बॉलीवुड एक्‍ट्रेस सोनम कपूर आहूजा फैमिली और करियर के बीच कितनी बिजी और स्‍ट्रेसफूल रहती हैं लेकिन फिर भी हमेशा एनर्जी से भरपूर दिखती हैं। क्‍या आप जानती हैं कि सोनम को डायबिटीज है? जी हां हेल्‍थ फ्रीक मानी जाने वाली सोनम को टाइप-1 डायबिटीज की जानकारी तब हुई थी जब उनकी उम्र सिर्फ 17 साल थी। यूं तो आज डायबिटीज एक आम बीमारी हो गई हैं लेकिन हर किसी को इसके बारे में जानकारी होना बेहद जरूरी है। ताकि इसे आसानी से कंट्रोल करके आप हेल्‍दी लाइफ जी सकें।  

एक नए अध्ययन के अनुसार, डायबिटीज से पीड़ित लोगों को दो नहीं, बल्कि पांच अलग-अलग समूहों में विभाजित किया जा सकता है। वर्तमान में डायबिटीज को दो प्रमुख ग्रुप में विभाजित किया जाता है - टाइप -1 डायबिटीज जो लगभग 10 प्रतिशत मामलों में होता है और टाइप -2 डायबिटीज,  जो 85-90 प्रतिशत मामलों में होता है।

इसे जरूर पढ़ें: मीठे जहर पर लगाम कसने के लिए ladies को रोजाना करने चाहिए ये 5 योगासन

diabetes health fitness INSIDE

क्‍या कहती है रिसर्च

टाइप -1 डायबिटीज, जो आमतौर पर बचपन में विकसित होता है, एक ऑटोइम्यून कंडीशन है, जहां अग्न्याशय बहुत कम या बिल्‍कुल इंसुलिन नहीं बनाता है। जबकि टाइप -2 डायबिटीज में, बॉडी हार्मोन इंसुलिन का अच्छी तरह से इस्‍तेमाल नहीं कर पाती है और ब्‍लड शुगर को नॉर्मल बनाए रखने में असमर्थ होती है। द लैंसेट डायबिटीज एंड एंडोक्रिनोलॉजी पत्रिका में प्रकाशित नए अध्ययन से पता चला है कि वास्‍तव में टाइप -2 डायबिटीज में भी कई उपसमूह होते हैं। ये निष्कर्ष ANDIS के प्रारंभिक परिणामों पर आधारित हैं - दक्षिणी स्वीडन में सभी नव निदान डायबिटीज रोगियों को कवर करने वाला एक अध्ययन।

बेहतर उपचार विकल्पों की है जरूरत

"यह डायबिटीज के व्यक्तिगत उपचार की दिशा में पहला कदम है," स्वीडन में लुंड यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर लीफ ग्रूप ने कहा। आज, दुनिया भर में लगभग 425 मिलियन लोगों को डायबिटीज है। 2045 तक यह संख्या बढ़कर 629 मिलियन होने की उम्मीद है। इससे किडनी फेल्‍योर, रेटिनोपैथी (आंखों की क्षति) और हार्ट रोग होने की संभावना बढ़ जाती है जिससे समाज की बड़ी लागत लगने के साथ-साथ व्यक्तिगत पीड़ा महसूस होती है। इसलिए हमें नए और बेहतर उपचार विकल्पों की जरूरत है।

diabetes health fitness INSIDE

अध्ययन शुरू करने वाले ग्रूप ने बताया, "डायबिटीज के वर्तमान निदान और वर्गीकरण भविष्य की जटिलताओं या ट्रीटमेंट का अनुमान लगाने में असमर्थ और सही नहीं हैं।" उनका मानना है कि परिणाम भविष्य में बीमारी को देखने के तरीके में बदलाव का प्रतिनिधित्व करते हैं।

पांच अलग-अलग समूह

"आज, निदान ब्‍लड शुगर को मापने के द्वारा किया जाता है। एक और सटीक निदान ANDIS-ऑल न्यू डायबिटीज इन स्केन (स्वीडन में) के लिए जिम्मेदार कारकों पर विचार करके किया जा सकता है," ग्रूप ने कहा। 2008 के बाद से, शोधकर्ताओं ने 18 से 97 वर्ष के बीच लगभग 13,700 नव निदान रोगियों की निगरानी की है। उदाहरण के लिए, इंसुलिन प्रतिरोध, इंसुलिन स्राव, ब्‍लड शुगर के लेवल और बीमारी की शुरुआत में उम्र के माप को मिलाकर, शोधकर्ताओं ने पांच अलग-अलग समूहों में बांटा था।

diabetes health fitness

Group 1, गंभीर ऑटोइम्यून डायबिटीज, अनिवार्य रूप से टाइप -1 डायबिटीज से मेल खाता है और इसकी शुरुआत कम उम्र, खराब मेटाबॉलिक और बिगड़े इंसुलिन के कारण होता है।
Group 2, गंभीर इंसुलिन की कमी वाले डायबिटीज में बिगड़ा हुआ इंसुलिन स्राव और मध्यम इंसुलिन प्रतिरोध वाले व्यक्ति शामिल हैं।
Group 3, गंभीर इंसुलिन प्रतिरोधी डायबिटीज मोटापे और गंभीर इंसुलिन प्रतिरोध की विशेषता है।
Group 4, हल्के मोटापे से संबंधित डायबिटीज में मोटे रोगी शामिल हैं जो अपेक्षाकृत कम उम्र में बीमार पड़ जाते हैं।
Group 5, माइल्‍ड उम्र से संबंधित डायबिटीज सबसे बड़ा ग्रुप है और इसमें अधिकांश बुजुर्ग मरीज शामिल हैं।

"सबसे अधिक इंसुलिन प्रतिरोधी रोगियों (ग्रुप-3) को नए डायग्नॉस्टिक्स से सबसे अधिक फायदा होता है क्योंकि वे वही होते हैं जो वर्तमान में सबसे गलत तरीके से इलाज किए जाते हैं," ग्रूप ने कहा। शोधकर्ताओं ने बाद में स्वीडन और फिनलैंड से एक और तीन अध्ययनों में विश्लेषण को दोहराया। ग्रूप ने कहा, "परिणाम हमारी अपेक्षाओं से अधिक है और ANDIS से विश्लेषण के अनुरूप है।"