भारत की महिलाओं ने हमेशा से ही हर एक क्षेत्र में अपना परचम बुलंद किया है। कुछ ऐसी ही उपलब्धि हासिल की है भारत की भवानी देवी ने, जिन्होंने फेंसिंग यानी तलवारबाजी के खेल में महारत हासिल करते हुए 2021 के ओलंपिक्स के लिए क्वालीफाई करके इतिहास रचा है।

किसी भी भारतीय के लिए ओलंपिक खेल के उच्चतम सोपानों को क्रैक करने का सपना देखना वास्तव में बड़ी बात है और उससे भी बड़ी बात है उस मुकाम को हासिल करना। तलवारबाज़ी में ये मुकाम हासिल करके भवानी देवी ने वास्तव में एक बड़ा उदाहरण प्रस्तुत किया है। आइए जानें उनसे जुड़ी पूरी खबर। 

तलवारबाजी में लहराया परचम 

bhavani devi story

टोक्यो ओलंपिक के लिए 27 वर्षीय फ़ेंसर भवानी देवी तलवारबाजी के क्षेत्र में ओलंपिक्स के लिए क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय महिला हैं और वास्तव में इतनी काम उम्र में उन्होंने ये मुकाम हासिल किया है। यह न सिर्फ उनके लिए बल्कि पूरे देश के लिए एक अविश्वसनीय उपलब्धि है। तलवारबाजी, एक कुलीन खेल, आला उपकरण और विशेष कोचिंग की मांग करता है,इसलिए ये भारत के लिए थोड़ा मुश्किल खेल है। अब तक, बहुत कम एशियाई देश इस खेल के ऊपरी क्षेत्रों तक मुकाम हासिल कर पाए हैं। भारतीय खेलों की दुनिया में एक नए युग की शुरुआत करने के लिए भवानी देवी ने एक अग्रणी कदम उठाया है।

इसे जरूर पढ़ें:शतरंज चैम्पियन कोनेरू हम्पी ने जीता BBC स्पोर्ट्स वुमन ऑफ द ईयर का खिताब

कड़ी मेहनत है जीत का नतीजा 

bhavani devi fencer

तलवारबाजी एक ऐसा खेल है जिसमें महारत हासिल करने के लिए अति विशिष्ट प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। लेकिन उनकी ये योग्यता भवानी के व्यक्तिगत प्रयास और उनकी कड़ी मेहनत की तरफ इशारा करता है। जिसकी वजह से आज वो इतनी बड़ी उपलब्धि हासिल कर पाई हैं। भवानी देवी ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय फ़ेंसर हैं। वह अपने पूरे चेहरे पर नकाबपोश हेलमेट के माध्यम से एक जाल के माध्यम से देखती हैं। वह रानी वेलु नचियार या सिवागंगा के शासक वीरमंगई की कहानी से भी बहुत ज्यादा प्रभावित हैं, जिसके लिए माना जाता है कि 1770 के दशक में अंग्रेजों पर आजादी के पहला संग्राम में मुख्य भूमिका निभाई थी।

Recommended Video

हासिल की हैं कई उपलब्धियां 

bhavani devi olympics

भारतीय तलवारबाज भवानी देवी ने रेक्जाविक में 'टर्नोई सैटेलाइट फेंसिंग चैम्पियनशिप' में स्वर्ण पदक जीता था। भवानी ने फाइनल में ग्रेट ब्रिटेन की सारा जेन हैम्पसन को 15-13 से हराया था। विश्व रैंकिंग में भवानी देवी 45वें स्थान पर हैं। विश्व रैंकिंग के आधार पर 05 अप्रैल, 2021 तक एशिया-ओशिनिया क्षेत्र से ओलंपिक का टिकट हासिल करने के लिए दो जगह खाली हैं।तमिलनाडु की भवानी रैंकिंग में फिलहाल 45वें स्थान पर है और इस आधार पर अनुमान लगाया जा रहा है कि वह निश्चित तौर पर एक स्थान हासिल करने में सफल रहेंगी। उनके ओलंपिक क्वालिफिकेशन पर आधिकारिक तौर पर मुहर भी 05 अप्रैल को ही लगाई जाएगी, जब तलवारबाजी में ताजा विश्व रैंकिंग जारी की जाएगी।

इसे जरूर पढ़ें:भारत की मिताली राज ने क्रिकेट के क्षेत्र में कायम की मिसाल, जानें क्या है पूरी खबर

इंस्टा पर कही ये बात 

insta post bhavani

भवानी देवी ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट पर अपनी उपलब्धि के लिए सभी का धन्यवाद देते हुए अपने पेरेंट्स को उन पर भरोसा रखने के लिए धन्यवाद दिया है। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by C A Bhavani Devi (@bhavanideviofficial)

भवानी देवी वास्तव में सभी महिलाओं को आगे बढ़ने की प्रेरणा देने के साथ इस बात की भी एक जीती जागती उदाहरण हैं कि यदि ठान लिया जाए तो कोई भी काम मुश्किल नहीं है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:instagram.com @bhavanideviofficial