यह बात तो सभी जानते हैं कि शरीर को साफ रखना बेहद जरूरी होता है। खासतौर पर गर्मियों के मौसम में आपको शरीर की सफाई पर अधिक ध्‍यान देना चाहिए क्‍योंकि इस मौसम में पसीने की चिपचिपाहट और धूल-मिट्टी के त्‍वचा पर जमने के कारण कई प्रकार के रोग और संक्रमण होने का खतरा रहता है। इन्‍हीं में से एक समस्‍या फोड़ा-फुंसी की होती है। वैसे तो यह किसी भी मौसम में हो सकती है, मगर गर्मियों और बारिश के मौसम में यह सबसे अधिक होती है। 

फोड़ा-फुंसी होने के कई कारण हो सकते हैं, मगर यदि इसके शुरुआती लक्षण दिखने पर ही उपचार शुरू कर दिया जाए तो इसके गंभीर परिणाम कम नजर आते हैं। यदि आप भी इस समस्‍या से जूझ रहें है तो कुछ आसान और असरदार घरेलू नुस्‍खों को अपना सकते हैं। 

natural cure of boils

हल्‍दी 

फायदा- हल्‍दी एंटीबैक्‍टीरियल और एंटीइंफ्लेमेटरी होती है। इसे फोड़े-फुंसी पर लगा कर आप उसकी सूजन को कम कर सकते हैं। 

सामग्री 

  • 1 छोटा चम्‍मच हल्‍दी 
  • 1/2 छोटा चम्‍मच दूध 

विधि 

  • हल्‍दी पाउडर और दूध को मिक्‍स करें। 
  • पेस्‍ट को थोड़ा गाढ़ा रखें। 
  • जहां पर आपको फोड़ा-फुंसी की समस्‍या हुई है, उस स्‍थान पर इसे लगा लें। 

टिप- दिनभर में 2 से 3 बार इस पेस्‍ट को जरूर लगाएं। हो सके तो रात में सोने से पहले इसे लगाएं और रातभर लगा रहने दें। 

नीम और तुलसी 

फायदा- नीम और तुलसी को आयुर्वेद में बहुत महत्‍वपूर्ण बताया गया है और इनमें औषधीय गुण होते हैं। इससे भी फोड़ा-फुंसी की समस्‍या ठीक हो सकती है। 

सामग्री 

  • 1 बड़ा चम्‍मच नीम का पेस्‍ट 
  • 1 छोटा चम्‍मच तुलसी का पेस्‍ट 
  • चुटकीभर हल्‍दी 

विधि 

  • ताजी तुलसी और नीम की पत्‍ती को पीस लें। 
  • इसके पेस्‍ट में थोड़ी सी हल्‍दी डालें। 
  • इस मिश्रण को प्रभावित स्‍थान पर लगा लें। 
  • 20 मिनट बाद जब पेस्‍ट सूख जाए तो पानी से उस स्‍थान का साफ कर लें। 
  • दिन में लगभग 2-3 बार इस घरेलू नुस्‍खे को जरूर आजमाएं। 

टिप-अगर आप चाहें तो करी पत्‍ते का भी इस्‍मेमाल कर सकती हैं। उससे भी आपको फायदा मिलेगा। 

bumps and boils on body

लौंग और नारियल का तेल 

फायदा- अगर फोड़े-फुंसी होने की शुरुआत है और प्रभावित स्‍थान पर लालपन, सूजन और दर्द है तो आप एंटी माइक्रोबियल गुणों से भरपूर लौंग के तेल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। 

सामग्री 

  • 1 छोटा चम्‍मच नारियल का तेल 
  • 5 बूंद लौंग का तेल 

विधि 

  • एक बाउल में लौंग और नारियल के तेल को मिक्‍स कर लें। 
  • अब इस तेल में रूई को डिप करें और प्रभावित स्‍थान पर लगा लें। 
  • ऐसा दिन में 3-4 बार करें। इससे आपको बहुत फायदा मिलेगा। 

टिप- लौंग के तेल को डायरेक्‍ट स्किन पर मत लगाएं। इसे नारियल या ऑलिव ऑयल में मिक्‍स करके ही लगाएं। 

सेंधा नमक और बेकिंग सोडा 

फायदा- बेकिंग सोडा और सेंधा नमक, दोनों ही फोड़े-फुंसी की इंफ्लेमेशन को कम करते हैं। 

सामग्री 

  • 1 छोटा चम्‍मच सेंधा नमक
  • 1 छोटा चम्‍मच बेकिंग सोडा 
  • 1 कप पानी 

विधि 

  • एक कप गरम पानी में बेकिंग सोडा और नमक को मिक्‍स कर लें। 
  • अब इस पानी में कॉटन को डिप करें और उससे प्रभावित स्‍थान की सिकाई करें। 
  • आप 20 से 25 मिनट तक ऐसा दिन में 2-3 बार करें। 
  • इससे इंफ्लामेशन कम होगी और फोड़े में भरा पस आसानी से बाहर निकल आएगा। 

टिप- अगर आप चाहें तो केवल सेंधा नमक के पानी से ही सिकाई कर सकती हैं। उसमें बेकिंग सोडा नहीं डालना चाहती हैं तो कोई समस्‍या नहीं है।  

how to get rid of boils

अनार का छिलका 

फायदा- अनार के छिलके में एंटीबैक्‍टीरियल प्रॉपर्टीज होती हैं, इसलिए फोड़े-फुंसी की समस्‍या में यह राहत पहुंचाता है। 

सामग्री 

  • 1 छोटा चम्‍मच अनार के छिलके का पाउडर 
  • 1 छोटा चम्‍मच नारियल का तेल 

विधि 

  • अनार छीलने के बाद इसके छिलके को फेकें नहीं बल्कि धूप में सुखा लें। 
  • छिलके के सूख जाने पर उसका पाउडर तैयार कर लें। 
  • अब इस पाउडर में नारियल का तेल मिक्‍स करें। 
  • इसके बाद आप इस मिश्रण को प्रभावित स्‍थान पर लगा लें। 

Recommended Video

टिप- अनार के छिलके के पाउडर के साथ नारियल के तेल को मिलाने की जगह आप नींबू का रस भी मिला सकते हैं। मगर ध्‍यान रखें कि इसे आपको कुछ समय के लिए छरछराहट होगी। 

यह जानकारी आपको अच्‍छी लगी हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें, साथ ही और भी घरेलू नुस्‍खे पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

Image Credit: Freepik