जब वेब सीरीज 'द एंपायर' का ट्रेलर आउट हुआ था, तभी यह शो चर्चा का विषय बना हुआ था। इसी दौरान शो रिलीज होने के बाद, एक किरदार जो सबके जेहन में उतर चुका है और जिसका सब तारीफ कर रहे हैं, वो है अभिनेत्री दृष्टि धामी द्वारा निभाया गया खानजादा बेगम का किरदार! शो के रिलीज होते ही लोगों ने खानजादा बेगम के बारे में गूगल करना शुरू किया। सब जानना चाहते हैं कि आखिर यह शख्सियत कौन है? अगर आपको भी यह जानने में दिलचस्पी है, तो हम आपको आज खानजादा बेगम के बारे में बताने जा रहे हैं।

कौन हैं खानजादा बेगम?

khanzada begum first lady mughal empire

1478 में जन्मी, खानजादा बेगम उमर शेख मिर्जा और उनकी पहली पत्नी कुतलुग निगार खानम की सबसे बड़ी बेटी थी, जो मुगलिस्तान की राजकुमारी थीं। बाबर खानजादा का छोटा भाई था और 1483 में उसके जन्म के 5 साल बाद पैदा हुआ था। खानजादा, एक शहज़ादी, जिनका जीवन प्रमुख रूप से बलिदान और आघात से भरा था, मुगल साम्राज्य की प्रारंभिक स्थापना के निर्णयों के पीछे अपनी दादी ऐसन दौलत बेगम के साथ शामिल थीं। उन्हें मुगल साम्राज्य की सबसे शक्तिशाली महिला के रूप में जाना जाता है।

बाबर के जीवन में खानजादा बेगम की अहम भूमिका

मगल साम्राज्य को बनाने में ही नहीं, बल्कि अपने भाई बाबर के लिए भी उन्होंने कई बलिदान दिए थे। उज़्बेक नेता शायबानी खान ने समरकंद में बाबर और उसके दल को छह महीने तक घेर लिया था। जैसे-जैसे घेराबंदी तेज हुई, हालात इतने विकट हो गए कि समरकंद में लोगों के खाने तक के लाले पड़ गए थे। सभी को राहत देने के लिए, शायबानी ने इसे रोकने के लिए मान तो गया, लेकिन उसने बाबर के आगे एक शर्त रखी थी।

शायबानी ने बाबर से कहा था, 'अगर आप अपनी बहन, खानजादा बेगम की शादी हमारे साथ करवा दें, तो हमारे बीच शांति और गठबंधन हो सकता है।' बिना सोचे-समझे 23 वर्षीय खानजादा ने खुद को दुश्मन के हाथों सौंप दिया था। शायबानी खान के साथ शादी के बाद, उनकी जिंदगी दयनीय हो गई थी। उन्हें अपमानित किया जाता था और कई बार पीटा भी गया था।

खानजादा और शायबानी को एक बेटा हुआ था, जिसका नाम खुर्रम था। हालांकि बचपन में ही उनके बेटे की मृत्यु हो गई थी। कुछ समय बाद, खानजादा को शायबानी ने तलाक सिर्फ इसलिए दे दिया था, क्योंकि वह अपने भाई और अपने परिवार का साथ दिया करती थीं।

खानजादा की महदी ख्वाजा के साथ शादी

ऐसा कहा जाता है कि 1511 में, खानजादा को शाह इस्माइल 1 (जिसने मारव की लड़ाई में शायबानी को हराया था) द्वारा कुंदुज में बाबर के पास लौटा दिया गया था। इसके साथ ही, शाह इस्माइल 1 बाबर के पास दोस्ती का पैगाम भेजा था। इसी के बाद, खानजादा की शादी मुहम्मद महदी ख्वाजा हुई थी।

महदी ख्वाजा के साथ शादी के बाद जिंदगी

खानजादा बेगम ने अपने भाई बाबर की सुरक्षा के लिए वर्षों तक बलिदान दिया था। उनकी खुद की कोई संतान नहीं थी, लेकिन पति महदी ख्वाजा की बहन सुल्तानम बेगम की बेटी को उन्होंने अपनी बेटी की तरह प्यार दिया। वह अपने भतीजे प्रिंस हिंडल मिर्जा की शादी सुल्तानम बेगम कराना चाहती थीं।  सुल्तानम और हिंडल ने आखिरकार साल 1537 में शादी कर ली और खानजादा बेगम ने इसकी सारी व्यवस्थाएं की थीं। उन्होंने अपने सभी शाही मेहमानों के लिए एक बड़ी दावत की मेजबानी भी की थी। 

इसे भी पढ़ें : Exclusive: HerZindagi Queen बनीं Joanne रियल लाइफ में भी हैं विनर, जानिए उनकी इंस्पिरेशनल स्टोरी

खानजादा बेगम का निधन

khanzada begum death

खानजादा बेगम की सितंबर 1545 में काबल-चक में मृत्यु हो गई, जब वह अपने भतीजे हुमायूं के साथ जा रही थी, जो कंधार से अपने छोटे सौतेले भाई कामरान मिर्जा से मिलने के लिए जा रहा था। कहा जाता है कि वह तीन दिनों से बुखार से पीड़ित थी जिसके कारण चौथे दिन उनकी मौत हो गई थी। उसके शरीर को काबल-चक में दफनाया गया था, लेकिन तीन महीने बाद उनके शरीर को काबुल लाया गया और उनके प्यारे भाई बाबर के साथ, 'गार्डन ऑफ बाबर' में दफनाया गया था।

इसे भी पढ़ें : आईटी प्रोफेशनल से ज़ुम्बा क्वीन बनने तक, सुचेता पाल की जर्नी के बारे में जानें

'जानम' थीं खानजादा बेगम

खानजादा बेगम का जिक्र आपको 'बाबरनामा' में भी मिलेगा। बाबर ने अपनी बहन के बलिदानों और स्नेह का जिक्र करते हुए लिखा है, 'तुम एक नायिका हो, मेरी तारणहार हो। मेरी देवी और मेरा गुड-लक चार्म हो। तुम्हारे बलिदानों के बिना, मैं कभी नहीं बच पाता। मैं काबुल जीतने के लिए भी जीवित नहीं रह पाता। आप न केवल मेरे परिवार में शामिल होंगे, बल्कि मुखिया बनेंगे। आप पादशाह बेगम होंगे, क्योंकि आप हमारे कुल की रोशनी हैं। हम आपके कारण मौजूद हैं।' उनका जिक्र 'हुमायूं नामा ' में भी किया गया है। उनकी भतीजी गुलबदन बेगम, उन्हें प्यार से जानम कहती थीं।

खानजादा बेगम मुगल साम्राज्य की फर्स्ट लेडी थीं। इसी तरह का किरदार अभिनेत्री दृष्टि धामी अपनी सीरीज 'द एंपायर' में निभा रही हैं। इस सीरीज में शायबानी खान का किरदार अभिनेता डीनो मोरियानिभा रहे हैं। अभिनेता कुणाल कपूर बाबर की भूमिका में और अभिनेत्री शबाना आजमी उनकी दादी ऐसन दौलत बेगम के किरदार में नजर आ रही हैं।

Recommended Video

हमें उम्मीद है आपको खानजादा बेगम के बारे में जानकर अच्छा लगा होगा। अगर उनके बारे में कुछ हमने भी मिस कर दिया है, तो हमारे फेसबुक पेज पर कमेंट कर बताएं। ऐसे ही इंस्पिरेशनल स्टोरीज पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit: www.instagram.com