अपनी आंखों से पर्दे पर बात कह जाने वाले इरफान खान अब इस दुनिया में नहीं हैं। पिछले साल 29 अप्रैल को इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। लंबे समय तक कैंसर की बीमार से जूझ रहे इरफान अपने मुश्किल दिनों से बख़ूबी लड़े, लेकिन वह हार गए। इरफान के चले जाने के बाद उनके चाहने वाले ने आज भी उन्हें अपने दिलों में ज़िंदा रखा है। मस्तमौला स्वभाव के इरफान खान अपने काम को लेकर परफ़ेक्शनिस्ट कहे जाते थे, जब तक वह किसी फ़िल्म या डायलॉग को अच्छी तरह लिखवा नहीं लेते थे तब तक वह उसे करना पसंद नहीं करते थे।

उनकी पत्नी सुतापा सिकदर के अनुसार उन्होंने एक स्क्रिप्ट को क़रीबन 11 बार रीराइट करवाया था। हालांकि रियल लाइफ़ में इरफान अपनी पत्नी को ख़ुद से ज़्यादा क्रिएटिव और टैलेंटेड मानते थे। यही नहीं सुतापा ही उनकी सबसे अच्छी दोस्त थीं। वहीं इरफान और सुतापा की लव स्टोरी दिल्ली के मंडी हाउस में स्थित नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से शुरू हुई थी, जहां दोनों शादी से पहले ही एक दूसरे को अपना हमसफ़र मान बैठे थे।

दो कमरों के घर के लिए की शादी

irrfan khan sutapa

सुतापा और इरफान की मुलाक़ात एक एक्टिंग सेशन के दौरान हुई थी। उस वक़्त इरफान जयपुर से आए थे, उन्होंने देखा कि यहां लड़कियां भी दोस्त हो सकती हैं, जिनसे दिल खोलकर बातें की जा सकती हैं। इस दौरान सुतापा उनकी दोस्त बनी, जिससे वो फ़िल्मों से लेकर अपने हर तरह के डर तक को शेयर करते थे। यहीं से दोनों की दोस्ती शुरू हुई, यही नहीं किसी चीज़ को लेकर सोचने के विचार भी इरफान खान और सुतापा एक जैसे ही होते थे। दोस्ती प्यार में बदली और साथ रहने लगे। उस वक़्त लिव-इन रिलेशनशिप के बारे में लोगों को पता भी नहीं था, लेकिन दोनों ने साथ रहने का फ़ैसला कर लिया था। फ़िलहाल दोनों का मक़सद करियर पर ध्यान देना था, लेकिन इसी बीच सुतापा प्रेग्नेंट हो गईं। ऐसे में इरफान ने सोचा कि एक कमरे का घर छोड़कर दो कमरों का घर लेना होगा, लेकिन इसके लिए वह जहां भी जाते, लोग उनसे पूछते कि क्या वह शादीशुदा हैं। इन बातों से परेशान होकर 1995 में इरफान खान और सुतापा ने कोर्ट मैरिज कर ली। 

इसे भी पढ़ें: जब शाहरुख खान और गौरी की 'Wedding Night' को खराब करने की वजह बनी थीं हेमा मालिनी 

इरफान खान की इस खूबी पर फिदा हुईं थी सुतापा

irrfan khan wife sutapa sikdar

सुतापा अपनी एक्टिंग की पढ़ाई के दौरान दोस्ती से लेकर काम तक हर चीज़ में आगे रहती थीं। उनकी दोस्ती ज़्यादातर ड्रामा स्कूल के थर्ड ईयर के स्टूडेंट्स से होती थी, लेकिन इरफान बेहद सिंपल और शर्मीले स्वभाव के थे। सुतापा सिकदर की पढ़ाई-लिखाई दिल्ली से ही हुई थी, ऐसे में उन्हें कुछ भी कहना होता तो वो बिंदास होकर बोलती थीं। इरफान को सुतापा शुरू से ही पसंद थीं, लेकिन उनकी पत्नी कॉलेज के फ्रेशर पार्टी में उनसे अट्रैक्ट हुईं । कॉलेज के दिनों में इरफान को हर चीज़ को लेकर बहुत क्यूरोसिटी होती थी, ऐसे में वह काफ़ी सवाल करते थे। लोग उनकी इस हरकत से काफ़ी इरिटेट होते थे, लेकिन सुतापा उनके इसी भोलेपन को पसंद करने लगी थीं। सुतापा अपने इंटरव्यू में बताती हैं कि इरफान काफ़ी प्योर क़िस्म के थे, जो बड़े शहरों के लड़कों में नहीं होता। वैसे अगर लड़का आप पर निर्भर रहने लगे तो अच्छा लगने लगता है। सुतापा के अनुसार समय के साथ इरफान में काफ़ी ग्रोथ हुई थी, पर वह इंप्योर नहीं हुए। वहीं एनएसडी से पासआउट होने के बाद इरफान क्लीयर थे, कि उन्हें मुंबई जाना है। हालांकि सुतापा फ़िल्मों से परे थियेटर टीचर बनना चाहती थीं। दोनों की आपसी समझ काफ़ी अच्छी थी, इसलिए एक-दूसरे को आगे बढ़ने में सपोर्ट भी करते थे।

Recommended Video

अपनी मां को पैसों से भरा सूटकेस देना चाहते थे इरफान

irrfan khan wife sutapa

इरफान अपनी मां से बहुत प्यार करते थे। उनकी यही कोशिश रहती थी कि वह कुछ ऐसा करें, जिससे उनकी मां पीठ थपथपाये, लेकिन होता उससे उलट था। मनमौजी क़िस्म के इंसान इरफान असल ज़िंदगी में काफ़ी हंसमुख थे। उनकी ख़्वाहिशें भी किरदारों की तरह अजीब हुआ करती थीं। उनकी ख़्वाहिश थी, कि वह एक दिन अपनी मां को पैसों से भरा सूटकेस दें, जैसे फ़िल्मों में दिया जाता है। आपको बता दें कि इरफान की मां का देहांत उनकी मौत से 4 दिन पहले ही हुआ था, लेकिन बीमारी और लॉकडाउन की वजह से वह उनकी अंतिम विदाई में शामिल नहीं हो पाए थे।

इसे भी पढ़ें: देश के पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्‍टर मनमोहन सिंह कोविड पॉजिटिव हो गए हैं, इन हस्तियों ने भी झेला इसका कहर

जब इरफान खान को घोषित किया गया था आतंकवादी

irrfan khan and sutapa

फ़िल्मों में एक से बढ़कर एक किरदार निभाने वाले इरफान खान ने शुरुआत में अपने लुक को लेकर काफ़ी कमेंट सुने। यही नहीं एक बार अमेरिकी एयरपोर्ट पर उन्हें आतंकवादी घोषित कर दिया गया। एयरपोर्ट का स्टाफ़ उन्हें रोककर तलाशी लेने लगा था। दरअसल उनकी शक्ल किसी आतंकवादी से मिल रही थी लेकिन जैसे ही सच्चाई सामने आई उन्हें पूरे सम्मान के साथ वापस भेज दिया गया था।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरूर शेयर करें। इस तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरज़िंदगी के साथ।