क्‍या आपके चेहरे पर बाल हैं?
आपको मुंहासों की समस्‍या भी होने लगी है?
और कुछ दिनों से आपके बाल झड़ने लगे है?
या आपको प्रेग्‍नेंसी में परेशानी हो रही है?
और आपका वजन भी बढ़ने लगा हैं तो ये पीसीओएस के लक्षण हो सकते हैं। महिला की बॉडी में हार्मोन असंतुलन के कारण पीसीओएस की समस्‍या होती है जिसमें पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं। जी हां पीसीओएस महिलाओं में होने वाली एक ऐसी समस्या हैं जिसमें ओवरी में सिस्ट आ जाते है। हार्मोन में गड़बड़ी इस बीमारी का अहम कारण हैं। लेकिन कई बार यह बीमारी जे‍नेटिक भी हो सकती है। इसके अलावा खराब लाइफस्‍टाइल, एक्‍सरसाइज की कमी, खान-पान की गलत आदतें भी इसका बहुत बड़ा कारण है। हालांकि इस प्रॉब्‍लम के बारे मे जानने के लिए और बहुत कुछ है, लेकिन कोई भी इस बारे मे चर्चा नही करना चाहता। आइए पीसीओएस से जुड़ी ऐसी ही कुछ तथ्‍यों के बारे में जानते है, जिनके बारे में महिलाओं को जानकारी नही है। जबकि हर महिला के लिए इसके बारे में जानना बेहद जरूरी होता है।

इसे जरूर पढ़ें: लड़कियों को क्‍यों इतना सता रही है PCOS की समस्या? जानें

PCOS health women inside

रेगुलर चेकअप है जरूरी

पीसीओएस महिलाओं में पाई जाने वाली आम समस्‍या है। लेकिन इसका निदान आसानी से नहीं होता है। इसलिए एक ही चेकअप इसके लिए पर्याप्त नहीं हो सकता है। इसलिए अगर आपको पीसीओएस के लक्षण जैसे अनियमित पीरियड, चेहरे पर बाल, मूड में बदलाव और बालों का झड़ना आदि लक्षण दिखें तो रेगुलर अपना चेकअप करवाए।

दवा लेना है जरूरी

अक्‍सर महिलाएं पीसीओएस की समस्‍या होने पर शर्म महसूस करती हैं और डॉक्‍टर के पास इलाज के लिए नहीं जाती हैं। लेकिन समस्या के लक्षणों के दिखने पर डॉक्‍टर से सलाह लेना बेहद जरूरी है। सही और रेगुलर दवा लेकर और हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल से आप पीसीओएस की समस्या को आसानी से कंट्रोल और रोक सकती हैं।

PCOS health women

अन्‍य अंगों को भी करता है प्रभावित

अगर पीसीओएस की समस्‍या को सही तरीके से मैनेज नहीं किया जाए तो यह भविष्‍य में हार्ट डिजीज से लेकर टाइप-2 डायबिटीज और यहां तक कि एंडोमेट्रियल कैंसर तक कई हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स का कारण बन सकता है। इसलिए इसके लक्षणों के दिखने पर तुरंत डॉक्‍टर के पास जाए त‍ाकि आप इसे अच्‍छे से कंट्रोल करके भविष्‍य में होने समस्‍याओं से बच सकें।

डिप्रेशन के लिए जिम्‍मेदार

कई महिलाओं को इस बारे में जानकारी नहीं हैं कि डिप्रेशन भी पीसीओएस का एक लक्षण है। इसलिए अगर आपको नींद नहीं आती है, खाने और आराम में दिक्कत महसूस होती है, या आपको हर समय डिप्रेस महसूस करती हैं तो तुरंत अपने डॉक्‍टर से परामर्श करें क्‍योंकि यह डिप्रेशन का शुरुआती लक्षण हो सकता है।

pcos facts health inside

प्रेग्‍नेंट हो सकती हैं आप

ज्‍यादातर महिलाओं के मन में इस बात को लेकर चिंता बनी रहती है कि पीसीओएस की समस्या होने पर वह प्रेग्‍नेंट नहीं हो पाएंगी। लेकिन आपको बता दें कि  पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं में प्रेग्‍नेंट होने में कठिनाई हो सकती है लेकिन वह प्रेग्‍नेंट ना हो ऐसा नहीं होता है।

इसे जरूर पढ़ें: पीसीओडी से हैं परेशान तो एक्‍सपर्ट की इस हेल्‍दी डाइट को फॉलो करें और वजन घटाएं



पीसीओएस के ट्रीटमेंट में रेगुलर दवा, डाइट और एक्‍सरसाइज की प्रमुख भूमिका होती है। जी हां प्रोटीन युक्त डाइट और लहसुन, अदरक और तुलसी जैसे हर्ब्‍स इंसुलिन लेवल को बनाए रखने में हेल्‍प करते हैं। साथ ही रेगुलर 30 मिनट की वॉक न केवल पीसीओएस को कंट्रोल करने बल्कि एक हेल्‍दी लाइफस्टाइल को बनाए रखने में आपकी हेल्‍प करती हैं।