टेक्नोलॉजी ने जहां एक ओर लोगों की जिन्दगी आसान बनाई है, वहीं दूसरी ओर यह अपने साथ कई तरह की समस्याएं भी लेकर आया है। आज के समय में अधिकतर बच्चे अपना ज्यादातर समय स्क्रीन के सामने बिताना पसंद करते हैं। कभी टीवी में कार्टून देखना तो कभी वीडियो गेम्स खेलना या फिर फोन में लगे रहना उनकी आदत बन चुकी है। यहां तक कि माता-पिता भी बच्चों को बिजी रखने के लिए उनके हाथ में फोन दे देते हैं। इसमें आपको भले ही कोई बुराई नजर ना आए, लेकिन बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास पर इसका बहुत बुरा असर पड़ता है। सारा दिन स्क्रीन के सामने बैठे रहने से उनकी आंखों की रोशनी कमजोर होती है।

इसे भी पढ़ें- चाहिए बच्चों के लिए ट्रेंडी लुक? इन बॉलीवुड स्टार किड्स से लें इंस्पिरेशन

वहीं दूसरी ओर, वह फिजिकल एक्टिविटी में कोई इंटरस्ट नहीं दिखाते, जिससे उनका शारीरिक विकास भी बाधित होता है। साथ ही लंबे समय तक टीवी या फोन पर बने रहने से वह बेहद कम उम्र में उन चीजों से रूबरू हो जाते हैं, जिनसे उन्हें वास्तव में नहीं होना चाहिए। इस तरह वह उम्र से पहले ही बड़े हो जाते हैं। कई बार तो बच्चों को सारा दिन टीवी के सामने बैठे रहने की लत लग जाती है और फिर उन्हें इससे बाहर निकालना काफी मुश्किल हो जाता है।

अगर आप चाहती हैं कि आपके बच्चे को लंबे समय तक स्क्रीन के सामने बैठे रहने की आदत ना पड़े तो यह बेहद जरूरी है कि आप उनके लिए कुछ स्क्रीन टाइम रूल्स पहले से ही सुनिश्चित कर दें। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-

सेट करें टाइमर

kids screen time rules to follow

अक्सर ऐसा होता है कि जब बच्चा टीवी देख रहा होता है या फिर आई पैड आदि पर बिजी होता है और आप उसे वह बंद करने के लिए कहती हैं तो उनका यही जवाब होता है कि मम्मी बस दो मिनट और। मम्मी बस पांच मिनट। इस तरह वह काफी सारा वक्त स्क्रीन पर बिता देते हैं। ऐसे में बच्चों के स्क्रीन टाइम को लिमिटेड करने का सबसे आसान तरीका है कि आप बच्चों को गैजेट्स देने से पहले उसमें टाइमर सेट कर दें।

इस तरह अगर आपने बच्चे के लिए आधे घंटे का समय सुनिश्चित किया है तो आधे घंटे बाद वह गैजेट खुद ब खुद बंद हो जाएगा।

किड्स फ्रेंडली एप

kids screen time rules to follow ()

अगर आप बच्चे के हाथ में फोन दे रहे हैं या वह टीवी पर कुछ देख रहे हैं तो यह जरूर सुनिश्चित करें कि वह किड्स फ्रेंडली हो। अगर आपके फोन या अन्य गैजेट में कुछ ऐसा है, जिसे बच्चे को नहीं देखना चाहिए तो आप उस एप में अलग से लॉक जरूर लगाएं। 

तय करें टाइम

kids screen time rules to follow ()

आपको सिर्फ बच्चे के लिए इतना ही तय नहीं करना है कि वह कितनी देर स्क्रीन पर बिताएगा, बल्कि आपके लिए यह तय करना भी जरूरी है कि वह किस वक्त स्क्रीन के सामने होगा। मसलन, आप सोने से पहले घर में टीवी या फोन ना चलाएं। इससे बच्चे की नींद प्रभावित होती है। साथ ही खाना  खाते समय भी स्क्रीन से दूरी बनाए रखें।

छोटी-छोटी बातें

kids screen time rules to follow ()

अगर आप चाहते हैं कि बच्चा स्क्रीन पर कम समय बिताएं तो आप बच्चे के लिए बनाए गए रूल्स का पालन खुद भी करें।

बच्चे को बिजी रखने के लिए आप उसे कुछ अच्छे गेम्स लाकर दे सकते हैं या फिर कुछ वक्त बिताकर उसके साथ खेलें, ताकि उसे बोरियत का अहसास ना हो।

इसे भी पढ़ें- Taimur Ali Khan को योगा करते देखा है कभी? यहां देखे उनकी और भी क्यूट तस्वीरें

बच्चे के स्क्रीन टाइम को लिमिटेड करने के लिए उसके साथ सख्ती ना बरतें। बल्कि उसे लंबे समय तक स्क्रीन पर समय बिताने से होने वाले नुकसानों के बारे में बताएं। इससे बच्चा खुद ही कम वक्त स्क्रीन पर बिताने लगेगा।