कोई भी रिश्ता भावनाओं से ही जुड़ता है। जब आप किसी से मिलती हैं और उसके बारे में कुछ फील करती हैं, तभी अपने कदम आगे बढ़ाती हैं। इस तरह अगर देखा जाए तो किसी भी रिश्ते की अपनी इमोशनल नीड्स होती हैं। खासतौर से, एक कपल्स के बीच तो यह जरूरत और भी ज्यादा अहम् हो जाती है, क्योंकि वह प्यार ही होता है, जो दो लोगों को आपस में बांधकर रखता है और फिर अन्य कई चीजें मिलकर उनके रिश्ते को मजबूत बनाती हैं। जिनका रिश्ता समय के साथ इमोशनली भी ग्रो करता है, वह और भी अधिक बेहतर और खूबसूरत बनता जाता है। ऐसे कपल्स एक-दूसरे व रिश्ते की इमोशनल जरूरतों को ना सिर्फ समझते हैं, बल्कि उन्हें पूरा करने का भी प्रयास करते हैं। वे एक-दूसरे को प्यार करने के साथ-साथ अपने पार्टनर का सम्मान करते हैं, उनकी भावनाओं को सुनते व समझते हैं। इस तरह उनका रिश्ता खूबसूरत बनता है। याद रखें कि इमोशनल जरूरत सिर्फ वह नहीं है, जो आप अपने पार्टनर से चाहती हैं, बल्कि वह है जो आप दोनों एक-दूसरे को देते हैं। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसी ही Emotional Needs के बारे में बता रहे हैं, जो एक कपल के रिश्ते को बेहतर बनाने में मदद करता है-

विश्वास

 relationship inside

यह एक ऐसी इमोशनल जरूरत है, जिसकी जरूरत हर रिश्ते में होनी बेहद आवश्यक है। विश्वास रिश्ते में यूं ही पैदा नहीं होता, बल्कि आपका व्यवहार इसके लिए जिम्मेदार होता है। मसलन, अगर आप अपने पार्टनर से प्यार करती हैं, लेकिन उनसे छोटी-छोटी बातों पर झूठ बोलती हैं तो वह कभी भी आप पर विश्वास नहीं कर पाएंगे। ऐसे में आप दोनों के बीच भले ही कितना भी प्यार हो, लेकिन आपका रिश्ता कभी भी मजबूत नहीं हो सकता और ना ही आपके रिश्ते में वह पारदर्शिता हो सकती है।

इसे जरूर पढ़ें: किचन की पुरानी ट्रे को एक नया लुक देने के लिए यहां से लें आईडियाज

भावनात्मक सुरक्षा

 relationship inside

इसकी जरूरत उन जोड़ों को अधिक होती है, जिन्होंने अपने अतीत में किसी तरह का बुरा एक्सपीरियंस किया हो। ऐसे में उनके मन में हमेशा एक डर बना ही रहता है। इस स्थिति में यह उनके पार्टनर की जिम्मेदारी बनती है कि अपने साथी के मन के इस डर को दूर करें और रिश्ते में एक भरोसा कायम करें। जिन कपल्स के बीच भावनात्मक असुरक्षा होती है, वहां पर साथी एक-दूसरे पर छोटी-छोटी बातों पर शक करते हैं और फिर उनका रिश्ता बर्बाद होते देर नहीं लगती।

इसे जरूर पढ़ें: डेस्टिनेशन वेडिंग को बनाना चाहती हैं खास तो इन बातों का जरूर रखें ध्यान

Recommended Video

पावर

 relationship inside

कई बार ऐसा देखने में आता है कि कपल्स में कोई एक सारी पावर अपने पास ही रखना चाहता है। ऐसे रिश्ते कभी भी डेवलप नहीं हो पाते। रिलेशनशिप का अर्थ है कि दोनों पार्टनर के बीच पावर बैलेंसिंग हों। एक पार्टनर के मन में यह फीलिंग होनी चाहिए कि उनके रिश्ते में किसी भी मुद्दे पर उनका पार्टनर अकेला फैसला नहीं करेगा। उनके मत की भी उतनी ही वैल्यू है। ऐसे में ना सिर्फ आपकी विश्वास बिल्ड अप होता है, बल्कि इससे एक-दूसरे के प्रति सम्मान की भावना भी पैदा होती है। इतना ही नहीं, जब एक रिलेशन में पावर बैलेंसिंग होती है तो कम्युनिकेशन भी बेहतर होता है, क्योंकि ऐसे कपल्स किसी भी मुद्दे पर बातचीत करने और आपसी सहमति के बाद ही कोई फैसला लेते हैं।

वैसे इन इमोशनल जरूरतों के अलावा इंटिमेंसी, एक-दूसरे को अंटेशन देना, कंपेनियनशिप, कमिटमेंट व एक-दूसरे की प्राइवेसी को सम्मान देना भी कुछ ऐसी जरूरते हैं, जिन्हें एक रिश्ते में पूरा किया जाना बेहद आवश्यक है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik