देश में ऐसी कई महिलाएं हैं जो खुले आसमान में उड़ने के सपने देखती हैं। हालांकि, अधिकांश महिलाओं को इस बात की जानकारी नहीं होती कि उन्हें अपने इस सपने को पूरा कैसे करना है। वैसे तो इसके दो रास्ते हैं। पहला ये कि आप चाहे तो अपने इंटरनेशनल टूर्स को प्लान कर लें या फिर आप पायलट बनकर खुले आसामान को छू लें। इसी क्रम में अगर आप ये जानना चाहती हैं कि आप पायलट कैसे बन सकती हैं तो इस आर्टिकल में बताए गए तरीकों से आप अपना लक्ष्य हासिल कर सकती हैं।

कितने तरह के होते हैं पायलट?

ladies pilot process

  • पायलट के तौर पर अगर आप अपना करियर देख रही हैं तो आपके लिए सबसे पहले ये जानना जरूर है कि पायलट कितने तरह के होते हैं। 
  • एयरलाइन पायलट वो होता है जो पैसेंजर या कार्गो को एक निश्चित समय पर दुनिया के एक कोने से दूसरे कोने में ले जाता है जैसे कि इंडिगो या एयरइंडिया के जो पायलट्स होते हैं वो एयरलाइन पायलट्स हैं।
  • कमर्शियल पायलट वो होते हैं जो कम दूरी वाले स्थानों पर यात्रियों को ले जाते हैं। ये यात्राएं कुछ ही घंटों की होती हैं।
  • कॉर्पोरेट पायलट वो होते हैं जो किसी बिजनेसमैन को उनकी बिजनेस ट्रिप्स के लिए ले जाते हैं। 
  • फाइटर पायलट को मिलिट्री पायलट भी कहा जाता है। अगर आप एयर फाॅर्स या आर्मी जॉइन करना चाहती हैं फाइटर पायलट बन सकती हैं।

इसे जरूर पढ़ें: जानिए कौन थीं भारत की पहली महिला पायलट सरला ठकराल?

बैचलर डिग्री करें हासिल

ladies pilot selection process in hindi

अगर आप एयरलाइन पायलट बनना चाहती हैं तो आपको किसी सब्जेक्ट के साथ अपना ग्रेजुएशन पूरा करना होगा। वहीं, अगर आपका मन कमर्शियल पायलट बनने का है तो इसके लिए हाई स्कूल डिप्लोमा की जरूरत होगी। हालांकि, देश में ऐसे कई इंस्टिट्यूट मौजूद हैं जहां से आप अपना मन-मुताबिक कोर्स पसंद कर उसमें दाखिला ले सकती हैं। 

12वीं के बाद चुन सकती हैं पायलट कोर्स

अगर आप 12वीं क्लास पास करने के बाद कमर्शियल पायलट ट्रेनिंग लेना चाहती हैं तो इसके लिए आपको एक एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना होगा। एंट्रेंस एग्जाम क्लियर होने के बाद आपका इंटरव्यू और मेडिकल टेस्ट होगा, जिसे आपका इंस्टिट्यूट आयोजित करेगा। 12वीं क्लास के बाद अगर आप पायलट ट्रेनिंग कोर्स में हिस्सा ले रही हैं तो इस कोर्स की फीस 15 से 20 लाख के बीच आएगी। विदेश जाकर कोर्स में दाखिला लेना चाहती हैं तो वो इससे अलग होगी। फिलहाल, भारत में पायलट ट्रेनिंग के लिए कई इंस्टिट्यूट हैं, जिनमें से कुछ के नाम नीचे लिस्ट किये गए हैं: 

  • इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी
  • बॉम्बे फ्लाइंग क्लब
  • राजीव गांधी अकैडमी ऑफ़ एविएशन टेक्नोलॉजी
  • मध्य प्रदेश फ्लाइंग क्लब
  • नेशनल फ्लाइंग ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट

NDA एग्जाम के जरिए भी बन सकती हैं पायलट

अगर आप भारतीय वायु सेना में भारती होना चाहती हैं तो नेशनल डिफेंस अकैडमी यानि NDA आपके लिए एक गोल्डन अपॉर्चुनिटी है। 12वीं कक्षा के बाद आप NDA एग्जाम दे सकती हैं। ऐसे में अगर NDA में आपका सिलेक्शन हो जाता है तो आप यहां से पायलट ट्रेनिंग का तीन साल का कोर्स कर सकती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: वाराणसी की बेटी शिवांगी सिंह राफेल स्क्वाड्रन की पहली म‍हिला फाइटर पायलट बनीं

इन बातों का भी रखें ध्यान

  • पायलट बनने के लिए जरूरी है कि आपने DGCA का क्लास 2 मेडिकल क्लियर किया हो।
  • आपके पास किसी एविएशन इंस्टिट्यूट की डिग्री हो।
  • आपने कम से कम 250 घंटों की उड़ान भरी हो।
  • साथ ही, आपके पास कमर्शियल पायलट लाइसेंस हो।

प्लेन उड़ाने का एक्सपीरियंस

how to become ladies pilot hindi

अगर आप पायलट बनना चाहती हैं तो आपको अपना लाइसेंस हासिल करने के लिए ट्रेनिंग के दिनों कुछ घंटों की उड़ान भरनी पड़ेगी। जब तक आप इन उड़ानों को पूरा नहीं लार लेती हैं तब तक आपको लाइसेंस नहीं मिलेगा। उदाहरण के तौर पर कमर्शियल पायलट लाइसेंस को ले लीजिए। अगर आपको कमर्शियल पायलट लाइसेंस चाहिए तो आपको अपनी ट्रेनिंग सेशन में कम से कम 250 घंटों की उड़ान भरी हो। वहीं अगर आप एयरलाइन पायलट बनना चाहती हैं तो आपके लिए जरूरी है कि आपने अपने ट्रेनिंग सेशन में 1,500 घंटों की उड़ान भरी हो। 

Recommended Video

पायलट लाइसेंस

हर देश की सिविल एविएशन अथॉरिटी पायलट्स को प्राइवेट पायलट लाइसेंस, कमर्शियल पायलट लाइसेंस, एयरलाइन ट्रांसपोर्ट पायलट लाइसेंस, मल्टी-क्रू पायलट लाइसेंस, कमर्शियल मल्टी-इंजन लैंड और केर्तिफ़िएस फ्लाइट इंस्ट्रक्टर जैसे लाइसेंस देती है। इसलिए आप पहले ये तय कर लें कि आपको कौन सा पायलट बनना है फिर उसी हिसाब से अपनी ट्रेनिंग लेकर अपना लाइसेंस हासिल करें।

उम्मीद है इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके काम आएगी। आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमें इस बारे में जरूर बताएं।

Image Credit: Freepik.com