यूट्रस (गर्भाशय ग्रीवा) के मुंह के कैंसर को सर्वाइकल कैंसर के रूप में जाना जाता है। स्क्रीनिंग टेस्‍ट की मदद से, सर्वाइकल कैंसर का समय पर निदान किया जा सकता है और प्रभावी तरीके से इलाज किया जा सकता है। सर्वाइकल कैंसर के मामलों में देखे जाने वाले कुछ विशिष्ट लक्षण इस प्रकार हैं:

  • असामान्य और अनियमित ब्‍लीडिंग: ऐसी ब्‍ल‍ीडिंग तब होती है जब उम्मीद नहीं की जाती है; जैसे पीरियड्स के बीच में, मेनोपॉज के बाद या संभोग के बाद। वेजाइनल डिस्‍चार्ज, जो दिखने में असामान्य और गंध या मात्रा में अधिक होता है।
  • मानव पैपिलोमावायरस (एचपीवी) के कारण सर्वाइकल कैंसर हमेशा इंफेक्‍शन से जुड़ा होता है। 
  • एचपीवी इंफेक्‍शन सेक्शुअली ट्रांसमिटेड है और यूट्रस, वेजाइना, वुल्‍वा, गुदा, लिंग और गले के कैंसर से जुड़ा हुआ है। 

एचपीवी वायरस के कई अलग-अलग उपप्रकार हैं। इनमें से, केवल कुछ उपप्रकार सर्वाइकल कैंसर से जुड़े हैं। बाकी उपप्रकार सौम्य बीमारी का कारण बनते हैं। एचपीवी -16 और एचपीवी -18 दो प्रकार हैं जो सामान्यतः सर्वाइकल कैंसर का कारण बनते हैं। हालांकि, कैंसर पैदा करने वाले एचपीवी स्ट्रेन से संक्रमित होने का मतलब यह नहीं है कि किसी में निश्चित रूप से सर्वाइकल कैंसर का विकास होगा ही। ह्यूमन पेपिलोमा वायरस एचपीवी वायरस के सभी कैंसर पैदा करने वाले उपभेदों को खत्म करने के लिए पर्याप्त है, ज्यादातर मामलों में दो साल के भीतर।

cervical cancer INSIDE

सर्वाइकल कैंसर के स्क्रीनिंग टेस्ट

ऐसे कई तरीके हैं जिनसे सर्वाइकल कैंसर का पता लगाया जा सकता है। सर्वाइकल कैंसर के लिए कई स्क्रीनिंग टेस्ट हैं जैसे: 

  • पैप स्मीयर
  • एचपीवी डीएनए टेस्‍ट  
  • सर्विक्‍स का विजुअल इंस्‍पेक्‍शन

कोलपोस्कोपी एक ऐसी तकनीक है जिसमें एक कोलपोस्कोप का इस्‍तेमाल करके सर्विक्‍स की जांच की जाती है और असामान्य हिस्‍सों को चिह्नित किया जाता है ताकि प्रभावित हिस्‍से से बायोप्सी ली जा सके।

Recommended Video

सर्वाइकल कैंसर के उपचार विकल्‍प

  • वे दिन गए जब कैंसर एक घातक बीमारी हुआ करती थी। आज, इस बीमारी के सफल उपचार के लिए बहुत सारे उपचार विकल्प उपलब्ध हैं। जैसे:
  • सर्जरी: सर्जरी में लिम्फ नोड्स के साथ यूट्रस, सर्विक्‍स, और अक्सर ट्यूब और ओवरी को निकालना शामिल होता है।
  • रेडिएशन थेरेपी: इस प्रक्रिया में हाई एनर्जी एक्स-रे बीम का इस्‍तेमाल किया जाता है, जो कैंसर सेल्‍स को मारने में मदद करती है। 
  • कीमोथेरेपी: इस प्रक्रिया में दवाओं और दवा का उपयोग शरीर में मौजूद कैंसर सेल्‍स को मारने के लिए किया जाता है।
  • सर्वाइकल कैंसर को काफी हद तक रोका जा सकता है। एचपीवी इंफेक्‍शन को रोकने वाले इंजेक्‍शन लेने से इसकी रोकथाम की जाती है। रेगुलर स्क्रीनिंग की मदद से शुरुआती पहचान भी संभव है।

 डॉक्‍टर सरिता भालेराव (Obstetrician and Gynaecologist at Breach Candy, Saifee, Reliance, HNH Hospitals Mumbai, Vice President at The Mumbai Obstetric and Gynaecological Society) को उनकी एक्सपर्ट सलाह के लिए धन्यवाद।

References

https://www.healthline.com/health/cervical-cancer