भगवान गणपति को विघ्नविनाशन और विघ्नहर्ता भी कहा जाता है। कहा जाता है कि प्रथम पूजनीय गणेश जी का श्रद्धा भाव से पूजन करने से घर में सुख समृद्धि तो आती है और घर धन धान्य से पूर्ण हो जाता है। गणपति का पूजन वैसे तो नियमित रूप से किया जाता है लेकिन बुधवार के दिन को विशेष रूप से गणपति को समर्पित माना गया है।

मान्यतानुसार बुधवार के दिन गणपति का कुछ खास तरीके से किया गया पूजन विशेष फलदायी होता है और इसका अपना अलग महत्त्व है। आइए नई दिल्ली के जाने माने पंडित, एस्ट्रोलॉजी, कर्मकांड,पितृदोष और वास्तु विशेषज्ञ प्रशांत मिश्रा जी से जानें किस तरह से बुधवार के दिन गणपति भगवान का पूजन करना लाभकारी है। 

क्यों बुधवार है गणपति का दिन 

ganpati pujan vidhi

एक पौराणिक कथा के अनुसार, माता पार्वती ने अपने शरीर के उबटन से भगवान गणपति की उत्पति की थी और उनकी उत्पत्ति कैलाश पर्वत पर की गयी थी। गणपति की उत्पत्ति के समय माता पार्वती के द्वारा गणेश जी की उत्पत्ति के समय बुध देव भी वहां उपस्थित थे. इसलिए तभी से बुध को गणेशजी का प्रमुख वार माना जाने लगा और इसी ख़ास दिन गणपति की पूजा की जाने लगी। 

इसे जरूर पढ़ें:जानें कब है अप्रैल महीने का पहला प्रदोष व्रत, पूजा का शुभ मुहूर्त और महत्त्व

गणेशजी पूजन से लाभ 

ganpati pujan how to do

कहा जाता है कि प्रथमपूजनीय गणेशजी का पूजन करने से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है और सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है। कहा जाता है कि जिन लोगों का बुध कमजोर हो, उनके लिए गणपति की आराधना करना बहुत शुभ होता है। 

कैसे करें बुधवार को गणपति पूजन

पूजा स्थान को साफ़ करें  

बुधवार के दिन गणपति पूजन करने के लिए सबसे पहले सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और साफ़ वस्त्र धारण करें। पूजा के स्थान को साफ़ करें और गणपति जी की मूर्ति को एक चौकी में लाल कपड़ा बिछाकर स्थापित करें। 

21 दूर्वा चढ़ाएं 

durva wednesday puja

गणपति को दूर्वा घास बहुत पसंद है और मुख्य रूप से बुधवार के दिन गणपति को दूर्वा चढ़ाना फलदायी होता है। दूर्वा इसलिये चढाई जाती है, कि जैसे दूर्वा की एक जड़ में से अनेक जड़ निकलती हैं, उसी प्रकार हमारे वंश की वृद्धि होती रहे। इस दिन 21 दूर्वा की गांठें लगाकर गणपति को चढ़ाएं। ऐसा करने से पूजा का विशेष फल प्राप्त होता है। 

मोदक और गुड़ का का लगाएं भोग

modak ganpati poujan

गणपति को मोदक और गुड़ बहुत पसंद है। इसलिए पूजा के दौरान मोदक और का भोग लगाकर परिवार के सभी सदस्यों को वितरित करना चाहिए। यदि मोदक नहीं मिले तो बूंदी या बेसन के लड्डू का भोग भी लगाया जा सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips: घर की सुख समृद्धि और धन-धान्य के लिए भूलकर भी घर के मंदिर में न रखें भगवान की ऐसी मूर्तियां

लाल सिंदूर अर्पित करें

lal sindoor ganpati

घर में क्लेश आदि से मुक्ति और दाम्पत्य जीवन में आ रही परेशानियों को दूर करने हेतु बुधवार के दिन गणपति को लाल सिन्दूर अर्पित करें। गणपति को लाल सिंदूर अत्यंत प्रिय है इसलिए पूजा के दौरान लाल सिन्दूर अर्पित करना विशेष फलदायी होता है। 

Recommended Video

गणेश स्त्रोत का पाठ करें

बुधवार के दिन उन लोगों को गणपति की विशेष पूजा जरूर करनी चाहिए जिन लोगों का बुध कमजोर हो अथवा जिनका भाग्य साथ नहीं दे रहा हो। साथ ही जिन्हें आर्थिक तंगी हो उन्हें भी गणपति जी की पूजा के साथ गणेश स्त्रोत का पाठ करना चाहिए। 

हरे रंग के वस्त्र पहनें 

ganpati pujan wednesday

जिन लोगों पर बुध भारी हो उन्हें बुधवार के दिन हरे वस्त्र पहनने चाहिए और गाय को हरा चारा खिलाना चाहिए और गरीबों दान करना चाहिए। ऐसा करने से बुध मजबूत होता है और उनका मान-सम्मान और धन संकट दूर होता है। बुधवार के दिन गणपति जी की पूजा-अर्चना करने के साथ उनकी आरती करें और फिर चालिसा पढ़ने के बाद भोग लगाएं। 

इन मन्त्रों का करें जाप 

ganpati pujan

गणेशजी से सर्वप्रथम विनती करते हुए इस मंत्र का जाप करें.  

'ऊँ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्य कोटि समप्रभ

निर्विघ्नं कुरू मे देव, सर्व कार्येषु सर्वदा।।'

'ऊँ गं गणपतये नमः।।'

'ऊँ एकदन्ताय विहे वक्रतुण्डाय धीमहि तन्नो दन्तिः प्रचोदयात्।'

'त्रयीमयायाखिलबुद्धिदात्रे बुद्धिप्रदीपाय सुराधिपाय।

नित्याय सत्याय च नित्यबुद्धि नित्यं निरीहाय नमोस्तु नित्यम्।।'

इस तरह बुधवार के दिन गणपति का पूजन विशेष फलदायी होता है और श्रद्धा भाव से पूजन करने से धन धान्य की पूर्ति होती है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit: free pik