बॉलीवुड की हार्डवर्किंग एक्‍ट्रेस की लिस्‍ट में जैकलिन का नाम भी शुमार है। मगर यही हार्डवर्क जैकलीन को भारी पड़ गया है। दरअसल जैकलीन आजकल अपनी अपकमिंग फिल्‍म रेस 3 की शूटिंग में काफी बिजी हैं और इस फिल्‍म के लिए वह काफी हार्डवर्क कर रही हैं। मगर बीते दिनों इस फिल्‍म के लिए शूट हो रहे एक सीन के दौरान जैकलीन की आंखों पर चोट लग गई थी। उनका इलाज भी चल रहा था मगर जैकलीन ने इंस्‍टाग्राम पर एक फोटो अपडेट करते हुए कहा है अब उनकी आंखें खराब हो चुकी हैं और उनके कभी ठीक होने की कोई गुंजाइश भी नहीं हैं।

Read More: रेस 3 की एक्ट्रेस जैकलिन को किसने किया KISS कि लोगों ने कह दिया "फोकट की पब्लिसिटी"

Race  actress Jacqueline Fernandez got permanent injury in her eyes

आंखों में क्‍या हुआ 

जैकलिन की आंखों की पुतली में चोट आगई थी इससे उनकी पुतली का शेप बिगड़ गया है। हालाकि इससे उनकी आंखों की रौशनी में कोई फर्क नहीं पड़ा मगर चोट ज्‍यादा होती तो आंखों की रौशनी भी जा सकती थी। खैर, चोट लगने से जैकलिन की आंखों की पुतली का शेप बिगड़ गया है और डॉक्‍टरों के मुताबिक अब यह कभी ठीक भी नहीं होगा। 

कैसे लगी चोट 

शूटिंग के दौरान जब जैकलिन का चोट लगी थी तब फिल्‍म के प्रोड्यूसर रमेश तौरानी ने एक स्‍टेटमेंट देते हुए कहा था कि, ‘जै‍कलिन बहुत ही महनती हैं। फिल्‍म में उन्‍होंने कई स्‍टंट किए हैं। मगर स्‍क्‍वैश खेलते वक्‍त उनकी आंख के ऊपर छोटी-सी चोट लग गई है। मगर अब वह बिलकुल ठीक हैं।’ मगर जैकलिन की आंखों पर लगी चोट का असर उनकी आंखों की पुतली पर हुआ है और इस वजह से उसका शेप गोल से बिगड़ कर अलग हो गया है। चोट लगने की वजह से अब यह शेप वापिस कभी गोल नहीं हो सकता । जैकलिन ने फोटो शेयर करने के साथ कैप्शन में लिखा, 'यह एक पर्मानेंट इंजरी है और मेरी आंख की पुतली अब फिर कभी पहले के जैसी गोल नहीं हो पाएगी। मगर बड़ी बात है कि मैं आज भी देख पा रही हूं।' 

Race  actress Jacqueline Fernandez got permanent injury in her eyes

फिल्‍म में जैकलिन की है मुख्‍य भूमिका 

इस फिल्‍म में जैकलिन अपनी अभी तक आईं सभी फिल्‍मों से एक दम अलग रोल में दिखेंगी। इस फिल्‍म में वह तीसरी बार सलमान खान के साथ काम करती नजर आएंगी। इससे पहले जैकलीन सलमान खान के साथ किक 2 में दिखाई दी थीं। यह फिल्म इस शुक्रवार ईद के मौके पर 15 जून को रिलीज हो रही है।

  • Anuradha Gupta
  • Her Zindagi Editorial