आधार कार्ड हर भारतीयों के लिए बहुत ज़रूरी चीज़ है इसके बिना कई सुविधाओं का लाभ हम नहीं उठा सकते हैं क्योंकि इसके साथ कई सारी चीज़े जुड़ी है जैसे बैंक अकाउंट, सब्सिडी, पैन कार्ड आदि। इसलिए ज़रूरी है आधार कार्ड का अप टू डेट रहना बहुत ज़रूरी है। कोरोना महामारी की वजह से सरकार लगभग हर चीज़ वर्चुअल या ऑनलाइन वर्जन अपडेट कर रही हैं। ताकि लोग घर बैठे सुविधाओं का लाभ उठा सकें। लेकिन इसके साथ ऑनलाइन चीज़ों की सुरक्षा भी बहुत ज़रूरी है। हम हर जगह आसानी से आधार नंबर डाल देते हैं। इसलिए थोड़ा डर भी बना रहता है। 

तो अब आपको ऐसा करने की कोई ज़रूरत नहीं है क्योंकि आज आपको बताने वाले हैं कि कैसे अपना आधार कार्ड सुरक्षित रख सकते हैं। आधार कार्ड के नंबर की जगह आप एक आधार वर्चुअल आईडी का इस्तेमाल कर सकते हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर आधार वर्चुअल आईडी है क्या? और इसके क्या फायदे हैं? तो चलिए हम इस लेख में आपको बताते हैं आधार वर्चुअल आईडी से जुड़ी कुछ रोचक बातें.. 

आधार वर्चुअल आईडी क्या है? 

inside  Aadhaar card

सबसे पहले जानते हैं आधार वर्चुअल आईडी क्या है। यह एक तरह की डिजिटल आईडी है जिसका उपयोग हम वेरिफिकेशन के लिए कर सकते हैं। नहीं समझे! सुरक्षा के लिए यूजर को ये ऑप्शन दिया गया है। आप इसका इस्तेमाल एजेंसियों, टेलीकॉम कंपनी या अन्य कंपनी के पास केवाईसी के लिए कर सकते हैं। बता दें कि एक आधार नंबर के लिए एक ही आधार वर्चुअल आईडी बनाई जा सकती है। 

इसे ज़रूर पढ़ें-नवजात का भी बन सकता है आधार कार्ड, स्वास्थ सेवाओं में मिलते हैं ये फायदे

आधार वर्चुअल आईडी बनाने का तरीका 

inside  how to create id

स्टेप 1: सबसे पहले आप UIDAI की वेबसाइट http://uidai.gov.in/ पर जाएं। 

स्टेप 2: इसके बाद आप “Aadhaar Services”  सेक्शन में “Virtual ID (वर्चुअल आईडी) Generator” पर क्लिक करें। 

स्टेप 3: आपके सामने एक नए वर्चुअल आईडी जनरेशन का पेज खुल जाएगा। 

स्टेप 4: फिर आप अपना 12 अंक का आधार नंबर और सिक्योरिटी कोड दर्ज करें। 

स्टेप 5: नंबर डालने के बाद “Send OTP” बटन पर क्लिक करें। 

स्टेप 6: फिर आपको रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP भेजा आएगा। 

स्टेप 7: OTP डालें और “Generate वर्चुअल आईडी” और “Retrieve वर्चुअल आईडी” में का विकल्प चुनें। 

स्टेप 8: इसके बाद “Submit”  बटन पर क्लिक करें। 

स्टेप 9: फिर आपके पास एक मैसेज आएगा कि “Congratulations!   आपका वर्चुअल आईडी नंबर सफलतापूर्वक जनरेट हो गया है और आपके रजिस्टर्ड मोबाइल पर भेज दिया गया है।” 

स्टेप 10: इस मैसेज के बाद आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर 16-अंकीय वर्चुअल आईडी का मैसेज आएगा।

स्टेप 11:बस बन गई आपकी आधार वर्चुअल आईडी! 

Recommended Video

आधार वर्चुअल आईडी के फायदे 

inside  aadhar card

1-आधार वर्चुअल आईडी आपको वेरिफिकेशन (सत्यापन) के समय आधार नंबर साझा नहीं करने का ऑप्शन देगी। 

2 - आपकी वर्चुअल आईडी से नाम, पता और फोटोग्राफ आदि कई चीजों आसानी से  वेरीफाई (वेरिफिकेशन) हो जाएंगी। 

3- यूजर जितनी चाहे उतनी वर्चुअल आईडी खुद जनरेट कर सकता है। 

4- UIDAI के अनुसार किसी भी अधिकृत एजेंसियों को आधार कार्ड होल्डर की ओर से वर्चुअल आईडी जनरेट करने की अनुमति नहीं होगी। 

5- सबसे बड़ा फायदा यह है कि इस आईडी से आपका निजी डाटा ज़्यादा शेयर नहीं होगा। 

इसे ज़रूर पढ़ें-बिना किसी ऐड्रेस प्रूफ के ऐसे बदलें आधार कार्ड में अपना पता

तो आप भी घर बैठे आधार वर्चुअल आईडी बना सकते हैं और उसका उपयोग कर सकते हैं। लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर और लाइक ज़रूर करें, साथ ही ऐसी अन्य जानकारी पाने के लिए जुड़े रहें हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik And Google