सालों से चली आ रही एक प्रचलित बात यह कि एक औरत ही औरत की दुश्मन है। इस बात में कितनी सच्चाई है और कितनी इस पुरुष प्रधान समाज की रूढ़िवादी सोच। इसी बात पर चर्चा करने के लिए Her Zindagi Women's day स्पेशल सेशन " She Speaks " में चर्चा हुई "sisterhood " पर।

इस चर्चा में हमारे साथ मौजूद थीं 3 ऐसी प्रभावशाली महिलाएं मालिनी अग्रवाल जो MissMalini और Girl Tribe की फाउंडर हैं, सोशल इन्फ्लुएंसर और entrepreneur हैं। सायरी चहल जो  महिलाओं  को जॉब देने वाली कम्युनिटी SHEROS की फाउंडर और CEO हैं और प्रीति राठी गुप्ता जो महिलाओं के लिए चलाई गयी फाइनेंस वेबसाइट LXME की फाउंडर और finance expert हैं। आइए जानें क्या हुआ sisterhood की ख़ास चर्चा में। 

cat fight stereotype क्या है 

sisterhood session HZ

मालिनी के अनुसार ऐसा जरूरी नहीं है कि औरत ही औरत की दुश्मन हो,एक पुरुष भी पुरुष का दुश्मन हो सकता है। जब एक महिला किसी दूसरी महिला को सपोर्ट करती है तब एक मैजिक क्रिएट हो जाता है, जो हर कोई देख सकता है। महिलाएं हर काम को बखूबी निभाती हैं। आजकल की महिलाएं दूसरी महिलाओं को सपोर्ट करती हैं और वास्तव में ये उन्हें उन्नति तक पहुंचाता है और cat fight कोई मायने नहीं रखता। प्रीति ने बताया कि आज की महिला बहुत ज्यादा आत्मविश्वास से भरपूर है। आज महिलाओं के सामने बहुत सारी चुनौतियाँ हैं और साथ ही हर क्षेत्र में महिलाऐं अवसर की तलाश कर्त हैं। कैट फाइट उस जमाने की बात है जब वास्तव में अवसरों की कमी थी। सायरी के अनुसार आज की महिलाएं एक दूसरे को सपोर्ट कर रही हैं। ये पहले के लोगों की सोच है कि महिलाएं एक दूसरे को नीचे दिखाती हैं। 

sisterhood में महिलाएं किस तरह से ब्लॉसम करती हैं 

sairee chahali sisterhood

इस प्रश्न के जवाब में सायरी ने कहा कि अगर महिलाओं की ग्रोथ को देखा जाए तो उसके दो भाग हैं फाइनेंसियल ग्रोथ और इमोशनल ग्रोथ। अगर हम हमेशा डरेंगे और ये सोचेंगे कि लोग क्या सोचेंगे तो आगे नहीं बढ़ पाएंगे। महिलाऐं इस बात को हमेशा सोचती हैं कि लोग क्या सोचेंगे। सायरी की कम्युनिटी में महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए कई तरह की जॉब opportunity दी जाती हैं जिसमें महिलाएं न किसी की मां हैं, न बहन हैं और न पत्नी, बल्कि महिलाऐं वो हैं जो वो बनना चाहती हैं और ये उन्हें आगे बढ़ाती हैं और अवसर प्रदान करती है। 

महिलाएं क्यों नहीं करती हैं finance हैंडल 

priti rathi gupta sisterhood

प्रीति ने बताया कि उन्हें काफी खराब लगता था जब वो देखती थीं कि कितनी भी स्वतंत्र महिला क्यों न हो, चाहे उसकी कितनी भी कमाई क्यों न हो लेकिन जब फाइनेंस की बात आती है तब वो पीछे हट जाती हैं। महिलाओं को ऐसा लगता है कि पुरुष पैसे को अच्छी तरह से मैनेज कर सकते हैं। प्रीति ने इसी लिए महिलाओं को वित्तीय लेखा जोखा समझाने की कोशिश में एक कम्युनिटी की शुरुआत की जिसका नाम LXME है। इस कम्युनिटी ने महिलाओं की सोच बदलने में काफी मदद की है और महिलाओं की फाइनेंस को लेकर उनकी डिपेंडेंसी पुरुषों के लिए कम कर दी है। 

इसे जरूर पढ़ें: LXME की फाउंडर " प्रीति राठी गुप्ता " के बारे में कितना जानती हैं आप? महिलाओं को देती हैं प्रेरणा

Girl Tribe कम्युनिटी ने pandemic में कैसे किया सपोर्ट 

malini life story sisterhood

मालिनी की कम्युनिटी girl tribe ने pandemic सिचुएशन में महिलाओं को ऑनलाइन कैसे बिहेव करना है ये सिखाया। मालिनी ने एक ऐसी कम्युनिटी बनाई जिसमें महिलाएं हर तरह की बातें करती हैं। लॉक डाउन के दौरान मालिनी की कम्युनिटी ने बहुत से ज़ूम चैट ऑर्गनाइज़ किए और ऑनलाइन योग क्लासेज भी दीं। उनका ये मानना है कि जब महिलाएं लॉक डाउन के उस दौर को याद करेंगी तब उनके दिमाग में ये अच्छी मेमोरीज होंगी कि वो ज़ूम में योगा क्लासेज करती थीं और बहुत सी fun एक्टिविटीज़ करती हैं।

इसे जरूर पढ़ें: Women's Day Special : जानें MissMalini की मालिनी अग्रवाल के जीवन से जुड़ी कुछ ख़ास बातें 

Recommended Video

HZ की अमेजिंग व्यूवर्स के लिए विमेंस डे पर मैसेज 

सभी स्पीकर्स ने HZ की व्यूवर्स को विमेंस डे पर ख़ास इंस्पायरिंग मैसेज देते हुए महिलाओं को आगे बढ़ने की प्रेरणा दी। मालिनी ने कहा कि " हर एक लड़की को किसी और के साथ कम्पटीशन करने से पहले खुद से कम्पटीशन करना चाहिए और उसके अंदर से जो आवाज़ आती है जो उसे किसी काम को करने से रोकती है, बाहर जाते समय उस आवाज़ को घर पर ही छोड़ दें और पूरे कॉन्फिडेंस के साथ आगे बढ़ें। हर रोज़ एक दूसरी महिला को एक चांस जरूर दें जो दूसरी महिला को खुश कर सके। " प्रीति ने सन्देश देते हुए कहा कि " महिलाओं को अपने आप पर इन्वेस्ट करना चाहिए और अपनी डेस्टिनी खुद बनानी चाहिए। " सायरी ने महिलाओं को सन्देश देते हुए कहा " जब वो छोटी थीं तब उनकी मां उनसे कहती थीं, कि बेटा डरना नहीं है बढ़ना है। " महिलाओं को हमेश निर्भय रहना चाहिए आपको एक ही लाइफ मिली है, जिसमें आपको बिना डरे हुए आगे बढ़ना है। 

इस तरह लोगों की इस सोच को बदलते हुए कि औरत ही औरत की दुश्मन है, ये सेशन ख़त्म हो गया और इस "sisterhood " सेशन में महिलाओं को आगे बढ़ने की प्रेरणा दी गई। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit: Instagram.com (@maliniagarwal), sairee chahal and Priti Rathi Gupta