• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

मोबाइल फोन खो जाने पर अपने बैंक अकाउंट से यूपीआई (UPI) पेमेंट को ऐसे बंद करें

 इस लेख में हम आपको यह बताएंगे कि मोबाइल फोन खो जाने पर अपने बैंक अकाउंट से यूपीआई (UPI) पेमेंट को कैसे बंद करें।
author-profile
Published -01 Sep 2022, 20:02 ISTUpdated -05 Sep 2022, 01:11 IST
Next
Article
MOBILE PAYMENT TIPS

आज कल यूपीआई पेमेंट ज्यादातर लोग करते हैं। इस सिस्टम की मदद से आप आसानी से पैसे किसी को भी भेज सकते हैं या अपने अकाउंट में पैसे ले भी सकते हैं। लेकिन जरा सोचिए कि अगर अचानक से आपको फोन खो जाए तो आप ऐसी स्थिति में अपने यूपीआई पेमेंट सिस्टम को कैसे डी- एक्टिवेट कर सकते हैं इस लेख में हम आपको यह बताएंगे। 

अपने सिम को कराएं बंद

 upi payment link with account

  • अगर आपका फोन चोरी हो जाए तो ऐसी स्थिति में आपको सबसे पहला काम यह करना चाहिए कि आप अपने फोन के सिम के कस्टमर केयर को पहले कॉल करें और उन्हें मोबाइल खो जाने की सूचना दें फिर सिम को ब्लॉक करने को कहें। 
  • आपको बता दें कि जब आपके बैंक अकाउंट से कोई ट्रांजैक्शन करता है तो आपके फोन नंबर पर एक ओटीपी का मैसेज आता है। अब जब तक वह अनजान व्यक्ति जिसे आपका फोन मिला होगा या जिसने आपका फोन चोरी किया होगा वह ओटीपी नहीं सबमिट कर पाएगा और इस वजह से पेमेंट सफल नहीं हो पाएगा क्योकि आपका सिम पहले ही ब्लॉक हो जाएगा तो ओटीपी उस नंबर पर नहीं आएगा।

इसे जरूर पढ़ें: घर के भारी भरकम बिजली के बिल से कैसे बचें, बिजली की बचत के लिए जानें ये 11 टिप्‍स और ट्रिक्स

बैंक में कॉल करके यूपीआई सर्विस को बंद करवाएं

UPI PAYMENTS

  • इसके बाद आपको अपने लेंक हुए बैंक के कस्टमर केयर को कॉल करना चाहिए फिर आप उन्हें अकाउंट के यूपीआई सर्विस को बंद करने के लए सूचना दीजिए। इसके साथ ही आप अपने अकाउंट से ट्रांजैक्शन की सेवाओं को कुछ अवधि के लिए भी बंद करने को बोल सकते हैं। 

क्या होता है यूपीआई पेमेंट?

  • आपको बता दें कि यूपीआई यानी यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस नेशनल पेमेंट ऑफ (एनपीसीआई )ने विकसित किया है।
  • इससे आप मोबाइल वॉलेट के जरिए किसी और के बैंक खाते में पैसे भेज सकते हैं। इससे आप कहीं से भी किसी भी समय पैसों का ट्रांजैक्शन कर सकते हैं।

इसे जरूर पढ़ें- Sukanya Samriddhi Yojana: बेटी की पढ़ाई से लेकर शादी तक में मिलेगी आर्थिक सहायता, जानें योजना से जुड़े फायदे

पॉजिटिव पेमेंट सिस्टम को किसने किया है विकसित?

  • आपको बता दें कि इसकी शुरुआत साल 2020 में की गई थी। इसे भी एनपीसीआई ने विकसित किया है। देश के कई सारे बैंक इस सिस्टम को अब तक लागू कर चुके हैं। आरबीआई के मुताबिक पॉजिटिव पेमेंट सिस्टम का यूज तभी किया जा सकता है जब आपका अमाउंट 50 हजार से ज्यादा हो। 
  • लेकिन पांच लाख से अधिक रुपये होने पर इस सिस्टम को अनिवार्य रूप से लागू करना होता है। आपको बता दें कि चेक जारी करने वाले व्यक्ति को मोबाइल ऐप, इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से बेसिक जानकारी दी जाती है ताकि ये वेरिफाई किया जा सके कि दी गई जानकारी सही है। 

 

तो यह थी जानकारी बैंक अकाउंट से जुड़ी हुई । 

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी से।

Image Credit- freepik/unsplash

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।