• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

जून 2022 का फेस्टिवल कैलेंडर देखें

इस माह आने वाले प्रमुख त्योहारों की जानकारी के लिए पढ़ें ये आर्टिकल। 
Published -31 May 2022, 17:51 ISTUpdated -31 May 2022, 18:01 IST
author-profile
  • Anuradha Gupta
  • Editorial
  • Published -31 May 2022, 17:51 ISTUpdated -31 May 2022, 18:01 IST
Next
Article
june festivals calendar

वर्ष के 12 महीनों में हर माह हिंदुओं के कई पर्व आते हैं। हर माह अलग तीज-त्योहार मनाए जाते हैं और हर किसी का महत्‍व भी अलग होता है। साल का 6वां महीना जून शुरू हो चुका है। इस माह भी कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार आने वाले हैं। इस माह सबसे बड़ा पर्व गंगा दशहरा है, जिसे पूरे देशभर में धूमधाम से मनाया जाता है। इसके साथ ही निर्जला एकादशी, योगिनी एकादशी, प्रदोष व्रत और दर्श अमावस्या भी इस माह पड़ेगी। इन सभी पर्व का अपना अलग-अलग महत्व है, अगर आप भी इन त्योहारों के महत्व, तिथि और शुभ मुहूर्त जानने के लिए आप यह आर्टिकल पढ़ें। 

इसे जरूर पढ़ें- जानें निर्जला एकादशी का महत्त्व

जून के प्रमुख त्योहारों की लिस्ट 

  1. रंभा तृतीया - 2 जून 
  2. विनायक चतुर्थी- 3 जून और 17 जून 
  3. गंगा दशहरा- 9 जून 
  4. निर्जला एकादशी- 11 जून 
  5. प्रदोष व्रत- 12 जून, रविवार 
  6. कबीर जयंती, वट सावित्री व्रत- 14 जून 
  7. योगिनी एकादशी- 24 जून
  8. मासिक शिवरात्रि व्रत- 27 जून 
  9. दर्श अमावस्या- 29 जून 
June Holidays

रंभा तृतीया 

ज्‍येष्‍ठ माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को पड़ने वाला यह पर्व खास कुंवारी कन्याओं के लिए होता है। यह जून माह का सबसे पहला पर्व है। इस दिन कन्‍याएं और महिलाएं सोलह श्रृंगार करके शिव-पार्वती और देवी लक्ष्‍मी की पूजा करती हैं। मान्‍यता है कि इस दिन यदि आप अप्सरा रंभा को महिलाएं याद करती हैं और उसके विभिन्‍न नामों को दोहराती हैं, तो उनके जीवन में प्रेम आता है। 

शुभ मुहूर्त- 1 जून बुधवार की रात में 09 बजकर 47 मिनट से शुरू होकर 3 जून शुक्रवार की रात 12 बजकर 17 मिनट पर  समाप्त होगा 

गंगा दशहरा

गंगा दशहरा का पर्व हर वर्ष दशमी तिथि के दिन मनाया जाता है। इसे पूरे देशभर में मनाया जाता है। ऐसी मान्‍यता है कि राजा भगीरथ की विशेष तपस्या के बाद इस दिन देवी गंगा पृथ्वी लोक में आई थीं। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन जो भी गंगा नदी में स्नान करता है उसके 10 जन्मों के पाप खत्म हो जाते हैं। 

शुभ मुहूर्त - 9 जून 2022, बृहस्पतिवार के दिन प्रातः 8:21 से 10 जून, शुक्रवार, शाम 7:25 बजे तक बनाया जाएगा। 

इसे जरूर पढ़ें- शुक्रवार को वैभव लक्ष्‍मी व्रत रखने के फायदे और विधि पंडित जी से जानें

hindu festivals in june

वट सावित्री व्रत

वट सावित्री का व्रत वर्ष में दो बार मनाया जाता है। पहला वट सावित्री ज्‍येष्‍ठ माह की अमावस्या और दूसरा ज्‍येष्‍ठ माह की पूर्णिमा को होता है। इस वर्ष 30 मई को अमावस्या वाला वट सावित्री मनाया जा चुका है और अब 14 जून को पूर्णिमा वाला वट सावित्री पर्व मनाया जाएगा। यह महिलाओं का पर्व है और इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए यह व्रत रखती हैं।

दर्श अमावस्या

दर्श अमावस्या के दिन पूर्वजों की पूजा की जाती है। दर्श अमावस्या के दिन चंद्र देव की पूजा भी की जाती है। कई लोग इस दिन चंद्र देव के लिए उपवास भी रखते हैं और अपनी मनोकामना पूरी करने की प्रार्थना करते हैं। 

 

तीज-त्योहारों से जुड़ी यह जानकारी आपको पसंद आई हो तो इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करें। आप भी इन सभी पर्व को धूम-धाम से मनाएं और इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।  

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।