Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    बच्‍चों को फूड एलर्जी से बचाते हैं उनके पेट के बैक्‍टीरिया

    क्‍या आप जानती हैं कि हेल्‍दी बच्चों की आंतों में पाए जाने वाले बैक्टीरिया उनको भोजन से होने वाली एलर्जी से बचा सकता है।
    Updated at - 2019-01-24,12:33 IST
    Next
    Article
    healthy child health main

    छोटे बच्‍चे बहुत जल्‍दी फूड एलर्जी का शिकार हो जाती है। डब्लूएचओ के अनुसार बच्‍चों में खाने से होने वाली एलर्जी भी काफी बढ़ गई है। जन्म के समय जिन बच्चों का भार कम होता है, उनमें भी इसकी आशंका अधिक होती है। हालांकि हमारे देश में फूड एलर्जी के आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि इसमें सबसे आम अस्‍थमा, एक्जिमा, त्वचा पर चकत्ते और फूड से संबंधित हैं। ज्‍यादातर बच्चों को अण्डे, दूध, सोया, मूंगफली या गेहूं से एलर्जी हो सकती है।

    इसे जरूर पढ़ें: How To Make Your Child Smart And Active?

    healthy child health inside

    क्‍या कहती है रिसर्च

    लेकिन आप परेशान ना हो क्‍योंकि एक रिसर्च के अनुसार, हेल्‍दी बच्चों की आंतों में पाए जाने वाले बैक्टीरिया उनको भोजन से होने वाली एलर्जी से बचा सकता है। समाचार एजेंसी 'सिन्हुआ' की रिपोर्ट के अनुसार, यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो, आरगॉन नेशनल लेबोरेटरी और इटली स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ नेपल्स फेडेरिको-2 के शोधकर्ताओं ने हाल ही में की गई एक रिसर्च में पाया कि आंतों में मिलने वाली बैक्टीरिया खाने-पीने से बच्चों को होने वाली एलर्जी से काफी हद तक बचाती है।

    रिसर्च का नतीजा

    तकरीबन आठ बच्चों को इस शोध में शामिल किया गया। इनमें से 4 बिल्कुल हेल्‍दी थे और 4 ऐसे थे जिन्हें गाय के दूध से एलर्जी थी। इन बच्चों के पेट के बैक्‍टीरिया को चूहों के समूहों में मल के नमूने के माध्यम से प्रत्यारोपित किया गया। चूहों को पूरी तरह बैक्‍टीरिया व जर्म्‍स रहित वातावरण रखा गया और उनको बच्चों के ही जैसे भोजन दिया गया। शोध के नतीजों में एलर्जी वाले बच्चों से प्राप्त जीवाणु ग्रहण करने वाले चूहों में एनाफिलेक्सिस की शिकायत पाई गई।

    healthy child health inside

    इसे जरूर पढ़ें: प्रेग्नेंसी में सिर्फ ये '1 फूड' खाने से genius बनता है आपका बच्चा

    यह एलर्जी का ऐसा प्रभाव है जिससे जान भी जा सकती है। जर्म्‍स रहित वातावरण में रखे गए चूहे जिनको कोई जीवाणु नहीं दिया गया था उनमें भी गंभीर प्रतिक्रिया पाई गई। लेकिन, जिनको स्वस्थ्य जीवाणु दिए गए थे वे पूरी तरह सुरक्षित पाए गए और उनमें किसी प्रकार की एलर्जी नहीं पाई गई। आरगोन के प्रोफेसर डियोनीसिओस एंटोनोपौलस ने कहा, "हम देखते हैं कि आंत में पाए जाने वाले सूक्ष्मजीवों का गहरा असर होता है जो भोजन के घटकों से होने प्रभाव से बचाता है।"

    Recommended Video

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।