श्री कृष्ण का स्वरूप पूर्ण विश्व में सबसे ज़्यादा लोकप्रिय माना जाता है है।हर देश और प्रांत के लोग वासुदेव की भक्ति में लीन रहते है। खासतौर पर जन्माष्टमी के त्योहार को श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है और कान्हा की मनमोहक छवि सभी के दिल को छू लेती है यही कारण है कि श्री कृष्ण भक्त पूरे वर्ष जन्माष्टमी तिथि का दिल से इंतज़ार करते हैं। मान्यताओं के अनुसार ये त्योहार भगवान विष्णु के आठवें अवतार श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है।

श्री कृष्ण का जन्म मथुरा में भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मध्यरात्रि में रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। इस तिथि को भगवान कृष्ण के जन्‍मोत्‍सव के रूप में मनाया जाता है और इसे जन्‍माष्‍टमी कहा जाता है। आइए जानी मानी एस्ट्रोलॉजर और वास्तु स्पेशलिस्ट डॉ आरती दहिया जी से जानें साल 2021 में कब मनाया जाएगा जन्माष्टमी का त्योहार, पूजा का शुभ मुहूर्त और राशियों के अनुसार पूजा की विधि।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी तिथि

janmashtami tithi

  • इस साल जन्माष्टमी 30 अगस्त 2021, सोमवार भादो महीने की अष्टमी तिथि को मनाया जाएगा।
  • अष्टमी तिथि की शुरुआत : 29 अगस्त 11:24 रात्रि से
  • अष्टमी तिथि की समाप्ति : 31 अगस्त 01:59 सुबह तक

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2021 पूजा का मुहूर्त

  • 30 अगस्त को 11:59 रात्रि  से 12:44 सुबह तक
  • कृत्तिका नक्षत्र : 29 अगस्त 03:35 सुबह  से 30 अगस्त  6:39 सुबह तक
  • रोहिणी नक्षत्र : 30 अगस्त को 6:39 सुबह  से 31 अगस्त 09:44 सुबह तक

जन्माष्टमी व्रत पूजा विधि

laddu gopal puja

आरती दहिया जी बताती हैं की इस व्रत को बहुत से भक्त निर्जला रखते हैं और मध्य रात्रि में भगवान के जन्म के बाद जल और फल ग्रहण करते हैं। वहीं कुछ लोग फलाहारी व्रत रखते हैं लेकिन पूजा विधि के नियम सभी के लिए एक जैसे होते हैं। अष्टमी तिथि के दिन सुबह स्नान ध्यान करके बाल गोपाल की पूजा करें और व्रत का संकल्प करें।

इसे जरूर पढ़ें:इस विधि से लगाएं लड्डू गोपाल को भोग, मिलेंगे अद्भुत फल

व्रत नियम

  • सुबह सवेरे स्नान करके शुद्ध हो जाएं और लड्डू गोपाल को बालक की तरह स्नान कराएं।
  • लड्डू गोपाल को पूर्ण श्रृंगार चढ़ाएं और उन्हें सुसज्जित करें।
  • लड्डू गोपाल को चंदन का तिलक लगाएं और फूल और प्रसाद अर्पित करें।  
  • भगवान के समक्ष बैठकर व्रत का संकल्प लें और व्रत को पूर्ण निष्ठा से शुरू करें।
  • रात्रि को पूर्ण 12 बजे श्री कृष्ण की आरती करें और चरणामृत और आटे की पंजीरी का भोग लगाएं।
  • भोग अर्पित करके अपना व्रत खोलें और भोग ग्रहण करें।

श्री कृष्ण का विशेष मंत्र

गोकुल नाथाय नमः

यदि आप इस मंत्र का 108 बार जाप करते हैं तो आपके घर में सुख समृद्धि का आगमन होगा।

सभी राशियों को फलीभूत होने वाली पूजा विधि

zodiac sign remedies for janmashtmi

मेष राशि

मेष राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर लड्डू गोपाल को हल्दी से स्नान कराके चने की दाल की खिचड़ी का भोग लगाएं तो  विशेष लाभ की प्राप्ति होगी।

वृषभ राशि

वृषभ राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर अपनी पूर्वजों का ध्यान से पूजन शुरू करें और किसी मंदिर में भगवान कृष्ण के समक्ष चने की दाल चढ़ाएं तो विशेष लाभ की प्राप्ति होगी।

मिथुन राशि

मिथुन राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर भगवान वासुदेव को केसर मिश्रित जल से स्नान कराएं और साथ में साबुत  हल्दी की कुछ गांठें चढ़ाएं तो विशेष लाभ की प्राप्ति होगी।

कर्क राशि

कर्क राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण को चरणामृत से स्नान कराएं और बेसन के हलवे का भोग लगाएं तो ये लाभदायक साबित होगा।

सिंह राशि

सिंह राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण को दूध से स्नान कराएं और नारियल के लड्डू का भोग लगाएं तो जीवन आनंदित रहेगा।

कन्या राशि

कन्या राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर लड्डू गोपाल को गंगाजल से स्नान कराएंगे और माखन मिश्री का भोग लगाएं तो जीवन प्रगतिशील होगा।

तुला राशि

तुला राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर श्रीकृष्ण को गुलाब जल से स्नान कराएं और पीले धागे की माला अर्पित करेंगे तो अत्यधिक लाभदायक साबित होगा।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर श्री कृष्ण को पूरे परिवार के साथ मिलकर अभिषेक कराएंगे और बालूशाही का भोग लगाएं तो विशेष लाभ की प्राप्ति के योग बनेंगे।

Dr aarti dahiya

धनु राशि

धनु राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर लड्डू गोपाल को हल्दी से स्नान कराएं और हल्दी की माला अर्पित करके बेसन के लड्डू का भोग लगाएं तो विशेष लाभ की प्राप्ति होगी।

इसे जरूर पढ़ें:जानें सावन के महीने में कब है पुत्रदा एकादशी, पूजा का शुभ मुहूर्त और महत्व

मकर राशि

मकर राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर केशव को दही से स्नान कराएं और एक पीला झंडा अर्पित करेंगे तो ये अत्यधिक लाभकारी साबित होगा।

Recommended Video

कुंभ राशि

कुंभ राशि वाले जातक यदि श्री कृष्ण को दूध से अभिषेक कराएंगे और रबड़ी जलेबी का भोग लगाएं तो जीवन में अत्यधिक सुख सुविधाओं का आगमन होगा।

मीन राशि

मीन राशि वाले जातक यदि जन्माष्टमी पर माधव को उबटन लगाकर स्नान कराएं और मीठे चूरमे  का भोग अर्पित करें तो लाभदायक साबित होगा।

इस प्रकार जन्माष्टमी के दिन पूजन करने और नियमों का पालन करने से शुभ फलों की प्राप्ति होगी और घर की सुख समृद्धि बनी रहेगी।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik, pixabay and wallpapercave.com