• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

Kiran Bedi Birthday: भारत की पहली महिला IPS ऑफिसर रहीं किरण बेदी की लाइफ से लें इंस्पिरेशन

भारत की पहली महिला पुलिस ऑफिसर रहीं किरण बेदी ने अपने इनीशिएटिव्स से जिस तरह से देश को आगे बढ़ाया है आप भी इनसे इंस्पिरेशन ले सकती हैं। 
author-profile
Published -09 Jun 2022, 11:09 ISTUpdated -09 Jun 2022, 11:12 IST
Next
Article
birthday special of kiran bedi

Kiran Bedi Birthday: किरण बेदी भारत की उन जानी-मानी पर्सनेलिटीज में शुमार की जाती हैं, जिन्होंने अन्याय के खिलाफ आवाज बुलंद की और गरीब लोगों की आवाज बनीं। पहली महिला आईपीएस ऑफिसर के तौर पर उन्होंने अपने प्रगतिशील नजरिए के साथ कई ऐसी पहल कीं, जिनसे समाज को बेहतर बनाने की दिशा में मदद मिली। किरण बेदी एक सोशल एक्टिविस्ट, टेनिस खिलाड़ी और राजनीतिज्ञ के रूप में काफी एक्टिव रही हैं।

अपने सराहनीय प्रयासों के लिए किरण बेदी को अब तक कई सम्मानों से नवाजा जा चुका है। आज उनका जन्मदिन है और इस मौके पर हरजिंदगी टीम की तरफ से उन्हें बहुत-बहुत शुभकामनाएं। किरण बेदी के जन्मदिन के अवसर पर महिलाओं को उनकी उपलब्धियों के बारे में जरूर जानना चाहिए। आइए जानते हैं कैसा रहा उनका ये रोमांचक सफर-

टेनिस चैंपियन के तौर पर जीतीं कई प्रतियोगिताएं-

kiran bedi life facts

किरण बेदी 9 जून 1949 को पंजाब में पैदा हुई थीं। अमृतसर के सेक्रेड हार्ट कॉन्वेंट स्कूल से पढ़ाई करने के बाद किरण बेदी ने एनसीसी ज्वॉइन की। इसके बाद उन्होंने उन्होंने इंग्लिश में बीए ऑनर्स किया। पंजाब यूनिवर्सिटी से पॉलिटिकल साइंस में उन्होंने एमए किया। इसके अलावा उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से लॉ की पढ़ाई भी की।

टीनएज से ही किरण बेटी को टेनिस खेलना बहुत अच्छा लगता था। 1966 में वह नेशनल जूनियर टेनिस चैंपियन बन गई थीं। 1965 से 1978 के बीच किरण बेदी ने स्टेट और नेशनल लेवल के कई टाइटल जीते।

इसे जरूर पढ़ें: Inspiring Woman: प्रियंका शुक्ला अपने जुनून और कड़ी मेहनत के बल पर ऐसे बनीं डॉक्टर से आईएएस ऑफिसर

President के Police Medal से हुई थीं सम्मानित-

भारत की पहली महिला आईपीएस अधिकारी बनने के बाद किरण बेदी ने दिल्ली, गोवा, चंडीगढ़ और मिजोरम में अपनी अभूतपूर्व सेवाएं दीं। 1979 में उनकी उत्कृष्ट सेवाओं के लिए उन्हें  President के Police Medal से सम्मानित किया गया था। किरण बेदी की छवि एक बेहद अनुशासनप्रिय और सख्त ऑफिसर की थी। जब उन्हें पश्चिमी दिल्ली में तैनात किया गया, तो क्राइम अगेंस्ट वुमन में बहुत ज्यादा कमी आ गई थी।

1982 के दौरान होने वाले एशियन गेम्स के दौरान किरण बेदी ने ट्रैफिक व्यवस्था की निगरानी का जिम्मा संभाला था। दिल्ली की डीसीपी रहते हुए उन्होंने drug abuse के खिलाफ मुहिम छेड़ी थी, जो बाद में Navjyoti Delhi Police Foundation में तब्दील हो गया। इसके अलावा उन्होंने गरीब लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए India Vision Foundation की भी स्थापना की।

इसे जरूर पढ़ें: मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर कोरोना पीड़ितों की सेवा करने के लिए फिर से बनीं नर्स, दिया ये इंस्पायरिंग मैसेज

तिहाड़ जेल में सुधार के लिए रेमन मैग्सेसे अवॉर्ड से किया गया सम्मानित-

 
 
 
View this post on Instagram

Sharing a glimpse of your fantastic journey. - love @ishaaroraofficial #TeamKiranBedi

A post shared by Dr. Kiran Bedi (@kiranbediofficial) onJun 8, 2020 at 9:48pm PDT

मई 1993 में किरण बेदी दिल्ली की जेलों की इंस्पेक्टर जनरल बनीं। इस दौरान उन्होंने तिहाड़ जेल में कई सुधार कार्यक्रमों की शुरुआत की, जिससे उन्हें देश ही नहीं, दुनियाभर में लोकप्रियता हासिल हुई। इसके लिए उन्हें 1994 में रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। 

Recommended Video

किताबों के जरिए बढ़ाया लोगों का हौसला-

साल 2003 में किरण बेदी देश की पहली ऐसी महिला बनीं, जिसे Department of Peace Keeping Operations में युनाइटेड नेशन्स के सेक्रेटरी जनरल के पुलिस एडवाइजर के तौर पर नियुक्त किया गया। सामाजिक कार्यों में सक्रियता से शामिल होने के लिए उन्होंने 2007 में इस पद से रिजाइन कर दिया। किरण बेदी की लेखन में गहरी दिलचस्पी रही है। अब तक वह कई किताबें लिख चुकी हैं, जिनमें क्रिएटिंग लीडरशिप, व्हॉट वेंट रॉन्ग एंड व्हाई, हिम्मत है, इंडिनय पुलिस... एज़ आई सी, इट्स ऑलवेज पॉसिबल, एंपावरिंग वुमन जैसे इंस्पिरेशनल बुक्स शामिल हैं।

कई अवॉर्ड्स से हुईं सम्मानित-

Kiran bedi journay

किरण बेदी को मिलने वाले सम्मानों की फेहरिस्त काफी लंबी है। उन्हें अपनी अभूतपूर्व सेवाओं के लिए 1979 में राष्ट्रपति के Gallantry Award से सम्मानित किया गया। 1979 में ही उन्हें वुमन ऑफ द इयर के सम्मान से नवाजा गया। 1991 में उन्हें नशाबंदी की मुहिम के लिए Asia Region Award for Drug Prevention and Control से सम्मानित किया गया।

मानवता से जुड़े कार्यों के लिए उन्हें 1995 में उन्हें Father Machismo Humanitarian Award से सम्मानित किया गया। यही नहीं 1995 में उन्हें लॉयन ऑफ द इयर, महिला शिरोमणि अवॉर्ड से भी नवाजा गया। इसके अलावा साल 2005 में उन्हें मदर टेरेसा मेमोरियल नेशनल अवॉर्ड फॉर सोशल जस्टिस से सम्मानित किया गया। 

महिलाओं के लिए बड़ी इंस्पिरेशन-

किरण बेदी से देश को आगे बढ़ाने के लिए जिस साहस और दृढ़ता का परिचय दिया, वह आज के समय की महिलाओं के लिए बड़ी इंस्पिरेशन है। अपने भाषणों में भी उन्होंने महिलाओं को अन्याय के खिलाफ आवाज उठाने और कड़ी मेहनत के साथ जीवन को बेहतर बनाने के लिए प्रेरित किया है। 

आपको ये लेख पसंद आया हो इसे लाइक और शेयर जरूर करें। साथ ही जुड़ी रहें हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- (@Instagram and Wikipedia) 

 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।