• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

आजाद हिंदुस्तान की पहली महिला पायलट के बारे में कितना जानते हैं आप?

हमारे देश में कई महिलाओं के नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज है, लेकिन हम आपको इतिहास रचने वाली पायलट उषा सुंदरम की इंस्पायरिंग स्टोरी के बारे में बताएंगे।
author-profile
Published -21 Jun 2022, 16:38 ISTUpdated -22 Jun 2022, 16:42 IST
Next
Article
usha sundaram first woman pilot in hindi

Usha Sundaram Woman Pilot: आजाद हिन्दुस्तान के पीछे ऐसी कई महिलाओं का हाथ है, जिन्होंने हिंदुस्तान को आजादी दिलाने के लिए पूर्ण योगदान दिया है। इतिहास के पन्नों में कई महिलाओं के नाम दर्ज हैं, जिन्हें पढ़ जाना चाहिए। हिन्दुस्तान में बसे हर राज्य और क्षेत्र की अपनी अलग कहानी और संघर्ष हैं यहां तक की उड़ान के क्षेत्र में भी। क्योंकि एक वक्त था जब महिलाएं अपने घर से बाहर तक नहीं मिलती थीं और महिलाओं की क्षमता को पायलट के रूप में स्वीकार करने से हिचकिचाते थे।

लेकिन आज विमान क्षेत्र में पायलट महिला की भरमार है। हालांकि, 1947 में डोमेस्टिक एयरलाइन उड़ाने वाली प्रेम माथुर, पहली भारतीय कमर्शियल पायलट बनी थीं। वहीं, दुर्बा बनर्जी, 1956 में इंडियन एयरलाइन्स की पहली महिला पायलट बनी थीं। लेकिन आज हम आपको आजाद हिंदुस्तान की पहली उषा सुंदरम से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में जानकारी दे रहे हैं, आइए जानते हैं।

20 साल की उम्र में उड़ना सीखा- 

Usha sundaram ()

उषा सुंदरम स्वतंत्र भारत की पहली महिला पायलट थीं। लेकिन कहा जाता है कि इन्होंने कम उम्र से कई महत्वपूर्ण घटनाओं और मिशनों को सुगम बनाया और अपने सपनों की तरफ उड़ान भरना शुरू की थी। अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने एविएशन में अपना करियर बनाने की सोची। कहा जाता है कि 20 साल की उम्र में उषा सुंदरम ने उड़ना भरना सीखा था। फिर 22 साल की उम्र में उषा सुंदरम ने पिस्टन-इंजन के साथ इंग्लैंड से भारत की उड़ान में सबसे तेज उड़ान भरने का विश्व रिकॉर्ड बनाया था। (पायलट बनने का तरीका)

इसे ज़रूर पढ़ें- जानिए कौन थीं भारत की पहली महिला पायलट सरला ठकराल?

23 घंटे की उड़ान भरकर बनाया था रिकॉर्ड- 

उषा सुंदरम 1948 में स्वतंत्र भारत के बाद पहली महिला पायलट थीं। लेकिन सरला ठकराल 1936 में लाहौर फ्लाइंग क्लब के लिए उड़ान भरने वाली देश की पहली महिला थीं। बता दें कि उषा ने आखिरी बार 1951 में एक उड़ान की कमान संभाली थी। (फाइनेंशियली इंडिपेंडेंट बनने के टिप्स)

इस दौरान उन्होंने अपने पायलट-पति के साथ लंदन से चेन्नई तक 23 घंटे की उड़ान भरकर एक रिकॉर्ड बनाया था। आज भी पिस्टन इंजन वाले विमान के लिए यह रिकॉर्ड बना हुआ है। इसके बाद वह द ब्लू क्रॉस ऑफ इंडिया की सह-संस्थापक बनी थीं।

Recommended Video

1952 में हुई थीं रिटायर- 

Usha sundaram women pilot

देश के आजाद होने के बाद उषा ने अपने जलवे कई सालों तक अपने जलवे बिखेरे और पहली महिला पायलट होने का खिताब अपने नाम किया। लेकिन कहा जाता है कि उषा ने अपने रियाटरमेंट से पहले अपने साहस लोगों की जान बचाने का भी काम किया था। (संगीता गौड़ की इंस्पायरिंग स्टोरी)

इसे ज़रूर पढ़ें- जानें देश की पहली महिला कॉम्बैट एविएटर अभिलाषा बराक के बारे में

इतिहास के अनुसार भारत का विभाजन होने के बाद पाकिस्तान में फंसे लोगों को निकालने का काम किया था और सुरक्षित उन्हें अपने घर वापस पहुंचाया था। लेकिन इसके बाद 1952 में उन्होंने रिटायरमेंट ले ली थी और इसके बाद इन्होंने विमान के क्षेत्र को अलविदा कह दिया था। 

उम्मीद है भारत की पहली महिला पायलट के बारे में जानकर आपको अच्छा लगा होगा। ऐसे ही इंस्पिरेशनल स्टोरीज पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit- (@Wikipedia and google images) 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।