इस वर्ष नवंबर का पूरा महीना ही छोटे-बड़े कई त्‍यौहारों से भरा हुआ है। सितंबर और अक्‍टूबर के महीने में अधिक मास पड़ जाने के कारण करवा चौथ से लेकर दिवाली तक सभी बड़े त्‍यौहार इस वर्ष नवंबर में मनाए जाएंगे।

इतना ही नहीं, नवंबर में ही छठ पूजा और कार्तिक पूर्णिमा का त्‍यौहार भी है। हिंदू धर्म में इन सभी त्‍यौहारों को बहुत महत्‍व दिया गया है और इन्‍हें देश भर में धूम-धाम से मनाया जाता है। तो चलिए जानते हैं पंचाग के हिसाब से कौन सा त्‍यौहार कब मनाया जाएगा और उसका शुभ मुहूर्त क्‍या होगा। 

chatt  puja    date  time

करवा चौथ, 4 नवंबर 2020 

इस माह का सबसे पहला पर्व करवा चौथ था। कार्तिक मास के कृष्‍ण पक्ष की चतुर्थी के दिन इस पर्व महिलाएं धुम-धाम से मनाती हैं। करवाचौथ के दिन महिलाएं चौथ माता की पूजा करती हैं और पति की दीर्घायु की कामना करती हैं। 

शुभ मुहूर्त- पूजा मुहूर्त :17:33 से 18:39 तक, चंद्रोदय समय : 20:11

इसे जरूर पढ़ें: करवा चौथ के दिन ना करें ये गलतियां, नहीं मिलेगा पूजा का फल

रमा एकादशी, 11 नवंबर 2020 

हिंदू धर्म में कई तीज-त्‍यौहारों को महत्‍व दिया गया है। इनमें से रमा एकादशी का अपना अलग महत्‍व है। आपको बता दें कि रमा माता लक्ष्‍मी के अनेक नामों में से एक नाम है। इस बात से ही ज्ञात हो जाता है कि इस एकादशी में महालक्ष्‍मी के रमा स्‍वरूप और भगवान विष्‍णु के केशव स्‍वरूप की पूजा की जाती है। यदि आप इस एकदशी पर व्रत रखते हैं तो आपको शुभ फल प्राप्‍त होते हैं। 

शुभ मुहूर्त-  11 नवंबर सुबह 6:41 से शुरू हो कर 12 नवंबर सुबह 8:51 तक 

धनतेरस, 13 नवंबर 2020 

दिवाली के त्‍यौहार से 2 दिन पूर्व धनतेरस का पर्व आता है। इसे धन्‍वंतरि जयंती के नाम से भी जाना जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन समुद्र मंथन से धन्‍वंतरि देव हाथों में अमृत का कलश लेकर प्रकट हुए थे। धनतेरस के दिन सोने और चांदी की वस्‍तुएं खरीदने की प्रथा है। इतना ही नहीं, इस दिन घरों में नए बर्तन की पूजा भी की जाती है। 

शुभ मुहूर्त- पूजा मुहूर्त: 17:34 से 18:01 तक

diwali    date  time

दिवाली, नरक चतुर्दशी,  14 नवंबर 2020 

वैसे तो नरक चतुर्दशी का पर्व दिवाली के पर्व से एक दिन पूर्व आता है, मगर इस वर्ष दोनों ही त्‍यौहार एक ही दिन मनाए जाएंगे। आपको बता दें कि नरक चतुर्दशी के दिन मृत्‍यु के देवता यम की पूजा की जाती है। ऐसा करने से स्‍वर्ग की प्राप्ति होती है। वहीं दिवाली के दिन गणेश लक्ष्‍मी पूजन होता है। 

शुभ मुहूर्त- नरक चतुर्दशी पूजा मुहूर्त सुबह  5:22 से 6:43 तक , लक्ष्‍मी पूजा मुहूर्त शाम 17:30 से 19:25 तक। 

गोवर्धन पूजा, 15 नवंबर 2020 

हिंदू धर्म में गोवर्धन पूजा को बहुत महत्‍व दिया गया है। इस त्‍यौहार को पूरे भारत में धूम-धाम के साथ मनाया जाता है। इस दिन भगवान श्री कृष्‍ण की पूजा होती है और उन्‍हें अन्‍नकूट का प्रसाद चढ़ाया जाता है। 

शुभ मुहूर्त- दोपहर 15:18 से शाम 17:27 तक

इसे जरूर पढ़ें: करवा चौथ में अपने पत्नी को दीजिए ये शानदार गिफ्ट्स

dhanteras    date  time

भाई दूज, 16 नवंबर 2020 

दिवाली के बाद पड़ने वाली दूज को भाई दूज भी कहा जाता है। इस दिन बहन अपने भाई को अपने ससुराल बुलाती है और उसका स्‍वागत करती है। दूज के दिन बहने अपने भाई को खुद के हाथों का बना भोजन ही कराती हैं और यम देवता से भाई की लंबी आयु का वरदान मांगती हैं। 

शुभ मुहूर्त- दोपहर 13:10 से 15:18 तक

छठ पूजा, 20 नवंबर 2020 

उत्‍तर और पूर्व भारत में छठ का त्‍यौहार बहुत लोकप्रिय है। यह दिवाली जितना ही बड़ा पर्व है। इस दिन छठी मैया की पूजा की जाती है। इस त्‍यौहार में पूरा घर एक साथ उपवास रखता है। 

शुभ मुहूर्त- 20 नवंबर को संध्‍या अर्घ्‍य देने का मुहूर्त शाम 17:25 बजे और 21 नवंबर को उषा अर्घ्‍य देने का समय 6:48 बजे है। 

Recommended Video


कार्तिक पूर्णिमा, 30 नवंबर 2020 

कार्तिक पूर्णिमा के दिन भगवान विष्‍णु ने मत्‍स्‍य अवतार का जन्‍म हुआ था। इस दिन गंगा स्‍नान और दीप दान करने की परंपरा है। 

शुभ मुहूर्त- 29 नवंबर दोपहर 12:49 बजे से पूर्णिमा आरम्भ हो कर 30 नवंबर को 15:01 बजे समाप्त होगी। 

हिंदू तीज-त्‍योहार, व्रत-पूजा और धर्म से जुड़ी रोचक बातें जानने के लिए जुड़ी रहे हरजिंदगी से।

Image Credit: Freepik