार करता है बल्कि मारकर पेड़ से लटका भी देता है। इस फिल्म में महिलाओं के साथ हुए अन्याय को समाज के सामने रखने की कोशिश की गई है। आपको बता दें कि इस फिल्म को दर्शकों से बहुत अधिक सम्मान मिला था क्योंकि आज भी हमारे समाज में ऐसी घटनाएं देखने को मिलती हैं। 

    इसे जरूर पढ़ें-बॉलीवुड की कई फिल्मों में नकली लोकेशन दिखा दर्शकों को बनाया गया बेवकूफ, जानें

    नो वन किल्ड जेसिका

    फिल्म की कहानी में दिखाया गया है कि एक पार्टी में ड्रिंक सर्व करने वाली महिला जेसिका लाल को गोली मार दी जाती है क्योंकि वह सिर्फ एक मंत्री के बेटे को बार बंद होने के बाद ड्रिंक सर्व करने से मना कर देती है। लेकिन बाद में उसकी बहन समाज के ताकतवर लोगों के खिलाफ अपनी बहन को न्याय दिलाने की कोशिश करती है। यह फिल्म महिलाओं की ताकत को सभी के सामने रखने में कामयाब भी हुई थी। 

    नीरजा

    हाल ही में महिलाओं के साथ फ्लाइट में कई लोग फ्लाइट असिस्टेंट के साथ बुरा बर्ताव करते हुए नजर आ रहे हैं। आपको बता दें कि नीरजा भनोट पर आधारित इस फिल्म में यह दिखाया गया है कि कैसे एक फ्लाइट असिस्टेंट अपनी परवाह किए बिना एक अपहरण किए गए प्लेन में सैकड़ों यात्रियों को सुरक्षित बचाया था।(Double XL: 5 पॉइंट में समझिए बॉडी शेमिंग को ठेंगा दिखाती इस फिल्म में क्या है खास)

    यह फिल्म महिलाओं की उस ताकत की बात करती है जिसे अक्सर वो खुद ही नहीं समझ पाती हैं। इस फिल्म ने भी दर्शकों की खूब वाहवाही भी लूटी थी। आपको बता दें कि इस फिल्म में सोनम कपूर ने मेन रोल निभाया था जिसके लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला था। 

    तो ये थी वो सभी फिल्में जो महिलाओं को साथ हुए अन्याय के साथ-साथ महिलाओं की ताकत को भी दर्शाती हैं। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

     

    image credit- instagram/youtube 

     

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।