जिन बच्चों में जन्म के समय हार्ट संबंधी प्रॉब्लम होती है उनकी माताओं में हार्ट संबंधी रोगों का खतरा बढ़ सकता है। यह बात हम नहीं कह रहे बल्कि एक नई रिसर्च से ये बात सामने आई हैं। आइए हमारे साथ आप भी इसके बारे में विस्तार से जानकारी लें।

जन्मजात हृदय संबंधी दोष के साथ शिशुओं को जन्म देने वाली महिलाओं की बाद की लाइफ में हार्ट अटैक, हार्ट फेलियर सहित, हार्ट की समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है, ये चेतावनी एक नए अध्ययन ने दी है। हेल्थकेयर प्रदाता, जैसे obstetricians, जो बच्चों के दिल के दोष से निपटने के लिए शुरुआती स्टेज में माताओं को फॉलो और ट्रीट करते हैं, इससे महिलाओं को अपने जोखिम को समझने और कम करने में हेल्प मिलती हैं।

क्रिटिकल हृदय दोष वाले शिशुओं की देखभाल मनोवैज्ञानिक और वित्तीय स्ट्रेस से जुड़ा है, जो माताओं में कार्डियोवैस्कुओलर डिजीज के दीर्घकालिक जोखिम को बढ़ा सकता है। शोधकर्ताओं ने पाया कि जन्म‍जात हृदय विकारों के बिना जन्मे शिशुओं की तुलना में, हृदय दोष से जन्मे बच्चों की माताओं में हृदय संबंधी किसी भी समस्या के कारण हॉस्पिटल में भर्ती होने का जोखिम 43 प्रतिशत ज्यादा होता है।

Read more: पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को ज्‍यादा परेशान करता है heart disease
mother and child health in
Image Courtesy: Imagebazar.com

क्‍या कहती है रिसर्च

एक लाख से अधिक महिलाओं पर हुए अध्ययन में महिलाओं में हृदय संबंधी किसी भी हार्ट हॉस्पिटल में भर्ती होने का 24% अधिक जोखिम भी दिखाया गया था, जिनकी शिशुओं में गैर-महत्वपूर्ण दोष थे।

जर्नल सर्कुलेशन में प्रकाशित शोध में शोधकर्ताओं ने उन महिलाओं के आंकड़ों का विश्लेषण किया, जिन्होंने 1989 से 2013 के बीच क्यूबेक, कनाडा में शिशुओं को जन्म दिया था जिनमें क्रिटिकल, नॉन क्रिटिकल या कोई हृदय दोष नहीं था। उन्होंने गर्भावस्था के 25 सालों के बाद महिलाओं को हार्ट अटैक, हार्ट फेलियर, एथरोस्क्लोरोटिक डिस्‍ऑर्डर और हार्ट ट्रांसप्लाट सहित हार्ट रोग के चलते हॉस्पिटल में भर्ती होने को ट्रैक किया।

रिसर्च के परिणाम

क्यूबेक में मॉन्ट्रियल हॉस्पिटल रिसर्च सेंटर के यूनिवर्सिटी के अध्ययन के मुख्य लेखक नथाली आइगर ने कहा, "महत्वपूर्ण हृदय दोष वाले शिशुओं की देखभाल मनोसामाजिक और वित्तीय तनाव से जुड़ी है, जो माताओं के लिए हार्ट रोग के दीर्घकालिक जोखिम को बढ़ा सकती है।"

इस अध्ययन से पता चलता है कि आनुवंशिक घटक को बाहर नहीं किया जा सकता है, लेकिन देखभाल करने वालों पर जन्मजात हृदय रोग के मनोवैज्ञानिक प्रभाव का दीर्घकालिक प्रभाव हो सकता है, क्योंकि दिल की खामियों वाले 85 प्रतिशत शिशुओं को अब पिछले किशोरावस्था तक जीवित रहना है। शोधकर्ताओं का मानना है कि अध्ययन में इन माताओं में हार्ट डिजीज की रोकथाम के जोखिम को कम करने के लिए प्रारंभिक रोकथाम रणनीतियों और परामर्श से लाभ प्राप्त करने का एक अवसर प्रदान किया गया है - जो महिलाओं में मौत का प्रमुख कारण है।

 

Read more: ड्राई फ्रूट्स खाएं दिल के रोग और कैंसर के खतरे को दूर भगाएं