हिंदू धर्म में शादी को एक बहुत ही पवित्र संस्कार माना गया है, इसलिए शादी से पहले कई रीति-रिवाजों को निभाया जाता है और इन्हीं में से एक होता है कुंडली मिलान। कुंडली मिलान इसलिए किया जाता है ताकि इस बात का पता लगाया जा सके कि लड़का और लड़की के कितने गुण मिल रहे हैं, जिससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सके कि दोनों लोगों के बीच शादी के बाद अनुकूलता कितनी रहेगी क्योकि इसी पर उनका भविष्य निर्भर करता है। 

जाहिर है, मनुष्य के जीवन में शादी का बहुत अधिक महत्व है। इसलिए लड़का हो या लड़की हर कोई यही चाहता है कि उसकी शादी सफल रहे और उनके रिश्ते हमेशा मधुर बने रहें। मगर कई बार ऐसा भी होता है कि लड़का और लड़की के इतने गुण नहीं मिल पाते हैं, जो आवश्यक होते हैं। ऐसे में क्या करना चाहिए? क्‍या शादी टाल देनी चाहिए? या फिर ज्‍योतिष शास्‍त्र में गुण न मिलने पर भी शादी को सफल बनाने के कुछ उपाय बताए गए हैं। 

इस विषय पर हमने भोपाल के ज्योतिषाचार्य एवं हस्तरेखार्विंद विशेषज्ञ शास्त्री विनोद सोनी पोद्दार से बातचीत की और जाना कि सफल शादी के लिए कितने गुणों का मिलना जरूरी है और यदि गुण न मिलें तो क्या उपाय किए जा सकते हैं।  

 इसे जरूर पढ़ें- Astro Tips: सुखी दांपत्य जीवन के 7 अचूक उपाय, पंडित जी से जानें

gunas  match  for  marriage

शादी के लिए कुंडली में कितने गुण मिलने चाहिए ?

पंडित जी कहते हैं, 'कुंडली में गण के 6, गृहमैत्री के 5 , नाड़ी के 8, वैश्‍य के 2, वर्ण का 1, योनी के 4, तारा के 3 और भकूट के 7 गुणों को मिलाकर टोटल 36 गुण होते हैं। इनमें से 28 गुणों का मिलना सबसे अच्‍छा माना जाता है, अगर 18-25 गुण भी मिल रहे हैं तो भी शादी सफल हो सकती है। मगर 18 से कम गुण मिलने पर ज्‍योतिषी उपाय करने पड़ते हैं। तब ही शादी को सफल बनाया जा सकता है।' 

गुण न मिलने पर शादी को सफल बनाने के लिए अपनाएं ये उपाय-

1. नाड़ी मिलान 

अगर 18 गुण भी नहीं मिल रहे हैं तो इस स्थिति में नाड़ी मिलान किया जाता है। पंडित जी कहते हैं, 'स्‍वास्‍थ्‍य में अनुकूलता और आनुवांशिक अनुकूलता के लिए नाड़ी मिलान बहुत जरूरी है। इस गुण पर संतान सुख की संभावना भी टिकी होती है।' पंडित जी नाड़ी मिलान के लिए ब्लड ग्रुप चेक करवाने की भी सलाह देते हैं। अगर ब्लड ग्रुप अलग है, तो विवाह हो सकता है।

इसे जरूर पढ़ें- Astro Tips: शादी में आ रही अड़चन दूर करने के उपाय, पंडित जी से जानें

gunas  matching  guru

2. बृहस्पति ग्रह का सही होना है अनिवार्य 

शादी के लिए जब लड़का और लड़की के 18 गुण भी नहीं मिल रहे होते हैं, तब कुंडली में बृहस्पति की दशा (बृहस्पति को मजबूत बनाने के टिप्‍स) देखी जाती है। सफल विवाह के लिए बृहस्पति ग्रह की दशा का ठीक होना अनिवार्य है। अगर बृहस्पति रूठा हुआ है, तो विवाह से पूर्व आपको बृहस्पति के 16 हजार जाप करवा लेने चाहिए। मगर इस बात का ध्यान रखें कि शादी के हर 4 वर्ष में आपको ऐसा करना होगा, तब ही आपकी शादी सफल बनी रहेगी। 

3. शुक्र ग्रह की स्थिति देखें 

सुखी दांपत्य जीवन के लिए बहुत जरूरी है कि शुक्र ग्रह की स्थिति भी ठीक हो अन्यथा विवाह अधिक दिनों तक नहीं ठीक पता है l वहीं अगर शुक्र ग्रह दोनों की कुंडली में अच्छी स्थिति में हो तो विवाह किया जा सकता है। लेकिन शुक्र ग्रह की स्थिति यदि ठीक नहीं है, तो आपको शुक्र के 20 हजार जाप करने के बाद ही विवाह करना चाहिए। लेकिन आपको हर 5 वर्ष में ऐसा दोहराना होगा, तब ही आपका विवाह सफल रहेगा। 

gunas  matching  mangal

4. मंगल ग्रह की स्थिति देखें 

कुंडली में मंगल ग्रह (मंगल दोष के उपाय) का भी विशेष स्थान होता है और शादी-विवाह में भी यह ग्रह मुख्‍य भूमिका निभाता है। इसलिए मंगल की स्थिति का भी कुंडली में ठीक होना जरूरी है। यदि ऐसा न हो, तो विवाह से पूर्व मंगल के 27 हजार जाप करवाएं। विवाह के बाद भी हर 3 वर्ष में ऐसा दोहराएं। ऐसा करने पर शादी टिकी रहेगी। 

5. कुल देव या देवी की पूजा करवाएं 

कई बार कुल देव या देवी के रूठ जाने पर भी शादी में अड़चन आती है। ऐसे में कुल देवी या देव की पूजा जरूर करें। इतना ही नहीं, आपको साल में 1 बार कुल देवी या देवता के दर्शन करने जरूर जाना चाहिए। 

Recommended Video

इस मंत्र का करें जाप 

शादी में अड़चन आ रही हो या मनचाहा जीवनसाथी न मिल रहा हो, ऐसे में आपको 'ॐ अंगारकाय नमः' मंत्र का जाप जरूर करना चाहिए। यह मंगल का जाप है। लड़का या लड़की दोनों को ही इस मंत्र का प्रतिदिन 51 बार जाप करना चाहिए। 

उम्मीद है कि शादी के लिए कुंडली में गुणों के मिलान से जुड़ी यह जानकारी आपको पसंद आई होगी और आपके लिए मददगार भी होगी। इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें, साथ ही इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

 Image Credit: unsplash.com