मानसून एक ऐसा समय है जो पौधों के लिए काफी अच्छा माना जाता है, क्योंकि इस समय पौधे फलते-फूलते हैं। बारिश का पानी उन्हें पोषण प्रदान करता है। अगर आपके घर में अलग से गार्डन एरिया है तो यकीनन आपको अपने हाउसप्लांट्स में ग्रोथ देखने को मिलेगी। लेकिन सिक्के का एक दूसरा पहलू यह भी है कि अगर इस मौसम में पौधों पर पूरा ध्यान ना दिया जाए तो इससे वर्षा का अतिरिक्त जल उन्हें खराब भी कर सकता है। इसलिए आपको अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। आपको यह देखना चाहिए कि पौधों को कितना पानी व धूप मिल रहा है और वास्तव में उन्हें इसकी उतनी जरूरत है भी या नहीं। साथ ही समय-समय पर उन्हें पर्याप्त देख-रेख की भी जरूरत होती है। जहां मानसून में कम तापमान और ह्यूमिडिटी पौधों के लिए अच्छी होती है, वहीं इसके साथ उन्हें अतिरिक्त केयर की जरूरत होती है। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसे आसान टिप्स बता रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप अपने घर में मौजूद प्लांट्स का पूरा ख्याल रख सकती हैं-

बदलें जगह

plants during monsoon inside

इस मौसम में आपको कभी-कभी प्लांट्स की जगह बदलनी पड़ सकती है। गमलों को ऐसी जगह ले जाएँ जहाँ पौधों को पर्याप्त मात्रा में पानी मिले लेकिन अधिक वर्षा का पानी न हो। बारिश का अधिक पानी उन्हें खराब कर सकता है। इसलिए यह अवश्य देखें कि आपका प्लांट ऐसी जगह पर ना हों, जहां पर लगातार बारिश का पानी आता रहे।

इसे भी पढ़ें: गर्मी में आपके पौधों को नहीं होगा कोई नुकसान, बस इन बातों का रखें ध्यान

चेक करें पानी

take care plants during monsoon inside

इस मौसम में प्लांट्स को पानी देने से पहले अपने गमलों की जांच अवश्य कर लें। इस समय उन्हें पानी की बहुत कम मात्रा में आवश्यकता होती है। याद रखें कि ओवरवेटिंग से जड़ों को नुकसान हो सकता है। (बीमारियों से दूर रखते हैं  5 पौधे) इसके अलावा इससे उनकी ग्रोथ पर भी विपरीत असर पड़ता है। इसके अलावा दोपहर में तीन बजे के बाद पौधों को पानी देने से बचें।

ना लग जाएं कीडे़

plants during monsoon take care inside

मानसून के मौसम में पौधों में कीड़े लग जाते हैं। इसलिए, अपने प्लांट्स को किसी भी संक्रमण से बचाने के लिए नियमित रूप से प्लांट बेड की जांच करना न भूलें। हालांकि, केंचुए उनके लिए अच्छे हैं क्योंकि वे मिट्टी में छेद खोदते हैं जो नाइट्रेटिंग में मदद करते हैं। (वास्‍तु के हिसाब से घर में लगाएं ये पौधे) इसके अलावा यह भी चेक करें कि आपके प्लांट्स में ड्रेनेज सिस्टम सही हो, ताकि पौधों में पानी का जमाव ना हो और उनमें कीड़े लगने या  फिर पौधों के खराब होने की संभावना ना हो।

Recommended Video

इनडोर व आउटडोर प्लांट्स

care of plants during monsoon inside

अपने इनडोर पौधों को कीटों और बीमारियों से बचने के लिए सप्ताह में एक बार कीटनाशक और fungicide लगाएँ क्योंकि वे मानसून के दौरान कीटों को आसानी से पकड़ लेते हैं। (इनडोर प्लांट्स) वहीं अगर आपने प्लांट्स को छत या बरामदे पर लगाया है तो अपने पौधों को ढकने के लिए प्लास्टिक की चादरों के बजाय छिद्रित चादरों का उपयोग करें। यह उन पर पानी छिड़कने में मदद करेगा। साथ ही उन्हें ओवरवाटरिंग से भी बचाएगा, जिससे उन्हें पर्याप्त पोषण मिल पाएगा।

इसे भी पढ़ें: घर में तुलसी के पौधे को हमेशा रखें हरा भरा, बस ये आसान तरीका आएगा काम


इस पर दें ध्यान

मानसून के दौरान आर्द्रता का स्तर अधिक होता है, इसलिए सुनिश्चित करें कि पौधों को उचित वेंटिलेशन और प्रकाश मिले। इसके अलावा अगर आपको अपने प्लांट में फर्टिलाइजर्स एड करने की जरूरत महसूस हो रही हैं तो इस प्रक्रिया को सुबह 7 से 11 बजे के बीच ही करें। (इन प्लांट्स को वॉशरूम में भी लगा सकती हैं)

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@freepik)