हमारे देश की महिलाएं किसी भी क्षेत्र में पुरुषों से पीछे नहीं हैं बल्कि कठिन से कठिन परिस्थिति को भी पार करके अपने लक्ष्य तक पहुंच ही जाती हैं। महिलाओं ने आज हर जगह अपनी सफलता का परचम लहराया है और निरंतर आगे बढ़कर हर जगह अपनी विजय अंकित कर रही हैं। 

कुछ ऐसा  ही उदाहरण हैं केरल की पहली महिला पायलट जेनी जेरोम। जेनी ने न सिर्फ कमर्शियल फ्लाइट उड़ाकर एक नया मुकाम हासिल किया है बल्कि भारत की अन्य महिलाओं के लिए भी प्रेरणा देकर उन्नति के मार्ग प्रशस्त किये हैं। आइए इस लेख में जानें कौन हैं जेनी जेरोम और उनमें क्या है ख़ास। 

कौन हैं जेनी जोरेम 

jany jorem first piolet

जेनी केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम के एक तटीय गांव की रहने वाली 23 वर्षीय महिला हैं, जिन्होंने केरल की पहली महिला (पहली महिला फ्लाइट टेस्ट इंजीनियर) कमर्शियल पॉयलट बनकर एक बड़ा मुकाम हासिल किया है। जेरोम ने अपनी पहली कमर्शियल फ्लाइट Air Arabia G9 449 को Sharjah से  तिरुवनंतपुरम तक के लिए अपनी पहली उड़ान भरी। अपनी 12 वीं की पढ़ाई करने के बाद जेनी बचपन के सपने को साकार करने के लिए एक विमानन अकादमी में शामिल हुई थी। जेनी के पिता जेरोम ब्रिटिश कंपनी लैम्परेल एंड फैमिली में एक फैब्रिकेशन मैनेजर के तौर पर काम करते हैं और माता-पिता, जेनी और उनके भाई दोनों पिछले 25 सालों से सऊदी स्थित अजमान में रहते हैं।

इसे जरूर पढ़ें:National Bicycle Day: साइकिलिंग के हुनर से पिंक सिटी में क्रांति लाने वाली पूजा विजय कौन हैं, जानें इनसे जुड़ी खास बातें

Recommended Video

इंटरनेट पर मचाई सनसनी 

jeni jorem

जब जेनी जेरोम के बारे में इंटरनेट पर खबर आई तो सोशल मीडिया शांत नहीं रह सका। 23 वर्षीय जेरोम, जिन्होंने शारजाह से तिरुवनंतपुरम के लिए सह-पायलट के रूप में एयर अरेबिया जी9-449 उड़ान भरी। उनकी इस उपलब्धि ने मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन सहित सभी का ध्यान आकर्षित किया। पिनाराई विजयन ने जेनी को इस उपलब्धि पर बधाई देते हुए कहा कि “जेनी जेरोम को बधाई जो केरल की शान बन गई हैं। तिरुवनंतपुरम जिले के एक तटीय गांव कोचुथुरा के मूल निवासी, जेनी समग्र रूप से केरल का गौरव हैं। उन्होंने यह भी कहा कि परिस्थितियों से जूझने और अपने सपने को साकार करने वाली जेनी जेरोम का जीवन महिलाओं और आम लोगों के लिए एक बड़ी प्रेरणा है। यह लैंगिक समानता के बारे में सामाजिक जागरूकता भी पैदा करता है। जेनी की इच्छाओं का समर्थन करने वाला परिवार भी समुदाय के लिए एक आदर्श है।

इसे जरूर पढ़ें:आयशा अजीज: देश की सबसे कम उम्र की महिला पायलट बन रचा इतिहास

शशि थरूर ने कही ये बात 

first piolet of kerala

तिरुवनंतपुरम के सांसद शशि थरूर ने भी केरल की युवा महिला पायलट की सराहना करते हुए ट्वीट किया और उन्हें बधाई दी। 

वास्तव में ये न सिर्फ जेनी की उपलब्धि है बल्कि पूरे देश के लिए एक गर्व की बात है और देश की सभी महिलाओं को उनसे प्रेरणा लेने की जरूरत है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit: twitter @shashi tharoor