दिवाली तो बीत गई और इस दिवाली भी हमेशा की तरह पटाखों की धूम भी हुई। दिवाली पर पटाखे जलाने की आदत तो हमें बचपन से ही डाली गई है और ऐसे में पटाखों की आवाज़ से दिवाली की रात और आने वाली कई रातें गूंजती रहेंगी। त्योहार मनाने का सबका अपना-अपना तरीका होता है और कई लोग सिर्फ दिये जलाकर दिवाली मनाने के बारे में सोचते हैं तो कुछ को पटाखों से भरी दिवाली अच्छी लगती है। 

पर अगर आपने पटाखे जलाए हैं या किसी और ने जलाए हैं और आपके घर के सामने बहुत कचरा हो गया है या किसी वजह से आपके पास बचे हुए पटाखे रखे हैं तो इनके अपने-आप फटने या फिर किसी को घायल करने की गुंजाइश काफी ज्यादा रहती है। पटाखों को ऐसे ही रखना बच्चों के लिए भी नुकसानदेह हो सकता है और घर के पेट्स और आस-पास के जानवरों के लिए भी ये खतरनाक होता है। 

ऐसे ही फूटे हुए पटाखों का कचरा भी सही नहीं होता और कई बार इनमें बचा हुआ बारूद किसी भयावह हादसे को अंजाम दे सकता है। अब जब दिवाली बीत गई है तो क्यों ना पटाखों को डिस्पोज करने के सही तरीके के बारे में बात कर ली जाए। आज हम आपको बताते हैं कि दिवाली के बाद किस तरह से पटाखों को डिस्पोज किया जाए। 

इसे जरूर पढ़ें- दिवाली में रहना है सुरक्षित, तो पटाखे छोड़ते समय रखें इन बातों का ध्यान

क्या बिल्कुल ना करें?

सबसे पहले तो आपको बताते हैं कि क्या बिल्कुल नहीं करना चाहिए। अधिकतर लोग दिवाली के पटाखों को जलाने के बाद कचरे को इकट्ठा कर आग लगा देते हैं। ये सबसे गलत तरीका है। दिवाली के कचरे में कई ऐसे पटाखे भी होते हैं जो बिल्कुल नहीं जले होते हैं या फिर जिनमें थोड़ा सा बारूद बाकी रहता है। ऐसे में अगर इन पटाखों में आग लगा देंगे तो प्रदूषण भी बहुत ज्यादा फैलेगा और साथ ही साथ किसी हादसे का खतरा रहेगा। 

 diwali and crackes

ऐसे कचरे वाले पटाखों से स्ट्रीट एनिमल्स को भी काफी खतरा होता है और उनके जख्मी होने की गुंजाइश भी बनी रहती है। आस-पास खेलते हुए बच्चों के लिए भी ये पटाखे काफी खतरनाक साबित हो सकते हैं। इसलिए कभी भी उनमें आग ना लगाएं। 

किस तरह से डिस्पोज करें बचे हुए पटाखे?

दिवाली के अगर ढेर सारे पटाखे बच गए हैं तो उन्हें डिस्पोज करने के लिए आप अपने पानी वाला तरीका इस्तेमाल करें जो सबसे सुरक्षित है। दरअसल, अगर आप इन्हें दोबारा इस्तेमाल करने के लिए डिब्बे में बंद करके रख देंगे तो हो सकता है कि किसी तरह से इनमें आग लग जाए या फिर टेम्परेचर बढ़ने या घटने के साथ ही इनमें आग लगने का खतरा बना रहेगा। इसलिए बेहतर होगा कि इन्हें ठीक तरह से डिस्पोज कर दिया जाए।  

diwali crackers for disposal

  • सबसे पहले सभी पटाखों को जिनमें बारूद भरा हुआ है उन्हें पानी में डुबोकर रख दें। 
  • इसे सिर्फ 15 मिनट में बाहर ना निकालें, दरअसल पटाखों के अंदर तक पानी जाना बहुत जरूरी है और इसे 2 घंटे से लेकर रात भर तक आप पानी में डूबा रहने दे सकते हैं। 
  • इसके बाद इन्हें किसी जिपलॉक बैग आदि में भरकर रखें ताकि इनके अंदर का पानी सूखे ना और मॉइश्चर बरकरार रहे। 
  • इसके बाद आप अपने पटाखों को कचरे के डिब्बे में डाल दें। ऐसा इसलिए किया गया ताकि पटाखे जब भी कचरे के ढेर तक पहुंचे तब वो फटे ना और किसी को भी किसी तरह का खतरा उनसे ना हो।  

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें- जानलेवा हो सकता है पटाखों का धुआं, ये बीमारियां कर सकती हैं परेशान 

बिना पानी में डुबाए अगर आप पटाखों को ऐसे ही डस्टबिन में डाल देंगे तो इनके आग पकड़ने की गुंजाइश ज्यादा होगी। पटाखों को पानी में ज्यादा देर के लिए डुबाएं क्योंकि अगर पानी सूख जाता है तो हो सकता है पटाखों का बारूद वापस से आग पकड़ने लायक हो जाए।  

दिवाली के बाद सफाई के दौरान इन टिप्स को ध्यान जरूर रखें जिससे कोई बड़ा हादसा रोका जा सकता है। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।