हिन्दू धर्म की मान्यतानुसार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को हर साल धनतेरस या धनत्रयोदशी का त्यौहार मनाया जाता है। इस वर्ष धनतेरस या धनत्रयोदशी का त्यौहार 13 नवंबर, दिन शुक्रवार को है। धनतेरस का त्यौहार दिवाली से एक या दो दिन पहले होता है। दिवाली कार्तिक माह की अमावस्या तिथि को होती है और उससे दो दिन पहले धनतेरस त्रयोदशी तिथि को होता है। इस साल छोटी दिवाली और बड़ी दिवाली दोनों ही तिथियां एक ही दिन होने की वजह से धनतेरस दिवाली के एक दिन पहले मनाया जाएगा। धनतेरस या धनत्रयोदशी के दिन देवों के वैद्य भगवान धन्वंतरि की विधि विधान से पूजा की जाती है। इस दिन लोग शुभता के लिए सोना, चांदी, आभूषण, बर्तन आदि की खरीदारी भी करते है। हर एक त्यौहार की तरह धनतेरस की पूजा भी शुभ मुहूर्त में करने से लाभ मिलता है। आइए जानें इस वर्ष धनतेरस पूजा का शुभ मुहूर्त तथा तिथि क्या है-

क्‍यों मनाया जाता है धनतेरस का त्यौहार 

dhanteras festival

ऐसा माना गया है कि कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन भगवान धन्वंतरि का जन्म हुआ था। इसलिए हिन्दू मान्यता के अनुसार  इस तिथि को धनतेरस या धनत्रयोदशी के नाम से जाना जाता है। यही वजह है कि इस दिन धन्वंतरि जी की पूजा का विधान है। 

इसे जरूर पढ़ें : क्या आप जानते हैं धनतेरस में क्यों की जाती है बर्तनों की खरीदारी

Recommended Video


धनतेरस के दिन क्या किया जाता है 

इस दिन गणेश-लक्ष्मी की मूर्ति को घर लाया जाता है। मान्यतानुसार इस दिन कुछ नया खरीदने की परंपरा है। इस दिन लक्ष्मी गणेश की मूर्ति घर लाकर पूजा वाले स्थान पर रखी जाती है और उन्हीं मूर्तियों का पूजन दिवाली के दिन किया जाता है। धनतेरस के दिन यमराज के नाम का दीपक भी जलाया जाता है और विशेष रूप से देवों के वैद्य भगवान धन्वंतरि का पूजन होता है। 

सोने चांदी की खरीदारी भी की जाती है 

purchasing of gold

धनतेरस पर सोना और चांदी खरीदने की परंपरा है क्योंकि सोना भगवान धन्वंतरी और कुबेर की धातु माना जाता  है। इसे खरीदने और घर में रखने से आरोग्य, सौभाग्य और स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होता है। इस दिन लोग सोने के आभूषणों की खरीदारी करते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें : धनतेरस में भूलकर भी ना खरीदें ये चीजें, हो सकता है नुकसान

पंडित जी के अनुसार धनतेरस 2020 पूजा का मुहूर्त

अयोध्या के जाने माने पंडित श्री राधे शरण शास्त्री जी के अनुसार इस वर्ष कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि का प्रारंभ 12 नवंबर दिन गुरूवार को रात 09 बजकर 30 मिनट से होगा , जो 13 नवंबर दिन शुक्रवार को शाम 05 बजकर 59 मिनट तक रहेगा । ऐसे में उदया तिथि को ध्यान में रखते हुए धनतेरस 13 नवंबर को मनाया जाएगा है। धनतेरस की पूजा के लिए 30 मिनट का शुभ मुहूर्त है। धनतेरस की पूजा शाम को 05 बजकर 28 मिनट से शाम को 05 बजकर 59 मिनट के मध्य करें, विशेष लाभ की प्राप्ति होगी। 

इस प्रकार धनतेरस के पर्व में मुहूर्त के अनुसार पूजन करने व घर के मुख्य द्वार पर दीपक प्रज्ज्वलित करने से माता लक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त हो सकती है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik