हमारे घर में ऐसी कई चीज़ें होती हैं जो पहली नजर में देखने पर तो फालतू लगती हैं, लेकिन असल में इनके बहुत सारे उपयोग होते हैं। अब किचन में सब्जियों और अंडे के कचरे को ही ले लीजिए। उन्हें हम अनजाने में ही डस्टबीन में फेंक देते हैं, लेकिन ये किचन से निकलकर गार्डन के बहुत काम आ सकते हैं। चाहें आपने फूलों के पौधे लगाएं हों, फलों के पौधे या फिर सब्जियों के पौधे सभी बहुत जरूरी हैं। 

किसी भी तरह के पौधे को अच्छे से फलने-फूलने के लिए खाद की जरूरत होती है और ऐसे में ये खाद खरीदने की जगह आप अपने किचन का सामान इस्तेमाल कीजिए। इसमें कई मिनरल्स होते हैं जो पौधों को पोषण देंगे और बढ़ने में मदद करेंगे। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि किन चीज़ों का इस्तेमाल आप गार्डन में फर्टिलाइजर के तौर पर कर सकती हैं। 

1. केले के छिलके में छिपा है राज़-

जैसा कि हमें पता है कि केले में पोटैशियम भरपूर होता है और ये पौधों के लिए बेस्ट फर्टिलाइजर्स के तौर पर काम कर सकते हैं। इसमें पोटैशियम के साथ-साथ बहुत सारे मिनरल्स भी होते हैं। 

कैसे करेंगे केले के छिलके का इस्तेमाल?

केले के छिलके का इस्तेमाल करने के लिए आप अपने पौधों की जड़ से थोड़ी दूरी पर केले के छिलके को थोड़ी मिट्टी के साथ दबा दें। इसे 24 घंटे तक वहीं रहने दें और फिर निकाल लें। आप इसे टुकड़ों में काटकर भी डाल सकते हैं। इसमें वैसे ही पानी डालें जैसे आप अपने पौधे में डालती हैं। 

gardening pointers

इसे जरूर पढ़ें- ब्रेस्ट कैंसर का जल्द पता कैसे लगाएं? एक्‍सपर्ट से जानें

2. अंडे के छिलकों से होगी गार्डनिंग-

अंडों के छिलके भी पौधों में बहुत सारा कैल्शियम दे सकते हैं। यही नहीं अगर आपके पौधों में कीड़े हो रहे हैं तो भी अंडों के छिलके फायदेमंद साबित हो सकते हैं। आप गार्डन में अंडे का इस्तेमाल कई तरह से कर सकते हैं। 

कैसे करना है अंडे का यूज?

या तो आप एग शेल्स को क्रश करके सीधे पौधों की जड़ों के पास डाल दें या फिर पौधे को पहले फूटे हुए अंडे में उगाएं और उसके बाद उसे मिट्टी में ट्रांसफर करें। ये टमाटर और ऐसे ही बीज वाले पौधों के लिए बहुत लाभकारी हो सकते हैं। अंडे का कैल्शियम पौधों को बढ़ने में मदद करेगा। अगर कोई कीड़े जैसे इल्ली या घोंघा पौधों को खराब कर रहे हैं तो वो एग शेल्स के कारण जड़ों के पास तक नहीं आएंगे। पर इसके लिए आपको थोड़े बड़े और चुभने वाले टुकड़े कर के ये डालने होंगे। 

इसे जरूर पढ़ें- यूटरिन कैंसर हो सकता है खतरनाक, ऐसे करवाएं इसकी स्क्रीनिंग 

3. कॉफी से मिलेगा प्लांट्स को पोषण- 

अगर आप चाहें तो कॉफी से भी पौधों को पोषण दे सकती हैं। कॉफी का इस्तेमाल मिट्टी के PH कंटेंट को बढ़ाने के लिए किया जा सकता है। ग्राउंड कॉफी (पिसे हुए कॉफी के बीज) न सिर्फ टमाटर और गुलाब के पौधों में जान डाल देगी बल्कि ये मिट्टी को भी ज्यादा बेहतर बना देगी।  

कैसे करना है कॉफी का इस्तेमाल? 

कॉफी का इस्तेमाल करने के लिए आप कॉफी मशीन से निकली हुई ब्रूड कॉफी को सीधे पौधों की जड़ों के पास छिड़क दें या फिर इसे पानी में भिगो कर रखें और फिर पौधों में वो पानी डालें। 

gardening tools 

4. चाय भी आएगी काम- 

चाहे नॉर्मल चाय पत्ती हो या फिर ग्रीन टी ये दोनों ही आपके गार्डन के बहुत काम आ सकती है। बस ध्यान ये रखना है कि चाय में बहुत ज्यादा शक्कर न मिली हो। 

कैसे करना है चाय का इस्तेमाल? 

रेगुलर पानी में चाय की पत्ती को उबाल कर उसे छान लीजिए और उस पानी का इस्तेमाल या फिर चाय की पत्तियों का इस्तेमाल आप कॉफी की तरह ही सीधे पौधों की जड़ों में कर सकते हैं। आप ग्रीन टी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। इसके लिए एक टी बैग को दो लीटर पानी में घोलें और उसी पानी को अपने पौधों में डालें।  

Recommended Video

5. सब्जियों के छिलकों से बन सकती है खाद- 

प्याज, टमाटर, लहसुन, खीरा आदि के छिलकों का इस्तेमाल आप खाद बनाने के लिए भी कर सकती हैं। जिस कॉम्पोस्ट को आप घर पर तैयार करेंगी वो बाहर के कॉम्पोस्ट से बहुत ही ज्यादा बेहतर साबित होगा।  

कैसे बनाएं सब्जियों के छिलकों से कॉम्पोस्ट? 

आपको ये ध्यान रखना है कि जहां भी आप कॉम्पोस्ट बना रही हैं वो घर से बाहर हो क्योंकि इससे बदबू आती है। सब्जियों के और अंडों के छिलकों के साथ मिट्टी और गोबर मिलाकर कुछ दिनों के लिए छोड़ दें। इसमें आप अमोनिया पाउडर और बेकिंग सोडा भी डाल सकती हैं। उसकी मात्रा वैसी ही होगी जैसे आपने कॉम्पोस्ट की मात्रा रखी है, ये एक दो चम्मच से आधी कटोरी या आधे पैकेट तक कुछ भी हो सकता है। ये कम से कम 20 दिन बाद इस्तेमाल के लायक होगा। इसमें आप रोज़ाना का किचन का कचरा डाल सकते हैं। 

हम उम्मीद करते हैं कि ये टिप्स आपके बहुत काम आएंगे। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।