विदेशों में पढ़ना हर भारतीय स्टूडेंट का एक सपना होता है। खासकर, उन यूनिवर्सिटी में पढ़ना और भी गौरव की बात होती जो विश्व विख्यात यूनिवर्सिटी हो। जब प्रसिद्ध यूनिवर्सिटी में पढ़ने के लिए कोई जाता है और अपने साथ-साथ अपने देश का भी नाम रोशन करता है, तो यक़ीनन हर किसी के लिए एक गौरव की बात होती हैं। जी हां, कुछ ऐसा ही काम किया है देश की बेटी रश्मि सामंत ने।

कर्नाटक की रहने वाली रश्मि सामंत ने ब्रिटेन में स्थित ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष बन गई हैं। कहा जा रहा है कि इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी भारतीय मूल की लड़की ने स्टूडेंट यूनियन का चुनाव जीतकर ऐसा कारनामा किया हो। कहा जा रहा है कि इन चुनाव में सामंत के साथ-साथ कुछ और भी भारतीय है, जिन्होंने इस चुनाव में जीत हासिल की है। चलिए जानते हैं कि कौन हैं ये रश्मि सामंत।

रश्मि सामंत

rashmi samant first indian woman of oxford students union inside

मूल रूप से कर्नाटक की रहने वाली हैं रश्मि सामंत। इससे पहले सामंत ने मनीपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की है और उडुपी से स्कूलिंग की है। कहा जा रहा है कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में सामंत ऊर्जा प्रणाली विषय पर एमएससी कर रही हैं। सामंत के बारे में कहा जा रहा है कि उन्होंने एक एडिटोरियल बोर्ड में लेखिका के तौर पर और रिसर्च असिस्टेंट के तौर पर भी काम किया है। 

इसे भी पढ़ें: कमला हैरिस ने रचा इतिहास, जानिए भारतीय मूल की अमेरिकी उपराष्ट्रपति के बारे में Facts

स्टूडेंट यूनियन का चुनाव 

rashmi samant first indian woman of oxford students union inside

कहा जा रहा है कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में स्टूडेंट यूनियन अध्यक्ष पद को पाने वाली पहली भारतीय महिला सीमांत ने लगभग दो हज़ार के आसपास मत से जीत हासिल की है। वहीं इस चुनाव में कुल चार हज़ार के करीब-करीब मत पड़े थे। इस जीत के बाद भारत से भी सामंत को खूब तारीफे मिली। कहा जा रहा है कि इस चुनाव में सामंत ने कुछ विशेष मुद्दों को लेकर चुनाव में उतरी और वो आसानी से छात्रों को अपनी ओर प्रभावित करने के कामियाब रही। (12 साल की आरना वधावन बनीं Hover Robotix की ब्राण्ड एम्बेस्डर)

Recommended Video

रश्मि सामंत की चुनावी मैनिफेस्टो

कहा जा रहा है कि चुनाव में उनका मुख्य लक्ष्य था यूनिवर्सिटी को उपनिवेशवाद से मुक्ति और सभी के लिए बराबरी पर जोर देते हुए यूनिवर्सिटी को अनुकूल बनाना। आगे मैनिफेस्टो में ये भी कहा गया कि यूनिवर्सिटी में अधिक से अधिक रिसोर्स उलब्ध कराए जायेंगे, जिससे यहां के बच्चे आगे चलकर एक बेहतर विश्व बना सके। सामंत ने यूनिवर्सिटी में भेद-भाव पर भी जोर देते हुए चुनाव में उतरी थी। जानकारी के लिए बता दें कि रश्मि सामंत ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में वर्ष 2020 में दाखिला लिया था। 

इसे भी पढ़ें: मिलिए जम्मू-कश्मीर की पहली महिला बस ड्राइवर पूजा देवी से


सोशल मीडिया 

 

इस जीत के बाद सामंत को सोशल मिडिया पर भी खूब तारीफे मिली। इस ख़ुशी के मौके पर जाने-माने और दिग्गज अभिनेता शत्रुघन सिन्हा ने भी ट्विटर पर सामंत को बधाई दी हैं, और महिला सशक्तिकरण का जिक्र किया है। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:(@mangaloremerijaan.com,femina.wwmindia.com)