मेंटल हेल्थ आज के समय में एक बड़ा मुद्दा है, जिससे आम इंसान ही नहीं, सेलेब्स भी जूझ रहे हैं। आम लोग अपनी समस्याओं पर खुलकर चर्चा कर लेते हैं, अपनी परेशानियों के बारे में सोशल मीडिया पर भी लिख देते हैं, डॉक्टर से भी सलाह ले लेते हैं। लेकिन सेलेब्रिटीज अपनी परेशानियों को खुलकर जाहिर नहीं कर पाते। सेलेब्रिटीज चाहें आर्थिक तंगी से गुजर रहे हों या फिर डिप्रेशन में चले गए हों, उन्हें अपनी रियल लाइफ सिचुएशन्स पर बात करने में झिझक महसूस होती है। कुशल पंजाबी के पर्सनल लाइफ की क्राइसिस और डिप्रेशन में आकर सुसाइड के बाद एक बार फिर बॉलीवुड एक्टर्स से लेकर टीवी कलाकार तक, सभी अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। टीवी के पॉपुलर एक्टर अर्जुन बिजलानी ने भी इस विषय में अहम बातें कही हैं।  

arjun bijlani on mental health

कुशल पंजाबी की मौत पर सेलेब्स ने जताया था दुख 

कुशल पंजाबी टीवी और बॉलीवुड के एक चर्चित कलाकार थे। उनकी मौत पर अक्षय कुमार, जॉन अब्राहम, चेतन हंसराज, कुशाल टंडन सहित कई कलाकारों ने दुख जताया है। इन कलाकारों ने कुशल पंजाबी के जिंदादिल और खुशमिजाज होने की बात कही थी और ये भी कहा था कि वह फिटनेस के लिए अक्सर लोगों को इंस्पायर किया करते थे। कुशल पंजाबी के सुसाइड पर चर्चा करते हुए अर्जुन बिजलानी ने कहा है, 'टीवी इंडस्ट्री के लोग डिप्रेशन के बारे में अपनी बात खुलकर नहीं कह सकते, क्योंकि इससे उन्हें काम मिलने में परेशानी आ सकती है।

इसे जरूर पढ़ें: Kushal Punjabi Suicide: कुशल की शादीशुदा जिंदगी में चल रही थीं परेशानियां, दोस्त चेतन हंसराज का खुलासा

arjun bijlani on depression

डिप्रेशन के बारे में बात करने से डरते हैं सेलेब्स

मेंटल हेल्थ पर मीडिया को दिए इंटरव्यू में अर्जुन बिजलानी ने कहा, 'इंडस्ट्री ऐसी स्थिति में है, जिससे बाहर निकलने का कोई जरिया नजर नहीं आता। आप खुद को एक्सप्रेस नहीं कर सकते, क्योंकि आपको फील होता है कि जो भी थोड़ा बहुत काम मिल सकता है, वह आप गंवा सकते हैं। डिप्रेशन झेल रहे कलाकारों को यह लग सकता है कि लोग उन्हें काम नहीं देंगे, क्योंकि वे डिप्रेस्ड हैं। एक्टर्स के लिए ये स्थितियां कभी-कभी अजीब हो जाती हैं। वह खुलकर अपने मन के विचार रखना चाहते हैं, लेकिन वे ऐसा कर नहीं सकते। उनके लिए किसी पर विश्वास करना मुश्किल होता है। वास्तविकता में एक दुखद स्थिति है।'

इसे जरूर पढ़ें: कुशल पंजाबी की पत्नी ने किए कुछ नए खुलासे

 
 
 
View this post on Instagram

Good morning!!

A post shared by Arjun Bijlani (@arjunbijlani) onJan 5, 2020 at 9:33pm PST

डिप्रेशन के बारे में जागरूक होने की जरूरत

अर्जुन बिजलानी के मुताबिक, 'इस समस्या का हल हम खुद निकाल सकते हैं। एक समाज के रूप में हमें खुद को बदलने की जरूरत है। डिप्रेशन के बारे में ज्यादा अवेयरनेस होनी चाहिए। डिप्रेशन का इलाज करने वाले सेंटर्स के नंबर सभी को भेजने चाहिए। अगर आप किसी वजह से सुसाइड के बारे में बार-बार सोच रहे हैं तो उस नंबर पर कॉन्टेक्ट करना चाहिए।'

Recommended Video

 

सोशल मीडिया की वजह से बढ़ रहा है तनाव

अर्जुन बिजलानी का मानना है कि सोशल मीडिया डिप्रेशन का मुख्य कारण है। इस बारे में उन्होंने एक बड़े मीडिया हाउस से इंटरव्यू में कहा, 'आज सोशल मीडिया के कारण लोग हर दूसरे इंसान की पोस्ट देखते हैं और यह सोचते हैं कि वे सभी लोग बहुत खुश हैं। अपनी परेशानियों के बीच दूसरों को खुश देखकर वे लोग और भी ज्यादा डिप्रेस महसूस करते हैं। उन्हें ऐसा लगता है कि उनके जीवन में सबकुछ गलत हो रहा है और दूसरे की जिंदगी में सब कुछ सही। लेकिन हर चमकने वाली चीज सोना नहीं होती। हो सकता है कि मेरे विचार गलत हों, लेकिन मुझे लगता है कि लोग दूसरों से अपनी तुलना कर और ज्यादा परेशान हो जाते हैं। उन्हें लगता है कि दूसरे कितना कुछ कर रहे हैं और वे नहीं कर पा रहे। पहले के समय में लोगों को दूसरों की एक्टिविटीज के बारे में कभी-कभार पता चलता था, लेकिन आज के समय में सोशल मीडिया के जरिए सभी चीजें  तुरंत पता चल जाती हैं। किसी ने कुछ खरीदा, वह सोशल मीडिया पर आ जाता है, किसी ने कुछ नया पहना, उसके बारे में भी तुरंत ही जानकारी मिल जाती है। सबको सबके बारे में सबकुछ पता होता है। लेकिन ऐसा भी हो सकता है कि किसी के पास सबकुछ होने के बावजूद वह डिप्रेशन में हो।'

'फेमस नहीं होने पर निराश होने की जरूरत नहीं'

अर्जुन बिजलानी ने लोगों को पॉजिटिव होने की सलाह देते हुए कहा कि फेमस ना होना या किसी फेमस पर्सनेलिटी की तरह कामयाब ना हो पाना डिप्रेशन की वजह नहीं होनी चाहिए। अर्जुन ने मीडिया को दिए अपने इंटरव्यू में कहा, 'मैं शाहरुख खान की तरह फेमस होना चाहता हूं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि है कि अगर मैं फेमस नहीं हुआ तो मैं डिप्रेशन में चला जाऊंगा। ऐसे में अपने पास जो कुछ भी है, उससे संतुष्ट होने की कला सीखना और अपने लक्ष्य को पाने के लिए कड़ी मेहनत करना महत्वपूर्ण है। चाहें आपको अपना लक्ष्य पाने में कामयाबी मिले या ना मिले, आपको शुरुआत से ही खुद को यह समझाना अहम है कि यह किसी भी पेशे में होता है।'