Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    अगहन माह में लड्डू गोपाल की पूजा के नियम

    श्री कृष्‍ण का विशेष फल प्राप्‍त करने के लिए आप भी अगहन माह में लड्डू गोपाल की विशेष विधि से पूजा कर सकती हैं। 
    author-profile
    Updated at - 2022-11-16,19:11 IST
    Next
    Article
    laddu gopal dress designs new picture

    श्री हरि विष्णु का स्वरूप माने जाने वाले श्री कृष्ण के लिए हर माह ही खास होता है। हर माह भगवान विष्णु से जुड़ा कोई तीज-त्‍योहार आ जाता है। अगहन माह भी 9 नवंबर 2022 से शुरू हो चुका है। यह माह भी श्री कृष्ण के लिए बेहद विशेष होता है और इस माह में लड्डू गोपाल की पूजा की जाती है। 

    हमने इस विषय में उज्जैन के पंडित एवं ज्योतिषाचार्य मनीष शर्मा जी से बात की। वह कहते हैं, 'इस माह जो श्री कृष्ण की पूजा करता है, उसे वे प्राप्‍त हो जाते हैं। इसलिए इस माह लड्डू गोपाल की पूजा के भी कुछ विशेष नियम होते हैं।' 

    इसे जरूर पढ़ें- 5 मंत्रों के उच्चारण से करें कान्हा को खुश

    kartik month laddu gopal puja rules new

    अगहन मास का महत्व जानें 

    अगहन माह को मार्गशीर्ष माह भी कहा जाता है। हिंदू शास्त्रों में यह माह बहुत ही पवित्र माना गया है। ऐसी मान्‍यता है कि यह वह माह है जब सतयुग आरंभ हुआ था। यह महीना भगवान श्रीकृष्ण को भी अति प्रिय है। इस माह में हर घर में जहां श्री कृष्ण का लड्डू गोपाल स्वरूप विराजमान होता है, वहां विशेष पूजा होती है। 

    अगहन मास श्रीकृष्ण को क्‍यों है अति प्रिय? 

    भगवान श्रीकृष्ण ने इस माह के विषय में गीता में भी बात की है। उन्होंने यह भी कहा है कि, जो लोग मुझे पाना चाहते हैं, वह इस माह मेरे लिए तप करें और किसी पवित्र नदी में स्नान करके मुझे पा सकते हैं। इसलिए इस माह जो श्री कृष्ण के भक्त होते हैं, वो लड्डू गोपाल की पूजा जरूर करते हैं। 

    इसे जरूर पढ़ें- भगवान विष्णु के हैं भक्त तो दें इन 10 आसान सवालों के जवाब

    laddu gopal shringar new

    अगहन माह में लड्डू गोपाल की पूजा के विशेष नियम जानें 

    • लड्डू गोपाल की पूजा के लिए इस माह में आपको समय का विशेष ध्‍यान रखना चाहिए। इसके लिए आपको खुद पहले सूर्योदय से पूर्व किसी पवित्र नदी में स्नान करना चाहिए और फिर तांबे के लोटे से सूर्य को जल अर्पित करना चाहिए। 
    • फिर आपको लड्डू गोपाल को सुबह के स्नान और आरती के लिए घंटी बजा कर उठाना है। आप चाहें तो 7 बार ताली बजाकर भी लड्डू गोपाल को उठा सकती हैं। 
    • इसके बाद आपको किसी पवित्र नदी के जल से लड्डू गोपाल को स्नान कराना चाहिए। फिर आप लड्डू गोपाल का श्रृंगार करें और नए वस्त्र पहनाएं। 
    • इस माह लड्डू गोपाल को केसर का तिलक लगाएं। दरअसल, सर्दियों के समय में चंदन ठंडा करता है और केसर में गरमाहट होती है। 
    • लड्डू गोपाल की आरती करें और तिल एवं गुड़ का भोग जरूर लगाएं। आपको बता दें कि गर्म दूध, तिल के लड्डू, मीठे पराठे और सीजन में आने वाली सब्जी एवं फल इस वक्त आपको लड्डू गोपाल को भोग स्वरूप जरूर चढ़ाना चाहिए। 
    • इसके बाद आपको 108 बार 'कृं कृष्णाय नम: ' मंत्र का जाप भी जरूर करना चाहिए। यह जाप आप सुबह नहीं कर पाती हैं तो शाम के वक्त भी कर सकती हैं। 
    • पूजा के बाद 10 मिनट के लिए बाल गोपाल को सूर्य की किरणों में ले जाएं और फिर उन्‍हें सुला कर शाम 4 बजे दोबारा आरती करें और भोग लगाएं। फिर लड्डू गोपाल की आरती रात में 8 बजे तक करके बाल गोपाल को सुला दें। 

    उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।